S M L

जाधव के मामले में पाकिस्तान ने नहीं किया है समझौते का उल्लंघन: पाक हाई कमीशनर

भारत ने 46 वर्षीय जाधव को राजनयिक संपर्क के लिए 15 बार पाकिस्तान से अनुरोध किया

Updated On: Apr 24, 2017 10:22 PM IST

Bhasha

0
जाधव के मामले में पाकिस्तान ने नहीं किया है समझौते का उल्लंघन: पाक हाई कमीशनर

पाकिस्तान ने सोमवार को भारत की इस बात से इंकार किया कि उसने भारतीय नौसेना के रिटायर्ड अफसर कुलभूषण जाधव को राजनयिक संपर्क की अनुमति नहीं देकर द्विपक्षीय समझौते का उल्लंघन किया है. जाधव को वहां की एक सैन्य अदालत ने मौत की सजा सुनायी है.

भारत ने 46 वर्षीय जाधव को राजनयिक संपर्क के लिए 15 बार पाकिस्तान से अनुरोध किया. जाधव को पाकिस्तान की सैन्य अदालत ने ‘जासूसी और विध्वंस’ का दोषी करार दिया है.

पाकिस्तान के हाई कमीशन अब्दुल बासित ने पीटीआई को दिए साक्षात्कार में कहा कि राजनयिक पहुंच को लेकर हुए द्विपक्षीय समझौते के मुताबिक राजनीति और सुरक्षा से जुड़े मुद्दों को इसके गुण-दोष के आधार पर निर्णय किया जाएगा. उन्होंने संकेत दिया कि राजनयिक पहुंच को हल्के में नहीं लिया जा सकता.

जाधव का ईरान से नहीं हुआ अपहरण 

Kuldeep Jadhav

भारत ने जाधव के जासूस होने के आरोपों को लगातार नकारते हुए कहा है कि पाकिस्तान के अधिकारियों ने ईरान से उनका अपहरण कर लिया जहां वो कानूनी रूप से कारोबार कर रहे थे.

ईरान से जाधव के अपहरण के भारत के दावे को खारिज करते हुए बासित ने कहा कि उन्हें बलूचिस्तान से पकड़ा गया और ‘जासूसी और विध्वंसक गतिविधियों’ के लिए उन पर मुकदमा चला.

उन्होंने यह भी आरोप लगाए कि भारतीय नागरिक कई वर्षों से पाकिस्तान की यात्रा कर रहे थे और उनके पास दो पासपोर्ट थे जिनमें एक फर्जी था.

यह भी पढ़ें: भारत को अभी तक नहीं मुहैया कराए गए जाधव के अदालती दस्तावेज

भारत के दावे पर कि पूरी सुनवाई ‘हास्यास्पद थी और गोपनीय तरीके’ से की गई. पाकिस्तान के हाई कमीशनर ने कहा कि उन पर सैन्य अदालत में मुकदमा चलाया गया क्योंकि सिविल अदालत में मुकदमा चलाना संभव नहीं था.

जाधव को बार-बार राजनयिक पहुंच देने के भारत के आग्रह पर बासित ने कहा, ‘हमारे बीच द्विपक्षीय संबंध हैं जिसमें स्पष्ट कहा गया है कि जो मामले राजनीतिक और सुरक्षा मुद्दों से संबंधित होंगे उन पर गुण-दोष के आधार पर फैसला होना चाहिए.’

जाधव अपीली अदालत जाने के लिए स्वतंत्र 

बासित ने कहा, ‘अभी तक हमने पूरी तरह देश के कानून और भारत के साथ 2008 के द्विपक्षीय समझौते के मुताबिक फैसला किया है. हमने कोई भी उल्लंघन नहीं किया है. हम अपने कानून और द्विपक्षीय दायित्व और प्रतिबद्धता के मुताबिक आगे बढ़ रहे हैं.’

हाई कमीशनर ने पाकिस्तान में अपील की प्रक्रिया का जिक्र करते हुए कहा कि जाधव कभी भी अपीली अदालत में जा सकते हैं और अगर फैसला बरकरार रखा जाता है तो वह पाकिस्तान के सेना प्रमुख और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के समक्ष दया याचिका दायर कर सकते हैं.

यह भी पढ़ें: पाक सेना का अड़ियल रवैया: कुलभूषण यादव तक नहीं देंगे राजनयिक पहुंच

यह पूछने पर कि क्या उनके परिजन उनसे मिल सकते हैं तो बासित ने कहा कि यह कहना ‘जल्दबाजी’ होगा कि मामला कैसे आगे बढ़ रहा है.

मीडिया की इन खबरों के बारे में पूछने पर कि पाकिस्तान के सेवानिवृत्त लेफ्टिनेंट कर्नल मोहम्मद हबीब का अपहरण भारतीय अधिकारियों ने भारत-नेपाल की सीमा के नजदीक किया है, इस पर पाकिस्तान के हाई कमीशनर ने कहा कि उनकी सरकार पाकिस्तानी नागरिक का पता लगाने के लिए नेपाल की सरकार के संपर्क में है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi