S M L

पीएम भाषण अच्छा देते हैं लेकिन इससे लोगों का पेट नहीं भरेगा: सोनिया

न्होंने कहा कि मोदी जहां जाते हैं झूठ ही बोलते हैं, इतिहास के साथ छेड़छाड़ करते हैं. वह अपना राजनीतिक मकसद साधने के लिए ऐतिहासिक हस्तियों का दुरुपयोग करते हैं

FP Staff Updated On: May 08, 2018 08:42 PM IST

0
पीएम भाषण अच्छा देते हैं लेकिन इससे लोगों का पेट नहीं भरेगा: सोनिया

सोनिया ने मोदी पर कर्नाटक की अनदेखी करने का आरोप लगाया. यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी ने विजयपुर में एक चुनावी रैली में केंद्र की मोदी सरकार पर कांग्रेस शासित कर्नाटक के साथ भेदभाव करने का आरोप लगाते हुए उनके ‘सबका साथ, सबका विकास’ के नारे पर सवाल उठाए.

पिछले दो सालों में यह सोनिया की पहली चुनावी रैली थी. सोनिया ने भ्रष्टाचार को लेकर लगातार सिद्धरमैया सरकार पर हमला कर रहे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर पलटवार करते हुए कहा कि वह जानना चाहती हैं कि भ्रष्टाचार विरोधी निगरानी संस्था लोकपाल का क्या हुआ जिसके गठन का प्रस्ताव था.

उन्होंने कहा, ‘मोदी सरकार कर्नाटक में हमारी सरकार के साथ भेदभाव कर रही है. क्या यही आपका ‘सबका साथ, सबका विकास’ है?’सोनिया गांधी ने कहा कि विजयपुर और कर्नाटक की तरक्की के लिए मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने खूब काम किया है. कांग्रेस की सिद्धारमैया सरकार ने कर्नाटक को नंबर वन बनाया. सिद्धारमैया सरकार ने गरीबों को सस्ता खाना उपलब्ध कराने के लिए इंदिरा कैंटीन शुरू किया, क्योंकि सस्ता और पोष्टिक खाना उनका हक है. उन्होंने कहा कि बीजेपी और मोदी ने हमारे द्वारा शुरू किए गए मनरेगा कार्यक्रम का मजाक उड़ाया.

कांग्रेस नेता ने कहा, ‘मोदी एक अच्छे नेता हैं और एक अभिनेता की तरह बोलते हैं लेकिन उससे लोगों का पेट नहीं भरेगा.’ उन्होंने कहा कि मोदी जहां जाते हैं झूठ ही बोलते हैं, इतिहास के साथ छेड़छाड़ करते हैं. वह अपना राजनीतिक मकसद साधने के लिए ऐतिहासिक हस्तियों का दुरुपयोग करते हैं. कभी आपने पहले ऐसा पीएम देखा जो केवल बात ही करता हो, काम नहीं.

यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा कि मोदी जी पर कांग्रेस मुक्त भारत का जुनून है. उन्हें इसका भूत लगा है. कांग्रेस मुक्त भारत तो छोड़िए, वह अपने सामने किसी को बर्दाश्त नहीं कर सकते.

बहुप्रतीक्षित लोकपाल विधेयक को जनवरी , 2014 में राष्ट्रपति से मंजूरी मिल गयी थी जिससे भ्रष्टाचार विरोधी निगरानी संस्था के गठन का रास्ता साफ हो गया था. लोकपाल के दायरे में कुछ सुरक्षा मानकों के साथ प्रधानमंत्री भी आएंगे. हालांकि अब तक लोकपाल का गठन नहीं हुआ है.

यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी ने दो साल के अंतराल के बाद किसी चुनावी रैली को संबोधित किया.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi