S M L

हर मंत्रालय में बैठे RSS के लोग दे रहे हैं आदेश : राहुल गांधी

राहुल ने कहा अगर कांग्रेस सत्ता में आती है, तो वह इन संस्थाओं को आरएसएस के नियंत्रण से मुक्त कराएगी.

Bhasha Updated On: Apr 05, 2018 09:32 AM IST

0
हर मंत्रालय में बैठे RSS के लोग दे रहे हैं आदेश : राहुल गांधी

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने नरेंद्र मोदी सरकार पर आरोप लगाया है कि वह विभिन्न संस्थाओं में आरएसएस के लोगों को बिठा कर और उनसे आदेश दिला कर इन संस्थाओं का निरादर कर रही है और उन्हें ध्वस्त कर रही है.

राहुल ने कर्नाटक शहर के व्यापारियों से बुधवार को बात करते हुए कहा कि अगर कांग्रेस सत्ता में आती है, तो वह इन संस्थाओं को आरएसएस के नियंत्रण से मुक्त कराएगी.

उन्होंने कहा, ‘मैं नहीं जानता कि क्या आप सबों को यह पता है कि हर एक मंत्री के कार्यालय में आरएसएस का एक आदमी बैठा हुआ है और आदेश दे रहा है. इसलिए आप क्या उम्मीद कर सकते हैं...संस्थाओं के निरादर के सिवा. इस ढांचे के चलते देश का बैंकिंग सिस्टम ध्वस्त हो गया है.’

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, ‘नीरव मोदी और मेहुल चोकसी कौन हैं?’ उन्होंने कहा कि जब आपने भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) जैसी संस्थाओं का सम्मान नहीं किया, तब इन लोगों का उदय हुआ.

पीयुष गोयल पर भी साधा निशाना

उन्होंने कहा, ‘हम पीयूष गोयल को भी देख रहे हैं.’

राहुल ने कहा कि भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी और उसके करीबी रिश्तेदार चोकसी पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) धोखाधड़ी मामले के केंद्र में है.

राहुल ने एक कंपनी की 650 करोड़ रूपए की रिण अदायगी उसके प्रमोटर द्वारा नहीं करने से केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल के कथित संबंधों को लेकर बुधवार को उन्हें निशाना बनाया था.

उन्होंने कहा कि आरबीआई के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने नोटबंदी के खिलाफ सलाह दी थी.

राहुल ने दावा किया कि मुख्य आर्थिक सलाहकार, केंद्रीय वित्त मंत्री और समूचा कैबिनेट प्रधानमंत्री की नोटबंदी की योजना से अनजान था.

उन्होंने आरोप लगाया, ‘नोटबंदी से पहले समूचे कैबिनेट को कमरे में बंद कर दिया गया. उन लोगों को कमरे से बाहर नहीं निकलने दिया गया.’

यह पूछे जाने पर कि कांग्रेस बेरोजगारी की समस्या का कैसे हल करेगी, राहुल ने कहा कि यह निर्माण कार्य, कृषि और अन्य क्षेत्रों में छोटे और मझोले स्तर के कारोबारों को प्रोत्साहन देकर इसका समाधान करेगी.

कांग्रेस अध्यक्ष ने यह भी कहा कि चीन रोजगार सृजन करने में सफल है क्योंकि उसकी सरकार अपने कार्यबल को स्किल ट्रेनिंग देती है.

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार में स्किल ट्रेनिंग देने पर बात नहीं हो रही है.

अनिल अंबानी को दिए गए राफेल के कॉन्ट्रेक्ट पर उठाए सवाल

राहुल ने कहा कि बैंकों को छोटे और मंझोले स्तर के उद्यमियों को भी रिण देना चाहिए, लेकिन यह फायदा भारतीय कारोबार जगत के 15 बड़े कारोबारियों को मिल रहा है.

उन्होंने कहा, ‘अनिल अंबानी का 45,000 करोड़ रूपए का रिण है और उनकी मदद के लिए राफेल (लड़ाकू विमान) का कॉन्ट्रेक्ट उन्हें दिया गया.’

हालांकि, कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला को लिखे एक पत्र में अंबानी ने इस आरोप का खंडन किया और कहा कि रिलायंस संयुक्त उद्यम को अपने साझेदार के तौर पर चुनने का डसाल्ट का फैसला दोनों निजी कंपनियों के बीच एक स्वतंत्र समझौता था. साथ ही, दोनों सरकारों का इससे कोई लेना देना नहीं है.

बेंगलुरू के पास मागडी में एक रैली को संबोधित करते हुए राहुल ने पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा की पार्टी जेडी(एस) को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि जेडी(एस) जो कभी धर्मनिरपेक्ष हुआ करता था आज संघ परिवार बन गया है.

उन्होंने कहा, ‘जेडी(एस) जनता दल संघ परिवार बन गया है. जेडी(एस) बीजेपी की ‘बी टीम’ है... वह बीजेपी की मदद कर रही. उसे यह स्पष्ट करना होगा कि वह बीजेपी का समर्थन कर रही या नहीं.’

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
International Yoga Day 2018 पर सुनिए Natasha Noel की कविता, I Breathe

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi