S M L

मंच पर सरेआम रो पड़े कुमारस्वामी, कहा-जहर पीने जैसा है गठबंधन सरकार चलाना

कुमारस्वामी ने कहा, आप सभी यहां मेरे लिए खड़े हैं, आप सभी खुश हैं कि आपका एक भाई राज्य का मुख्यमंत्री बन गया है लेकिन मैं इससे बिल्कुल भी खुश नहीं हूं. गठबंधन वाली सरकार का दर्द पता है

FP Staff Updated On: Jul 15, 2018 11:04 AM IST

0
मंच पर सरेआम रो पड़े कुमारस्वामी, कहा-जहर पीने जैसा है गठबंधन सरकार चलाना

कर्नाटक के मुख्यमंत्री और जेडीएस नेता एचडी कुमारस्वामी बेंगलुरु में एक सभा के दौरान मंच पर सबके सामेने रो पड़े. उनकी बातों में गठबंधन सरकार का दर्द साफ झलका.

गठबंधन सरकार चलाने का दबाव बयां करते हुए सीएम कुमारस्वामी ने कहा, 'आप सभी यहां मेरे लिए खड़े हैं, आप सभी खुश हैं कि आपका एक भाई राज्य का मुख्यमंत्री बन गया है लेकिन मैं इससे बिल्कुल भी खुश नहीं हूं. गठबंधन वाली सरकार का दर्द पता है. मैं विश्वकांत बन गया हूं और इस सरकार के दर्द को भी निगल लिया है.'

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि मैं चाहूं तो अभी इसी वक्त इस्तीफा दे सकता हूं.

उधर, प्रदेश के उप-मुख्यमंत्री जी. परमेश्वर ने कुमारस्वामी के इस बयान पर काफी सधी टिपप्णी की और कहा, 'वे (कुमारस्वामी) ऐसा कैसे कह सकते हैं? उन्हें जरूर खुश होना चाहिए, किसी भी मुख्यमंत्री को खुश होना चाहिए क्योंकि इसी में हमारी भी खुशी है.'

टाइम्स ऑफ इंडिया ने कुमारस्वामी की इस खबर के बारे में विस्तार से बताया है. अखबार में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक, मुख्यमंत्री के भावुक भाषण के पीछे सोशल मीडिया पर उनके खिलाफ चल रहा एक अभियान है जिसका शीर्षक है-'कुमारस्वामी हमारे सीएम नहीं हैं.'

इस वीडियो में कोडागू के एक लड़के को यह कहते सुना जा रहा है कि इस जिले में भारी बारिश के बाद सड़कें बह गई हैं लेकिन मुख्यमंत्री को इसकी फिक्र नहीं है. जिले के तटीय इलाकों में मछुआरे भी मुख्यमंत्री से नाराज हैं क्योंकि उनका कर्ज माफ नहीं हुआ है.

कुमारस्वामी ने अपने भाषण में कहा, कर्ज माफ कराने के लिए पिछले एक महीने से मैं अधिकारियों को किस कदर मना रहा हूं, इस बारे में कोई नहीं जानता. अब वे चाहते हैं कि अन्ना भाग्य स्कीम के तहत 5 किलो चावल के बदले 7 किलो चावल बांटे जाएं. अब आप ही बताएं कि इसके लिए मैं 2500 करोड़ रुपए कहां से लाऊं? टैक्स लगाने को लेकर भी मेरी आलोचना हो रही है. इन सबके बावजूद मीडिया कह रहा है कि मेरी कर्ज माफी योजना में कोई साफगोई नहीं है. अगर मैं चाहूं तो मात्र दो घंटे में मुख्यमंत्री पद छोड़ सकता हूं.

मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने आगे कहा, चुनाव से पहले मैं जहां-जहां गया, वहां लोग तो काफी जुटे लेकिन वोट मुझे नहीं दिया. मुझे तो भगवान ने सीएम बनाया है, इसलिए वे ही तय करेंगे कि मुझे कितने दिन इस कुर्सी पर रहना है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
सदियों में एक बार ही होता है कोई ‘अटल’ सा...

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi