S M L

कर्नाटक चुनाव: जानिए कौन है वो शख्स जो कन्नड़ में पीएम मोदी का भाषण बोलते हैं?

बीएन भानूप्रकाश कर्नाटक विधासभा काउंसिल के सदस्य हैं और शिमोगा के सेंट्रल कर्नाटक डिस्ट्रिक से नाता रखते हैं

FP Staff Updated On: May 10, 2018 02:54 PM IST

0
कर्नाटक चुनाव: जानिए कौन है वो शख्स जो कन्नड़ में पीएम मोदी का भाषण बोलते हैं?

भारत के सबसे बेहतरीन राजनीतिक वक्ता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण की लाइव स्पीच ट्रांसलेट करना आसान नही है. ये कहानी उस बीजेपी कार्यकर्ता की है जिसे 4 मई को पार्टी से कॉल आता है और उनसे पीएम के भाषण को लाइव ट्रांसलेट करने के लिए पूछा जाता है. एक दिन बाद शिमोगा रैली के दौरान इस पुराने आरएसएस कार्यकर्ता को पीएम मोदी के साथ मंच साझा करने को कहा जाता है.

बीएन भानूप्रकाश कर्नाटक विधासभा काउंसिल के सदस्य हैं और शिमोगा के सेंट्रल कर्नाटक डिस्ट्रिक से नाता रखते हैं. भानूप्रकाश उस समय चुनाव प्रचार में व्यस्त थे जब उन्हें पार्टी दफ्तर से फोन कर बाताया जाता है कि उनका नाम पीएमओ अधिकारियों को भेजा गया है. भानूप्रकाश को प्रधानमंत्री मोदी के ट्रांसलेटर को तौर पर नियुक्त करने की सलाह मोदी की शिमोगा रैली के दौरान दी गई थी.

भानूप्रकाश ने बताया 'शुरुआत में मुझे यकीन ही नहीं हुआ लेकिन कुछ देर बाद एहसास हुआ कि ये एक आर्शीवाद है.'

भानूप्रकाश ने 1975 में आरएसएस जॉइन की थी और अपने परफॉर्मेंस के कारण वे राज्य में पार्टी के वाइस-प्रेसिडेंट भी बने.

अपने दिनभर के काम को खत्म कर भानू प्रकाश रात नौ बजे अपने घर पहुंचे. घर पहुंचकर भानूप्रकाश ने अपने बेटे यादव कृष्ण से यू-ट्यूब पर मोदी के भाषण दिखाने को कहा. भानूप्रकाश ने बताया 'मेरा बेटा मुझसे ज्यादा अच्छी हिंदी जानता है और उसने मुझसे कहा कि ध्यान से मोदी जी के भाषण देखिए. हम दोनों ने उस रात 1 बजे तक मोदी के भाषणों को देखा. मैने खासतौर पर मोदी जी की बॉडी लैंग्वेज, उनके वाक्यों के बीच ठहराव और आवाज़ में मॉड्यूलेशन पर ध्यान दिया.

भानूप्रकाश ने बताया, 'ये आइडिया सिर्फ मोदी जी के भाषणों को ट्रांसलेट करने का नहीं. बल्कि मोदी जी के भावों को उसी संवेदना के साथ जनता तक पहंचाना है.'

भानू प्रकाश के सुबह 6 बजे उठने के बावजूद उन्हें पीएम मोदी के स्टेज पर जाने से तीन घंटे पहले ही भाषण की कॉपी दी गई. ईमेल पर मिली मोदी की स्पीच का प्रिंट आउट लेने के लिए भानूप्रकाश जल्दी से पार्टी ऑफिस गए. वो स्पीच 20 पेज की हिंदी कॉपी थी.

पीएम मोदी के स्टेज पर जाने से पहले भानूप्रकाश से कहा गया कि मोदी जी स्टेज के राइट पोडियम से भाषण देंगे और भानूप्रकाश लेफ्ट पोडियम से ट्रांसलेशन करेंगे, लेकिन आखिरी समय में सुरक्षा लिहाज से हमारी पोजिशन बदल दी गई.

भानूप्रकाश ने बताया 'मैने ग्रेजुएशन में हिंदी पढ़ी हैं. मैं हिंदी फिल्में देखता हूं. संघ कार्यकर्ता होने के नाते मैंने संघ के कार्यक्रमों में सैकड़ों हिंदी भाषण सुने हैं. इन सबके बावजूद मोदी जी के भाषण ट्रांसलेट करना एक बिल्कुल अलग एक्सीपीरियंस रहा है.'

भानूप्रकाश ने बताया 'शुरुआत में स्टेज पर ट्रांसलेशन करते हुए मैं कुछ वाक्यों के बाद मोदी जी की तरफ देखता था, लेकिन मुझे एहसास हो गया कि ये बहुत देर तक नहीं हो सकता क्योंकि पीएम का औरा मेरा ध्यान भंग कर रहा था. फिर मैने फैसला किया कि मैं सिर्फ भीड़ की तरफ देखूंगा और भाषण की बारिकियों को नोट कर वाक्यों को ट्रांसलेट करूंगा.'

इंवेट से पहले कभी भी भानूप्रकाश को पीएम मोदी से बात करने का मौका नहीं मिला था. भानू ने बाताया 'हिंदी शब्द मुश्किल नहीं होते लेकिन भाषण का मॉड्यूलेशन मुश्किल होता है. ट्रांसलेशन तब और मुश्किल हो जाता है जब पीएम मोदी भाषण में लिखी बातों के अलावा बातें बोलते हैं.'

प्रधानमंत्री के ट्रांसलेटर के तौर पर काम करने पर वो कैसा महसूस कर रहे हैं पूछे जाने पर भानूप्रकाश कहते है 'मोदी जी जनता से जुड़े सरल शब्दों का इलेतोमाल करते हैं. भानूप्रकाश ने पीएम मोदी की भाषा की तुलना बीजेपी नेता प्रमोद महाजन से की.'

भानूप्रकाश ने कहा 'मुंबई और दिल्ली के नेताओं की हिंदी, यूपी बिहार के नेताओं से काफी सरल होती है. मुझे कल्यान सिंह के भाषण मुश्किल ही समझ में आते हैं.'

भानूप्रकाश ने रैली के बाद पीएम मोदी से बातचीत की और उन्हें शिमोगा में अपने गांव माथोर आने का न्यौता भी दिया. भानू ने बताया 'मोदी जी ने मुझसे कुछ नहीं बोला सिर्फ मेरी तरफ देखें और मुस्कुरा कर आगे बढ़ गए क्योंकि उन्हें अगली रैली को संबोधित करने जाना था.'

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Social Media Star में इस बार Rajkumar Rao और Bhuvan Bam

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi