live
S M L

कठुआ रेप केसः कड़ी सुरक्षा के बीच किशोर आरोपी जज के सामने हुआ पेश

मामले पर अगली सुनवाई के लिए सात मई की तारीख तय की गई है

Updated On: Apr 25, 2018 05:37 PM IST

Bhasha

0
कठुआ रेप केसः कड़ी सुरक्षा के बीच किशोर आरोपी जज के सामने हुआ पेश

कठुआ में आठ साल की बच्ची के बलात्कार और हत्या मामले में हिरासत में लिए गए कथित किशोर को बुधवार को कड़ी सुरक्षा के बीच मजिस्ट्रेट की अदालत में पेश किया गया. आरोपी को उसके खिलाफ दाखिल क्राइम ब्यूरो के चार्ज सीट की प्रति और अन्य अभियोजक दस्तावेज देने के लिए पेश किया गया था. इस दौरान उसका चेहरा ढका हुआ था.

चीफ ज्यूडीशियल मजिस्ट्रेट ए एस लांगेह ने किशोर से पूछा कि क्या उसे चार्ज सीट और अन्य दस्तावेजों की प्रतियां मिली. इस पर उसने हां में जवाब दिया. इसके बाद उसके मामले पर अगली सुनवाई के लिए सात मई की तारीख तय की गई.

न्यायिक मजिस्ट्रेट ने जमानत याचिका कर दी थी खारिज

किशोर आरोपी के वकील ने 10 अप्रैल को क्राइम ब्यूरो द्वारा उसके खिलाफ अलग से चार्ज सीट दायर करने के बाद पिछले सप्ताह उसकी जमानत के लिए अदालत का रूख किया था. किशोर ने अवयस्क होने के आधार पर जमानत मांगी थी लेकिन सीजेएम ने मंगलवार को विभिन्न आधार पर उसकी याचिका खारिज कर दी थी.

क्राइम ब्यूरो के आरोप पत्र के अनुसार , उसने लड़की के अपहरण, बलात्कार और निर्मम हत्या में अहम भूमिका निभाई थी. इस मामले में संलिप्त अन्य आरोपियों में स्थानीय निवासी सांजी राम, उसका बेटा विशाल शर्मा और दो विशेष पुलिस अधिकारी हैं. इस मामले में घूस लेने के बाद दोषियों को बचाने के लिए अहम सबूतों को नष्ट करने के आरोपों पर एक पुलिस सब इंस्पेक्टर और हेड कॉन्स्टेबल को भी पकड़ा गया है.

क्राइम ब्यूरो ने दाखिल किए दो अलग-अलग चार्ज सीट

बता दें कि लड़की जंगल के एक इलाके में घोड़ों को चराते हुए लापता हो गई थी जिसके एक सप्ताह बाद 17 जनवरी को जंगल से उसका शव बरामद किया गया. जम्मू कश्मीर सरकार ने यह मामला क्राइम ब्यूरो को सौंप दिया था जिसने बलात्कार और हत्या के इस मामले की जांच के लिए विशेष जांच दल बनाया था.

इसके बाद क्राइम ब्यूरो ने मामले में दो अलग-अलग चार्ज सीट दाखिल किए थे. इसमें एक चार्ज सीट नौ अप्रैल को सात वयस्क आरोपियों के खिलाफ और दूसरा आरोपपत्र 10 अप्रैल को किशोर आरोपी के खिलाफ दाखिल किया गया.

क्राइम ब्यूरो ने किशोर के खिलाफ दाखिल चार्ज सीट में दावा किया कि चिकित्सा जांच में यह पाया गया कि वह करीब 19 साल का वयस्क है. बहरहाल अदालत ने इस दावे को खारिज कर दिया था.

किशोर आरोपी के खिलाफ दाखिल चार्ज सीट के अनुसार, पढ़ाई छोड़ चुका आरोपी लड़की को उसके लापता घोड़े को ढूंढने में मदद करने की आड़ में उसे एक सुनसान जगह पर ले गया. और उसे एक ‘देवस्थान’ पर बंधक बनाकर रखा जहां उसे नशीले पदार्थ दिए गए. जहां विशाल, उसने और एसपीओ ने निर्मम तरीके से बच्ची की हत्या करने से पहले कई बार उससे बलात्कार किया.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi