S M L

कर्नाटक बंद: अलग राज्य की मांग बीजेपी प्रायोजित राजनीतिक नाटक-कुमारस्वामी

मंगलवार को कुमारस्वामी ने उत्तरी कर्नाटक के नेताओं से मुलाकात की. उन्होंने लोगों से वादा किया कि वो उनकी परेशानियों को समझने के लिए इस क्षेत्र के सभी 13 जिलों का दौरा करेंगे

FP Staff Updated On: Aug 01, 2018 03:52 PM IST

0
कर्नाटक बंद: अलग राज्य की मांग बीजेपी प्रायोजित राजनीतिक नाटक-कुमारस्वामी

उत्तर कर्नाटक को अलग राज्‍य बनाने की मांग कमजोर पड़ गई है. इस मामले में बीजेपी ने यूटर्न ले लिया है. दूसरी तरफ मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी आंदोलनकारियों को मनाने की कोशिश कर रहे है.

कर्नाटक में अलग राज्य की मांग बीजेपी के नेताओं ने रखी थी. लेकिन बाद में जब बीजेपी के कुछ बड़े नेताओं को लगा कि अलग राज्य की मांग से पार्टी को नुकसान हो सकता है तो उन्होंने यू-टर्न ले लिया. उत्तर कर्नाटक संघर्ष समिति ने अलग राज्य की मांग को लेकर 2 अगस्त को बंद बुलाया है. यह बंद उत्तर कर्नाटक के 13 जिलों में है.

राज्य के बीजेपी अध्यक्ष बीएस येदियुरप्पा मंगलवार को मुंबई-कर्नाटक क्षेत्र में बेलगाम गए और कार्यकर्ताओं को अलग राज्य की मांग छोड़ने का अनुरोध किया. उन्होंने मौजूदा संकट के लिए कुमारस्वामी सरकार को दोषी ठहराया और उत्तर में दो प्रमुख क्षेत्रों - मुंबई-कर्नाटक और हैदराबाद-कर्नाटक के पूरे दौर के विकास की मांग की.

मंगलवार को कुमारस्वामी ने उत्तरी कर्नाटक के नेताओं से मुलाकात की. उन्होंने लोगों से वादा किया कि वो उनकी परेशानियों को समझने के लिए इस क्षेत्र के सभी 13 जिलों का दौरा करेंगे. कुमारस्वामी ने कहा कि अलग राज्य की मांग बीजेपी प्रायोजित राजनीतिक नाटक है.

20 से ज्यादा संगठनों ने जताया विरोध

20 से ज़्यादा उत्तर कर्नाटक संगठन ने भी अलग-अलग राज्य की मांग का विरोध किया है. कांग्रेस ने भी इस मांग के लिए बीजेपी को ज़िम्मेदार ठहराया है. राज्य कांग्रेस अध्यक्ष दिनेश गुंडुराओ ने कहा कि ये बीजेपी की राज्य को बांट कर शासन करने की चाल थी. उन्होंने कहा, 'बीजेपी बेताब है. वे लोकसभा चुनाव 2019 से पहले परेशानी में हैं. वे वोट पाने के लिए इसका इस्तेमाल कर रहे हैं. लेकिन इससे बीजेपी को खुद नुकसान होगा.'

उत्तर कर्नाटक रायठा संघ ने उन नेताओं की आलोचना की है जिन्होंने मंगलवार को बेंगलुरु में कुमारस्वामी से मुलाकात की. इसके अध्यक्ष बसवराजा करिगारा ने कहा कि वे बंद के साथ आगे बढ़ेंगे और गुरुवार को अलग जगह उत्तर कर्नाटक का ध्वज भी फहराएंगे.

उन्होंने सभी 13 जिलों में बंद का समर्थन करने के लिए सभी दुकानों और शैक्षणिक संस्थानों को बंद करने के लिए कहा है. वो दोनों क्षेत्रों में सार्वजनिक परिवहन को भी बाधित करने की योजना बना रहे हैं.

 'राज्य को विभाजित करने के लिए बीजेपी की साजिश'

कुमारस्वामी ने एक बार फिर से आंदोलनकारियों से मांग छोड़ने का अनुरोध किया है. उन्होंने कहा 'ये राज्य को विभाजित करने के लिए बीजेपी की साजिश है. उनका पर्दाफाश हो गया है. इसके कारण वे अब हमें दोषी ठहरा रहे हैं. वोटों के लिए ऐसे ड्रामे कभी सफल नहीं होंगे.'

कुमारस्वामी ने लोगों की शिकायतों का समाधान करने के लिए बेंगलुरु से उत्तर कर्नाटक के कई महत्वपूर्ण सरकारी कार्यालयों को स्थानांतरित करने का भी फैसला लिया है.

बीजेपी ने अपने नेताओं से कहा है कि वे बंद का समर्थन न करें. बीजेपी ने कहा कि वो उन लोगों के साथ है जो वास्तव में महसूस करते हैं कि उनके क्षेत्रों को नजरअंदाज कर दिया गया है और उन लोगों के साथ नहीं जो राज्य को विभाजित करना चाहते हैं.

(डीपी सतीश की न्यूज 18 के लिए रिपोर्ट)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
सदियों में एक बार ही होता है कोई ‘अटल’ सा...

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi