S M L

JNUSU Election 2018: 68% हुआ मतदान, 16 सितंबर को आएंगे अंतिम नतीजे

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्र संघ चुनाव के लिए प्राधिकारियों ने सभी तैयारियां पूरी कर ली हैं, हाल में देशभर के विश्वविद्यालयों में हुए विभिन्न विवादों के बाद इस चुनाव पर लोगों की नजरें लगी हुई हैं

| September 14, 2018, 07:08 PM IST

FP Staff

0

हाइलाइट

Sep 14, 2018

  • 19:00(IST)

    जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्र संघ के लिए हो रहे चुनाव के लिए चल रहा मतदान अब समाप्त हो गया है. इस बार कुल 68 प्रतिशत वोट पड़े हैं. कुल 7650 वोट में से 5185 वोट पड़े. पिछले साल कुल 59 प्रतिशत मतदान हुआ था.

  • 17:33(IST)

    बैलेट पेपर की फोटो सोशल मीडिया पर. जेएनयू चुनाव समिति को इस पर ध्यान देना चाहिए था. इससे किसी खास पार्टी और खास प्रत्याशी जो फायदा पहुंचाने का इरादा हो सकता है. इसे ईवीएम को जेएनयू में भी लाने के लिए एक तरह का माहौल बनाने की कोशिश के तौर पर भी देखा जा सकता है. कुछ लोग यह भी कह रहे हैं कि कुछ पार्टी अपने वोटर को यह भी कह रही है कि फोटो खींच कर भेजो कि सच में तुमने हमें वोट किया है.

  • 17:13(IST)

    अचानक से मतदान केंद्रों पर भीड़ बढ़ने लगी है. वोटिंग रूम के बाहर लंबी लाइन लग चुकी है. लेकिन फिर से लग रहा है कि मतदान प्रतिशत गिर सकता है. कम वोटिंग होने की वजह से कोई अनुमान लगाना कि कौन जीत रहा है, थोड़ा मुश्किल है.

    कम वोटिंग होने से एबीवीपी को फायदा हो सकता था लेकिन आपसी फूट होने की वजह से ऐसा होने की संभावना कम है. 

    अंतिम परिणाम में कम अंतर होने की संभावना भी व्यक्त की जा रही है. सबसे बड़े स्कूल, स्कूल ऑफ लैंग्वेज में भी दिन भर मतदान को लेकर खास उत्साह दिखाई नहीं दिया.हां,अंतिम समय में लंबी लाइन वहां भी लगी हुई है.

    मतदान कम होने की वजह  का सीट कट भी है. लगभग एक हजार नए लोग आने से वंचित रह गए जो आमतौर पर उत्साह से मतदान में भाग लेते रहे हैं. इस साल भी बहुत कम सीटों पर एडमिशन हुआ है.

  • 16:28(IST)

  • 16:19(IST)

    दोपहर बाद मतदान में तेजी आने की संभावना व्यक्त की जा रही थी लेकिन ऐसा होता दिखाई नहीं दे रहा. वैसे हर बार अंतिम घंटे में भीड़ अचानक बढ़ जाने का ट्रेंड जेएनयू में रहा है. हरेक पार्टी के कार्यकर्ता भले जोश में हो लेकिन फिलहाल वोटर उत्साह में दिखाई नहीं दे रहे. 

    सबसे रोमांचक मुकाबला अध्यक्ष पद के लिए हो रहा है. लेफ्ट यूनिटी और एबीवीपी में कड़ी टक्कर चल रही है. वैसे लेफ्ट का पलड़ा थोड़ा भारी दिख रहा है. लेकिन छात्र राजद उलटफेर कर दे तो कोई आश्चर्य नहीं. जॉइंट सेक्रेटरी के पद पर भी संशय बना हुआ है.

  • 13:42(IST)

    जानकारी के मुताबिक लंच ब्रेक के पहले तक 15 प्रतिशत वोटिंग हुई है. 2:30 बजे फिर से वोटिंग शुरू की जाएगी

  • 13:31(IST)

    देखिए जेएनयू की वर्तमान अध्यक्ष गीता कुमारी से बातचीत

  • 13:13(IST)

    लेफ्ट और बापसा के शोर से मतदान स्थल गूंज रहा है. बापसा के ढोल की आवाज के सामने सब कुछ फीका पड़ रहा है. लेफ्ट रणनीति से काम ले रहा है. उनकी कोशिश है कि उनके सपोर्टर मतदान स्थल तक जरूर पहुंचे. वे इस प्रयास में भी लगे हैं. राजद और एनएसयूआई भी मैदान में डटे हैं लेकिन निर्दलीय उम्मीदवार पिछड़ते दिखाई दे रहे हैं. उनके लिए हर जगह पहुंचना मुश्किल हो रहा है. जेएनयू चुनाव समिति ने 4 मतदान स्थल बनाये हैं. स्कूल ऑफ लैंग्वेज, इंटरनेशनल स्टडीज, सोशल साइंस और एन्वायर्न्मेंट साइंस. चारों जगह भीड़ बनी हुई है. भीड़ के रुख से अंदाजा लगाना मुश्किल हो रहा कि कौन जीत रहा है.

  • 11:40(IST)
  • 11:06(IST)
  • 11:00(IST)

  • 10:52(IST)

    मतदान शाम 5.30 बजे तक होगा. दोपहर बाद भीड़ और ज्यादा बढ़ने की संभावना है.

  • 10:52(IST)

    जेएनयू छात्र संघ चुनाव में मतदान शुरू हो चुका है. इस बार छात्रों में उत्साह बहुत है. सुबह 9.30 से मतगणना केंद्रों के बाहर लंबी भीड़ जमा हो रही है. सभी पार्टी के लोग क्रिएटिव तरीक़े से अपने प्रत्याशी के पक्ष में वोट देने के लिए लोगों को कन्विन्स कर रहे हैं. प्रेसिडेंशियल डिबेट के बाद सोशल मीडिया पर जयन्त कुमार लगातर ट्रेंड कर रहे हैं. इसलिए अध्यक्ष पद पर कांटे की टक्कर हो सकती है.

    ( जैनेंद्र कुमार )

JNUSU Election 2018: 68% हुआ मतदान, 16 सितंबर को आएंगे अंतिम नतीजे
Loading...

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के छात्र शुक्रवार को छात्रसंघ चुनाव में वोट डालेंगे जिससे उन आठ उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला होगा जिनकी नजर राजनीतिक रूप से सक्रिय इस कैंपस में शीर्ष पद पर है.

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्र संघ (जेएनयूएसयू) चुनाव के लिए चुनाव प्राधिकारियों ने सभी तैयारियां पूरी कर ली हैं. हाल में देशभर के विश्वविद्यालयों में हुए विभिन्न विवादों के बाद इस चुनाव पर लोगों की नजरें लगी हुई हैं.

वाम समर्थित ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन (आइसा), स्टूडेंट्स फेडरेशन आफ इंडिया (एसएफआई), डेमोक्रेटिक स्टूडेंट्स फेडरेशन (डीएसएफ) और ऑल इंडिया स्टूडेंट्स फेडरेशन (एआईएसएफ) ने साथ मिलकर संयुक्त वाम गठबंधन बनाया है. गठबंधन ने स्कूल ऑफ इंटरनेशनल स्टडीज के एनएस बालाजी को अध्यक्ष पद के लिए अपना उम्मीदवार बनाया है.

डीएसएफ की सारिका चौधरी उपाध्यक्ष पद पर चुनाव लड़ रही हैं, एसएफआई के एजाज अहमद राथेर महासचिव पद के लिए और एएसआईएफ के ए जयदीप संयुक्त सचिव पद के लिए चुनाव लड़ रहे हैं.

कांग्रेस से संबद्धित एनएसयूआई ने स्कूल ऑफ इंटरनेशनल स्टडीज के विकास यादव को अध्यक्ष पद के लिए और एलके बाबू को उपाध्यक्ष पद के लिए अपना उम्मीदवार बनाया है. मोहम्मद मोफिजुल आलम सचिव पद पर जबकि एन रीना संयुक्त सचिव पद के लिए चुनाव मैदान में हैं.

आरएसएस संबद्धित एबीवीपी ने ललित पांडेय को अध्यक्ष पद के लिए, गीताश्री बरूआ को उपाध्यक्ष पद के लिए, गणेश गुर्जर को महासचिव और वी चौबे को संयुक्त सचिव पद के लिए उम्मीदवार बनाया है.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi