S M L

लालू का नीतीश पर वार: नीतीश पर कोई पार्टी विश्वास नहीं करेगी

लालू की पटना में बुलाई रैली को विपक्षी एकता के तौर पर देखा जा रहा है

Updated On: Aug 27, 2017 07:16 PM IST

FP Staff

0
लालू का नीतीश पर वार: नीतीश पर कोई पार्टी विश्वास नहीं करेगी

पटना में लालू यादव की पार्टी राष्ट्रीय जनता दल ने रविवार को महारैली का आयोजन किया. इस रैली को देश की विपक्षी एकता के तौर पर पेश किया गया. लालू की बुलाई रैली में जनता दल यूनाइटेड के बागी नेता शरद यादव समेत पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, गुलाम नबी आजाद, अखिलेश यादव, हेमंत सोरेन, बाबूलाल मरांडी, जयंत चौधरी सरीखे नेता शामिल हुए.

आरजेडी की इस रैली में मंच पर एक साथ 6 पूर्व मुख्यमंत्रियों का जमावड़ा लगा.

लालू यादव की रैली की बड़ी बाते

- आरजेडी अध्यक्ष लालू यादव ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर तीखा हमला किया. लालू ने नीतीश को धोखेबाज और पलटीमार नेता करार दिया. लालू ने कहा कि- दिल्ली की बीजेपी सरकार को गद्दी से उतारने के लिए 2015 में हमने भारी मन से गठबंधन किया था. हम जानते थे कि नीतीश कुमार ठीक आदमी नहीं है लेकिन हमारे पास कोई और रास्ता नहीं था.

लालू ने कहा कि बिहार में एनडीए के जो भी बड़े नेता हैं, वो सभी हमारे प्रोडक्ट हैं. नीतीश जैसा दल-बदलू आज तक हमने नहीं देखा. नीतीश कुमार ने ये आखिरी पलटी मारी है, अब उनपर कोई भी दल विश्वास नहीं करेगा. नीतीश पहले संघ मुक्त का नारा देते थे लेकिन अब संघ की गोद में जाकर बैठ गए हैं. नीतीश कुमार बिहार की राजनीति में तेजस्वी यादव के बढ़ते कद से परेशान हो रहे थे. उन्हें इससे खतरा था. उन्हें तेजस्वी से जलन है.

- जनता दल यूनाइटेड के बागी नेता शरद यादव ने अपने भाषण में कहा कि बिहार से शुरु हुई लड़ाई मैं देश भर में लेकर जाऊंगा. नौजवानों से अपील है कि देश को अच्छा और सुंदर बनाना आपके हाथ में है. नया हिंदुस्तान बनाना है. बिहार के गरीब लोगों ने इंकलाब किया. लोकतंत्र सच्ची बोली से चलता है. मैं हमेशा गरीबों और किसानों के साथ खड़ा रहा.

Mamata Banerjee with Lalu Yadav

लालू यादव रैली के मंच पर ममता बनर्जी और अखिलेश यादव के साथ (फोटो : पीटीआई)

शरद यादव ने कहा कि जिन लोगों ने बिहार में गठबंधन तोड़ा है, मैं उन्हें संदेश देना चाहता हूं कि देश के अंदर 125 करोड़ लोगों का गठबंधन बनेगा. बिहार की जनता ने महागठबंधन को जनादेश दिया था लेकिन नीतीश कुमार ने बीजेपी के साथ मिलकर उन्हें धोखा देने का काम किया है. पूरे देश की ओर से बिहार में संग्राम सभा रखी गई है. 70 साल की आजादी के बाद भी बिहार में 440 लोग बाढ़ में डूबकर मर रहे हैं.

शरद यादव जिस समय लालू की रैली में हिस्सा हो रहे थे उसी समय जनता दल यूनाइटेड के प्रवक्ता ने शाम तक उन्हें पार्टी से बर्खास्त करने किए जाने की बात कही.

- ममता बनर्जी ने अपने संबोधन में केंद्र सरकार पर हमलावर होते हुए कहा कि आवाज उठाने पर केंद्र सरकार जेल में डाल देती है. लालू यादव के साथ देश की सभी विपक्षी पार्टियां खड़ी हैं. केंद्र सरकार लालू यादव को CBI का खौफ दिखा रही है. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ने नीतीश कुमार पर कहा कि जो धोखा देता है बाद में भगवान उसको धोखा देते हैं. नीतीश कुमार ने लालू यादव को छोड़ा है, लालू यादव ने नीतीश को नहीं छोड़ा है.

- अखिलेश यादव ने मंच से कहा कि 'न्‍यू इंडिया' वाले लोग पता नहीं कौन सा भारत बनाने चाहते हैं. हम तो किसानों और नौजवानों का भारत बनाना चाहते हैं. अखिलेश ने बिहार की नीतीश सरकार पर भी हमला किया तथा उन्‍हें डीएनए वाले चचा कहकर तंज कसा.

अखिलेश ने कहा कि हम देश इसलिए बचाना चाहते हैं, क्‍योंकि बीजेपी सरकार ने देश को पीछे कर दिया है. गरीबों और किसानों को सबसे अधिक परेशानी हुई है. तीन साल बीत गये, अब तो समझा दो कि 'अच्‍छे दिन' कब आयेंगे.

- झारखंड मुक्ति मोर्चा के अध्यक्ष और झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने रैली में कहा कि बिहार कई परेशानियों से गुजर रहा है. बीजेपी शासनकाल में पूरा देश इस समय बेरोजगारी के दौर से गुजर रहा है. नोटबंदी में जनता का पैसा निकलवाकर बैंकों में डलवा लिया और देश भर की जनता को सड़क पर ला खड़ा किया है.

लालू की रैली में सोनिया गांधी और राहुल गांधी शरीक नहीं हुए लेकिन उनकी तरफ से कांग्रेस के सीनियर लीडर गुलाम नबी आजाद और सीपी जोशी रैली में पहुंचे. रैली के मंच से सोनिया गांधी का रिकॉर्डेड संदेश सुनाया गया जबकि, बिहार पीसीसी अध्यक्ष अशोक चौधरी ने माइक पर राहुल गांधी का लिखा संदेश पढ़ा.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi