S M L

केसीआर और मोदी के बीच मतलब का रिश्ता है, वो चुनाव बाद हाथ मिलाएंगे: जयपाल रेड्डी

केसीआर और बीजेपी के बीच का संबंध राज्य की जनता के सामने है. राज्य में कांग्रेस आसानी से चुनाव जीतेगी

Updated On: Nov 04, 2018 04:15 PM IST

PTI

0
केसीआर और मोदी के बीच मतलब का रिश्ता है, वो चुनाव बाद हाथ मिलाएंगे: जयपाल रेड्डी
Loading...

वरिष्ठ कांग्रेस नेता एस जयपाल रेड्डी ने रविवार को कहा कि तेलंगाना की सत्तारूढ़ पार्टी टीआरएस और बीजेपी के बीच एक 'मतलब रहने पर' गठबंधन होता रहा है. इसको देखते हुए विधानसभा चुनाव के बाद दोनों पार्टियां अंततः हाथ मिला सकती हैं. तेलंगाना में कांग्रेस के सबसे बड़े नेता माने जाने वाले रेड्डी ने खुद को मुख्यमंत्री पद की रेस से बाहर कर लिया है. उन्होंने साफ कहा कि अब उनकी उम्र हो गई है और वो विधानसभा चुनाव भी नहीं लड़ेंगे.

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव की जीत का अनुमान लगाने वाले ओपिनियन पोल को खारिज कर दिया है. साथ ही उन्होंने कहा कि राज्य में कांग्रेस के पक्ष में भीतरी लहर है और उनकी जीत पक्की है. राज्य में 7 दिसंबर को होने वाले चुनावों के लिए कांग्रेस, तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी), तेलंगाना जन समिति (टीजेएस) और कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया (सीपीआई) ने गठबंधन बना लिया है. और अभी वो लोग सीटों के बंटवारे पर बातचीत कर रहे हैं.

उन्होंने कहा कि चंद्रबाबू नायडू के नेतृत्व वाली टीडीपी के साथ कांग्रेस के गठबंधन की पुष्टि हुई है. जबकि सीपीआई और टीजेएस के साथ बातचीत चल रही है. रेड्डी ने आरोप लगाया कि 'प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और केसीआर के बीच पहले से ही अच्छा तालमेल है.'

बीजेपी को 6-7 सीटें ही मिलेंगी:

जब रेड्डी से यह पूछा गया कि क्या चुनाव के बाद टीआरएस और बीजेपी के हाथ मिलाने की संभावना है. इस पर उन्होंने कहा, 'इस बात की सौ प्रतिशत संभावना है. क्योंकि केसीआर को 50 प्रतिशत सीट मिलने का कोई सवाल ही नहीं है. अब इस तथ्य को देखते हुए कि बीजेपी तेलंगाना में अपने आप 6-7 सीटें ही ला सकती है, तो वह बीजेपी और एआईएमआईएम दोनों की तरफ हाथ बढ़ा सकते हैं.'

फोटो एएनआई से

फोटो एएनआई से

उन्होंने कहा, 'उस स्थिति में, मुझे लगता है कि एआईएमआईएम डर जाएगी.'

हालांकि, रेड्डी ने इस बात पर भी जोर दिया कि ऐसी स्थिति नहीं आएगी. क्योंकि कांग्रेस 'सरकार बनाने के लिए पर्याप्त संख्या में सीटें' ले आएगी. यह पूछे जाने पर कि क्या वह टीआरएस और बीजेपी के बीच गठबंधन की बात कह रहे हैं. तो रेड्डी ने कहा, 'दोनों के बीच का गठबंधन तेलंगाना के मतदाताओं के सामने साफ है. और ये मतलब पड़ते ही होने वाला गठजोड़ है.'

केसीआर द्वारा कांग्रेस पर लगातार हमला करते हुए राहुल गांधी को जोकर कहने पर रेड्डी ने कहा कि ऐसे शब्दों का उपयोग करके मुख्यमंत्री बस आत्मविश्वास से लबरेज दिखाना चाहते हैं. लेकिन असल में वो डरे हुए हैं. रेड्डी ने कहा, 'मुझे लगता है कि केसीआर घबरा रहा है. मुझे नहीं लगता कि चुनाव को समय से पहले कराने के अपने फैसले से वो बहुत खुश हैं.'

राज्य में निर्धारित समय से पहले विधानसभा चुनाव कराने के केसीआर के फैसले को जहां कुछ लोग उनके आत्मविश्वास के रूप में देख रहे हैं. तो वहीं कुछ अन्य लोग इसे अगले साल होने वाले आम चुनावों के साथ राज्य चुनाव लड़ने से बचने के प्रयास के रूप में देख रहे हैं. वहीं राज्य चुनाव में खुद को मुख्यमंत्री पद का चेहरा बताने के सवाल पर रेड्डी ने कहा कि- 'मैं बिल्कुल भी दौड़ में नहीं हूं. हो सकता है राज्य में मेरी ईमेज हो लेकिन अब मेरी उम्र हो चुकी है. और अपनी शारीरिक दिक्कतों के अलावा मैं अपनी परिस्थिति का सम्मान करता हूं.'

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi