S M L

कर्नाटक: बहुमत का आंकड़ा कैसे पार करेगी BJP, येदियुरप्पा की नैया पार लगाएंगे लिंगायत विधायक?

बीजेपी की नजर अब कांग्रेस के ऐसे सात विधायकों पर है जो जेडीएस को समर्थन देने से नाराज चल रहे हैं

Updated On: May 17, 2018 11:48 AM IST

FP Staff

0
कर्नाटक: बहुमत का आंकड़ा कैसे पार करेगी BJP, येदियुरप्पा की नैया पार लगाएंगे लिंगायत विधायक?
Loading...

कर्नाटक में कांग्रेस और जेडीएस के विधायक बीजेपी की तरफ पाला न बदलें इसके लिए पूरी तैयारी हो चुकी है. कांग्रेस के विधायकों को बेंगलुरु से बाहर एक रिजॉर्ट में ठहराया गया है, वही जेडीएस विधायकों को बेंगलुरु के शांगरी-ला होटल में सुरक्षित ठहराया गया है. ये सारी कवायद इसलिए है ताकि बहुमत परीक्षण से पहले नेता बीजेपी को समर्थन न दे दें.

कांग्रेस के सांसद डीके सुरेश यह खुलेआम स्वीकर कर चुके हैं कि पार्टी के सभी विधायक एकजुट हैं, सिवाय आनंद सिंह के जो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के करीबी बताए जाते हैं.

एक तरफ कांग्रेस और जेडीएस गठबंधन है जो अपने पास बहुमत होने के दावा कर रहा है, दो दूसरी ओर बीजेपी का कहना है कि वह अकेली सबसे बड़ी पार्टी होने के साथ-साथ बहुमत साबित करने में भी सक्षम है. फिलहाल बीजेपी ने सरकार तो बना ली है लेकिन अब यह देखना जरूरी होगा कि वह अपना बहुमत कैसे साबित करती है.

जेडीएस और बीएसपी के 38 विधायकों के साथ कांग्रेस के 78 विधायकों को जोड़ दें तो यह आंकड़ा 116 तक पहुंचता है. इसमें दो निर्दलीय विधायकों को और जोड़ दें, जैसा कि उनके समर्थन की बात कही जा रही है तो यह संख्या 118 हो जाती है. इसी संख्या बल के सहारे कुमारस्वामी और कांग्रेस कर्नाटक में सरकार बनाने का दावा पेश कर रहे थे.

दूसरी तरफ बीजेपी के पास 104 विधायक हैं. इसके अलावा उसने एक निर्दलीय विधायक और केपीजेपी के एक विधायक के समर्थन लेने की कोशिश की है. अगर इन दोनों का समर्थन बीजेपी को मिल जाता है तो उसका आंकड़ा 106 हो जाएगा. इसके अलावा बीएसपी के एक विधायक पर भी बीजेपी की नजर है. बीजेपी अगर इस रणनीति में कामयाब भी हो जाती है तो आंकड़ा 107 ही पहुंच पाएगा, जो कि बहुमत से पांच कम है.

ऐसे में बीजेपी की नजर अब कांग्रेस के ऐसे सात विधायकों पर है जो कि जेडीएस को समर्थन देने से नाराज बताए जा रहे हैं. बीजेपी सूत्रों के मुताबिक, ये नाराज विधायक लिंगायत समुदाय से आते हैं, जो कि लिंगायत मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा को समर्थन दे सकते हैं या फिर बहुमत साबित करने के वक्त सदन से गैर हाजिर रहकर भी बीजेपी को फायदा पहुंचा सकते हैं.

अगर ये सात विधायक गैर हाजिर हुए तो बहुमत का आंकड़ा घटकर 108 तक आ जाएगा, जिसे बीजेपी आसानी से हासिल कर सकती है. बीजेपी की नजर इस तथ्य पर भी है कि कांग्रेस-जेडीएस खेमे की तरफ से राज्यपाल को समर्थन देने वाले विधायकों की जो सूची दी गई है, उसमें तीन विधायक ऐसे हैं जिन्होंने उस पर दस्तखत नहीं किए हैं. कांग्रेस विधायक दल की बैठक में भी चार विधायक नहीं पहुंच सके थे. बीजेपी सूत्रों की मानें तो इन सभी विधायकों पर पार्टी की नजर टिकी है.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi