S M L

करतारपुर कॉरिडोर: यह एक खतरनाक फैसला है, पाक से किसी को भी आने नहीं देना चाहिए- स्वामी

करतारपुर साहिब कॉरिडोर को खोलने की सरकार के फैसले पर पार्टी के भीतर ही विद्रोह शुरु हो गया

Updated On: Nov 26, 2018 05:04 PM IST

FP Staff

0
करतारपुर कॉरिडोर: यह एक खतरनाक फैसला है, पाक से किसी को भी आने नहीं देना चाहिए- स्वामी

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने आज करतारपुर साहिब कॉरिडोर की आधारशिला रखी. इस मौके पर उप राष्ट्रपति वैंकेया नायडू, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी भी मौजूद थे. कॉरिडोर बनाने का फैसला केंद्र की कैबिनेट द्वारा लिया गया था और पड़ोसी पाकिस्तान ने भी इस कदम का स्वागत किया था. लेकिन बीजेपी के इस कदम की आलोचना पार्टी के अंदर ही होने लगी है.

बीजेपी के वरिष्ठ नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने कॉरिडोर खोलने का विरोध किया है. उन्होंने कहा है- कॉरिडोर एक खतरनाक कदम है. इसका दुरुपयोग किया जा सकता है. क्योंकि हमारे यहां कोई उचित जांच व्यवस्था नहीं है. बस पासपोर्ट दिखाना ही पर्याप्त नहीं है. आप चांदनी चौक में 250 रुपए देकर पासपोर्ट बनवा सकते हैं. लोगों को 6 महीने पहले पंजीकरण करना चाहिए. और हमें पाकिस्तान से लोगों को यहां आने की इजाजत नहीं देनी चाहिए.

सिख श्रद्धालुओं के लिए इस गलियारे के रास्ते पाकिस्तान स्थित ऐतिहासिक गुरुद्वारा दरबार साहिब जाना सुगम हो जाएगा. गलियारे के निर्माण का फैसला 22 नवंबर को केंद्रीय मंत्रिमंडल ने लिया था. गलियारे का निर्माण गुरदासपुर जिले में डेरा बाबा नानक से अंतरराष्ट्रीय सीमा तक किया जाएगा.

करतारपुर पाकिस्तान के पंजाब में नरोवाल जिले के शकरगढ़ में स्थित है. सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानकदेव ने अपने जीवन के 18 वर्ष यहां बिताए थे. करतारपुर साहिब गुरुद्वारा पाकिस्तान की सीमा से करीब तीन से चार किमी की दूरी पर रावी नदी के तट पर स्थित है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi