S M L

Karnataka Bypolls: रामनगर के BJP कैंडिडेट ने नाम लिया वापस, कांग्रेस-JDS को दिया सपोर्ट

चंद्रशेखर कांग्रेस के एमएलसी सीएम लिंगप्पा के बेटे हैं. उन्होंने दो हफ्ते पहले ही बीजेपी जॉइन किया था

Updated On: Nov 01, 2018 04:06 PM IST

FP Staff

0
Karnataka Bypolls: रामनगर के BJP कैंडिडेट ने नाम लिया वापस, कांग्रेस-JDS को दिया सपोर्ट
Loading...

कर्नाटक की रामनगर की विधानसभा सीट पर उपचुनाव के ठीक दो दिन पहले वहां चुनाव के लिए खड़े भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार एल चंद्रशेखर ने अपनी उम्मीदवारी वापस ले ली है. इससे मुख्यमंत्री एचडी कुमारास्वामी की पत्नी के लिए रास्ता साफ हो गया है.

न्यूज18 की रिपोर्ट के मुताबिक, चंद्रशेखर बीजेपी के नेताओं से नाराज थे क्योंकि उनके लिए किसी ने कैंपेनिंग नहीं की थी. चंद्रशेखर ने अभी दो हफ्ते पहले ही बीजेपी जॉइन किया था. लेकिन अब उन्होंने अपनी उम्मीदवारी वापस लेकर कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन के उम्मीदवार को अपना समर्थन दे दिया है.

चंद्रशेखर कांग्रेस के एमएलसी सीएम लिंगप्पा के बेटे हैं. उन्होंने दो हफ्ते पहले ही बीजेपी जॉइन किया था. उन्होंने बीजेपी नेताओं पर खुद को धोखा देने का आरोप लगाया है.

उन्होंने कहा, 'बीजेपी नेताओं में से किसी ने भी मेरे लिए कैंपेन करने की जहमत नहीं उठाई. मुझे लग रहा था कि मैं इस उपचुनाव की लड़ाई में बलि का बकरा बनाया जा रहा हूं.' उन्होंने अपने इस फैसले के लिए बीजेपी को जिम्मेदार ठहराया.

इस सीट पर दूसरी उम्मीदवार हैं कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन के सीएम कुमारास्वामी की पत्नी अनीता कुमारास्वामी. उनके लिए अब रास्ता साफ हो गया है.

इस पर कुमारास्वामी ने कहा कि 'बीजेपी को इसके लिए खुद को जिम्मेदार ठहराना चाहिए, कांग्रेस-जेडीएस को नहीं. उन्होंने उनसे जबरन बीजेपी जॉइन करवाया लेकिन उनसे किया अपना वादा नहीं निभाया. उन्होंने अपने पार्टी कार्यकर्ताओं से उन्हें टिकट देने के पहले बात नहीं की.'

रामनगर की सीट मैसूर जिले में है, जहां कांग्रेस और जेडीएस की दुश्मनी काफी लंबे वक्त से चली आ रही है. यहां हालात ऐसे हैं कि कांग्रेस को समर्थन करने वाले गांवों ने जेडीएस को समर्थन देने वाले गांवों से संबंध तोड़ लिए हैं. ऐसे में यहां दोनों पार्टियों के कार्यकर्ताओं को एकजुट करने में मुश्किलें आ रही हैं.

ये बात खुद एच डी देवगौड़ा ने भी स्वीकार की कि कुछ विधानसभा क्षेत्रों में जमीनी स्तर पर कांग्रेस और जेडीएस कार्यकर्ताओं को एकजुट करने में कुछ मुद्दे आड़े आ रहे हैं क्योंकि कुछ चुनाव क्षेत्रों में दोनों एक दूसरे के पुराने प्रतिद्वंद्वी माने जाते हैं.

देवेगौड़ा ने कहा कि मांड्या में दोनों दलों के कार्यकर्ताओं में अधिक सद्भावना नहीं है क्योंकि हमने एक या दो हफ्ते पहले ही उपचुनाव साथ-साथ लड़ने का फैसला किया है.

कर्नाटक के तीन लोकसभा और दो विधानसभा सीटों पर उपचुनाव तीन नवंबर को होना है. वोटों की गिनती छह नवंबर को होगी. इसमें शिवमोगा, बेल्लारी और मांड्या लोकसभा सीट और रामनगर और जमखंडी विधानसभा क्षेत्र शामिल हैं.

प्रदेश में सत्तारूढ़ कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन ने उपचुनाव में बीजेपी के खिलाफ एक साथ चुनाव लड़ने का फैसला किया है. कांग्रेस ने बेल्लारी और जमखंडी में अपना उम्मीदवार उतारा है तो वहीं जेडीएस के उम्मीदवार शिवमोगा, रामनगर और मांड्या में चुनाव मैदान में हैं.

(एजेंसी से इनपुट के साथ)

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi