S M L

मध्यप्रदेश: कमलनाथ ने कहा यूपी-बिहार के युवा सारी नौकरी छीन लेते हैं, बीजेपी का कड़ा विरोध

एक दिन पहले केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने भी कहा था कि राफेल जेट सौदे पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश से कांग्रेस का 'झूठ उजागर' होने के बाद कांग्रेस अध्यक्ष को देश के लोगों, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और सशस्त्र बलों से माफ़ी मांगनी चाहिए

Updated On: Dec 18, 2018 04:15 PM IST

FP Staff

0
मध्यप्रदेश: कमलनाथ ने कहा यूपी-बिहार के युवा सारी नौकरी छीन लेते हैं, बीजेपी का कड़ा विरोध

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में काम संभालते ही कमलनाथ ने एक विवादित बयान देकर खुद को कठघरे में खड़ा कर लिया है. कमलनाथ ने राज्य में स्थानीय लोगों की नौकरियां कम होने के लिए बाहरी राज्यों से आए लोगों को जिम्मेदार ठहराया है. विपक्ष ने इस मुद्दे को लपक लिया है और अब वो मुख्यमंत्री से उत्तर प्रदेश और बिहार के प्रवासियों से माफ़ी मांगने की मांग कर रहे हैं.

कमल नाथ ने उन उद्योगों को सरकारी सहायता देने की घोषणा की जिनकी रिक्तियों में 70 फीसदी भर्ती स्थानीय युवकों की होती है. इस सुझाव को देते हुए कमलनाथ ने कहा, 'बहुत से उद्योग स्थापित किए गए हैं, जिसमें उत्तर प्रदेश और बिहार जैसे अन्य राज्यों के लोग काम करने आते हैं. मैं उनकी आलोचना नहीं करना चाहता हूं, लेकिन इस कारण से मध्य प्रदेश के युवा रोजगार से वंचित रहते हैं.'

कमलनाथ ने कहा कि युवा लोगों के लिए अवसर बढ़ाने और होटल और पैकेजिंग क्षेत्र में नौकरियां बढ़ाने के लिए नए गार्मेंट पार्क स्थापित किए जाएंगे.

ये भी पढ़ें: किसानों की कर्ज माफी पर राहुल बोले- देखा.. देखा, शुरू हो गया न काम

एनडीटीवी के मुताबिक कमलनाथ के इस बयान पर कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए बीजेपी के केंद्रीय मंत्री गिरिराज किशोर ने कहा कि कमलनाथ को साफ करना चाहिए कि उनके कहने का अर्थ क्या है. और 'राहुल गांधी को उत्तर प्रदेश और बिहार के लोगों से माफ़ी मांगनी चाहिए.'

उन्होंने कहा: 'बिहार और यूपी के लोग जिस भी राज्य में जाते हैं वहां के विकास के लिए कड़ी मेहनत करते हैं. राहुल गांधी को बिहार और यूपी के लोगों से माफ़ी मांगनी चाहिए या फिर लोग उन्हें जवाब देंगे.'

कमलनाथ ने कल मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री के रुप में शपथ ली थी. कांग्रेस पार्टी ने पिछले हफ्ते बीजेपी के 15 साल के शासनकाल को समाप्त किया. चार्ज लेने के बाद 72 वर्षीय मुख्यमंत्री का पहला कदम कृषि ऋण छूट पर हस्ताक्षर करने का किया.

ये भी पढ़ें: कमलनाथ मुख्यमंत्री तो बन गए लेकिन सिख दंगों का साया भी उनके सिर पर मंडरा रहा है

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi