S M L

कांग्रेस का घोषणा पत्र: अब रेड्डी बंधुओं के जिक्र के जरिए कर्नाटक चुनाव जीतेगी पार्टी?

राहुल गांधी ने कांग्रेस का मैनिफेस्टो जारी करते हुए बीजेपी को जम कर घेरने की कोशिश की, राहुल ने कहा कि बीजेपी का घोषणा पत्र रेड्डी बंधुओं के एजेंडे पर होगा

Updated On: Apr 27, 2018 04:31 PM IST

Amitesh Amitesh
विशेष संवाददाता, फ़र्स्टपोस्ट हिंदी

0
कांग्रेस का घोषणा पत्र: अब रेड्डी बंधुओं के जिक्र के जरिए कर्नाटक चुनाव जीतेगी पार्टी?

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कर्नाटक विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस का घोषणा पत्र जारी करते हुए बीजेपी पर बड़ा हमला बोल दिया. राहुल ने हमेशा की तरह एक बार फिर से बीजेपी के घोषणा पत्र को आरएसएस का एजेंडा बताया. लेकिन, इस मौके पर बीजेपी के घोषणा पत्र को रेड्डी बंधुओं के एजेंडे से भी जोड़कर राहुल ने बीजेपी को घेरने की पूरी कोशिश की.

दरअसल, पिछली येदियुरप्पा सरकार में रेड्डी बंधुओं की तूती बोलती थी. माइनिंग और उसमें हुए घोटाले के मामलों में रेड्डी बंधुओं का नाम भी आया था. बीजेपी की छवि पर भी इसका काफी असर पड़ा था. अब फिर राहुल गांधी ने रेड्डी बंधुओं का जिक्र कर गड़े मुर्दे उखाडने की कोशिश की है.

कोशिश है बीजेपी को भ्रष्टाचार के मुद्दे पर घेरने की, क्योंकि प्रधानमंत्री मोदी समेत बीजेपी के सभी नेताओं ने मौजूदा कांग्रेस सरकार पर भ्रष्टाचार के मुद्दे पर सीधा प्रहार करना शुरू कर दिया है. चुनाव की घोषणा से कुछ दिन पहले की रैलियों में प्रधानमंत्री मोदी ने कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया की सरकार को सीधारुपैया की सरकार बताया था.

यह भी पढ़ें- कर्नाटक चुनाव 2018: राहुल गांधी ने जारी किया कांग्रेस का घोषणा पत्र, कहा- एक-एक वादा पूरा करेंगे

इस बात का अंदाजा कांग्रेस को है. कांग्रेस अध्यक्ष को एहसास है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जब एक मई से कर्नाटक में धुंआधार रैलियां करेंगे तो उनके निशाने पर सबसे अधिक सिद्धारमैया सरकार होगी और मुद्दा भ्रष्टाचार का ही रहेगा. लिहाजा पहले से ही बीजेपी को घेरने के लिए रेड्डी बंधुओं के नाम को आगे कर दिया गया है.

कांग्रेस का 95 फीसदी वादे पूरा करने का दावा

बीजेपी अब कांग्रेस के पांच साल के कामकाज का हिसाब भी मांग रही है. बीजेपी की तरफ से कांग्रेस सरकार में कुछ काम नहीं करने का आरोप लगाया जा रहा है. लेकिन, अगले पांच साल का वादा करते हुए राहुल गांधी ने कर्नाटक में पांच साल पहले किए गए वादे में से 95 फीसदी वादे पूरा करने का दावा किया.

Mangaluru: Congress President Rahul Gandhi addresses a gathering after releasing the Congress manifesto for Karnataka Assembly Election 2018, in Mangaluru on Friday. PTI Photo(PTI4_27_2018_000041B)

कांग्रेस की तरफ से कर्नाटक में किए गए वादों में उन सभी बातों का जिक्र किया गया है जिसके सहारे वो मोदी सरकार को घेरती रही है. इसमें सबसे पहले रोजगार का जिक्र है. देश भर में  बेरोजगारों की बढ़ती तादाद और उसपर सरकार की विफलता का आरोप कांग्रेस लगाती रही है. कांग्रेस का दावा है कि कर्नाटक में दोबारा सरकार आने की सूरत में पांच साल में एक करोड़ लोगों को रोजगार दिया जाएगा.

यह भी पढ़ें- कर्नाटक चुनाव: कांग्रेस ने जारी किया घोषणापत्र, एक करोड़ नौकरियों का वादा

किसानों की समस्या को लेकर भी सिद्धारमैया सरकार इस वक्त बीजेपी के निशाने पर है. किसानों के मुद्दे को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी आने वाले दिनों में कर्नाटक में बेहतर काम करने का वादा किया है. नमो ऐप पर अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने केंद्र सरकार के उस वादे का जिक्र किया जिसमें 2022 तक किसानों की आमदनी दोगुनी करने का लक्ष्य रखा गया है.

अब कांग्रेस ने बीजेपी की इस रणनीति की काट के तौर पर किसानों की आमदनी दोगुनी करने की बात की है.

किसानों के लिए इनकम कमीशन और कृषि कॉरिडोर की बात

कांग्रेस ने किसानों के लिए इनकम कमीशन बनाने का वादा किया है. अपने घोषणापत्र में कांग्रेस ने कृषि कॉरिडोर बनाने का वादा भी किया है. वादे में कहा गया है कि कृषि कॉरिडोर बनने से कृषि -उपज को उचित जगह तक पहुंचाने में मदम मिलेगी. इससे उद्योगों तक किसानों की पहुंच भी बन सकेगी.

दरअसल, पांच साल से सत्ता में मौजूद कांग्रेस को इस बार फिर काफी उम्मीदें हैं. एक के बाद एक कई राज्यों में लगातार हार झेल रही कांग्रेस को पंजाब में कैप्टन अमरिंदर सिंह की तरह कर्नाटक में सिद्धारमैया से बेहतर परिणाम की आस है. ये बात अलग है कि पंजाब में कैप्टन अमरिंदर सिंह को बीजेपी-अकाली गठबंधन के दस साल का के शासन के खिलाफ माहौल का फायदा मिला था. लेकिन, इस बार सिद्धारमैया सरकार पांच साल से सत्ता में पहले से ही है.

Siddaramaiah

ऐसे में कांग्रेस को पांच साल के काम काज का हिसाब भी देना है और अगले पांच साल के सपने भी दिखाने हैं. कांग्रेस इस चुनाव को काफी गंभीरता से ले भी रही है. इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि खुद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मुख्यमंत्री सिद्धारमैया समेत पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के साथ इस घोषणा पत्र को जारी किया.

यह भी पढ़ें- कर्नाटक चुनाव: बादामी से CM और श्रीरामुलू में कड़ी टक्कर की उम्मीद

राहुल गांधी ने कांग्रेस के घोषणा पत्र को कर्नाटक के लोगों के मन की बात बताई है. इसके लिए बकायदा वीरप्पा मोइली ने कर्नाटक के लोगों से फीडबैक भी लिया है. राहुल का तंज प्रधानमंत्री मोदी के मन की बात पर था. लेकिन, बीजेपी के आने वाले घोषणा पत्र को रेड्डी बंधुओं का एजेंडा बताकर राहुल ने अपने मन की बात बता दी है. रेड्डी बंधुओं को लाकर बीजेपी के भ्रष्टाचार पर आक्रामकता की धार कम करने की राहुल की रणनीति का जवाब बीजेपी कैसे देती है, इसके लिए अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली का इंतजार करना होगा, जब मोदी एक मई से कर्नटाक चुनाव के प्रचार की शुरुआत करेंगे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi