S M L

दो सीटों से चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे हैं सिद्धारमैया और जी परमेश्वर

पार्टी के आंतरिक सूत्रों का कहना है कि अध्यक्ष राहुल गांधी ने सिद्धारमैया को दो सीटों से चुनाव लड़ने की योजना को हरी झंडी दे दी है

Updated On: Apr 10, 2018 08:17 PM IST

FP Staff

0
दो सीटों से चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे हैं सिद्धारमैया और जी परमेश्वर

कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया इस बार चामुंडेश्वरी सीट से चुनाव लड़ने वाले हैं. हालांकि इस सीट पर बीजेपी-जेडीएस की डील की संभावनाओं के बीच उनके करीबियों ने सलाह दी है कि उन्हें सिर्फ चामुंडेश्वरी सीट के भरोसे नहीं बैठना चाहिए. ऐसे में वह बैक-अप के लिए उत्तर कर्नाटक क्षेत्र की एक और सीट से चुनाव लड़ सकते हैं.

दूसरी तरफ कर्नाटक प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉक्टर जी परमेश्वर के भी दो सीटों से चुनाव लड़ने की संभावना है. पिछली बार वह 30 हजार से अधिक वोटों के अंतर से चुनाव हार गए थे. संभावना है कि वह तुमकुर जिले की कोराटागेरे और बेंगलुरु की पुलिकेशिनगर से चुनाव लड़ सकते हैं.

पार्टी के आंतरिक सूत्रों का कहना है कि अध्यक्ष राहुल गांधी ने सिद्धारमैया को दो सीटों से चुनाव लड़ने की योजना को हरी झंडी दे दी है, हालांकि अभी परमेश्वर को अप्रूवल नहीं मिला है. सूत्रों की मानें तो सिद्धारमैया चामुंडेश्वरी के साथ-साथ बागलकोटे जिले की बडामी सीट से चुनाव लड़ेंगे. बडामी के वर्तमान विधायक बीबी चिम्मानाकट्टी की तबीयत ठीक नहीं है और पार्टी ने उनसे कह दिया है कि सिद्धारमैया उनकी सीट से चुनाव लड़ेंगे.

बडामी में कुरुबा वोटरों की संख्या काफी अधिक है. सिद्धारमैया की जाति भी कुरुबा है और वहां के लोग उन्हें अपने बड़े नेता के रूप में देखते हैं. सिद्धारमैया ने अपनी वर्तमान सीट वरुणा अपने बेटे यतींद्र के लिए खाली की है.

हालांकि, मुख्यमंत्री और कांग्रेस अध्यक्ष के दो-दो सीटों से चुनाव लड़ने के कयासों के बीच मुख्य विपक्षी पार्टियों बीजेपी और जेडीएस ने कांग्रेस पर हमले तेज कर दिए हैं. वे सिद्धारमैया और परमेश्वर को कायर बता रहे हैं.

सिद्धारमैया ने चामुंडेश्वरी सीट से 1983 से 2008 के बीच पांच बार चुनाव जीता है. पहला चुनाव उन्होंने निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में जीता था, दूसरा और तीसरा चुनाव उन्होंने जनता पार्टी की टिकट पर जीता था, चौथा चुनाव जेडीएस और पांचवा चुनाव कांग्रेस की टिकट पर जीता था. विधानसभा क्षेत्रों के परिसीमन के बाद वह नई बनी वरुणा सीट पर शिफ्ट हो गए और वहां से कांग्रेस की टिकट पर उन्होंने तीन बार चुनाव जीता.

चामुंडेश्वरी के वर्तमान विधायक जीटी देवेगौड़ा जेडीएस नेता हैं और वह मैसूर जिले के मजबूत नेता माने जाते हैं. इस सीट पर सिद्धारमैया को हराने के लिए पूर्व पीएम एचडी देवेगौड़ा कड़ी मेहनत कर रहे हैं. उन्होंने न्यूज18 से कहा, “सिद्धारमैया अहंकारी और हठी हैं. वह मेरी पार्टी को गाली दे रहे हैं. चामुंडेश्वरी के वोटरों को यह पसंद नहीं आएगा और इस बार वह हार जाएंगे."

इस सीट पर बीजेपी की पकड़ मजबूत नहीं है. फिर भी वह इस सीट के लिए एक अच्छे उम्मीदवार की तलाश में है जो सिद्धारमैया से सीधा मुकाबला कर सके. सिद्धारमैया के समर्थकों का आरोप है कि इस सीट पर बीजेपी और जेडीएस के बीच सीक्रेट डील हुई है.

(न्यूज़18 के लिए डी.पी सतीश की रिपोर्ट)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi