विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

नीतीश बन सकते हैं एनडीए संयोजक, जेडीयू होगी सरकार में शामिल!

शुक्रवार को बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने नीतीश को एनडीए ज्वाइन करने का न्योता दिया था

FP Staff Updated On: Aug 12, 2017 06:07 PM IST

0
नीतीश बन सकते हैं एनडीए संयोजक, जेडीयू होगी सरकार में शामिल!

बिहार में बीजेपी सरकार की वापसी हो गई है. इसके साथ केंद्रीय मंत्रिमंडल में जेडीयू की वापसी की चर्चा भी तेज हो गई है. 19 अगस्त को बिहार के मुख्यमंत्री और जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार के नेतृत्व में जेडीयू के राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक होने वाली है. उम्मीद है कि इसमें नीतीश एनडीए ज्वाइन करने की घोषणा कर सकते हैं.

शुक्रवार को बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने नीतीश को एनडीए ज्वाइन करने का न्योता दिया था. जेडीयू नेता ने कहा कि ऐसा करना सिर्फ एक औपचारिकता है. महागठबंधन से अलग होकर नीतीश ने जब बिहार में नई सरकार बनाई थी तो साफ हो गया था कि उनका किसको समर्थन है.

पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव के.सी त्यागी ने कहा ‘नीतीश कुमार खुद प्रस्ताव को प्रस्तुत करेंगे जो सर्वसम्मति से पारित हो जाएगा. यह बिहार के लिए ऐतिहासित क्षण है जब केंद्र और राज्य में एक जैसी सरकारों का राज है. केंद्र और राज्य सरकारों के समर्थन से राज्य को नई ऊंचाई पर पहुंचाने में मदद मिलेगी.’

जब एनडीए ने 2013 में नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किया था तो नीतीश कुमार ने 17 साल पुराने साथ को एक झटके में नकार दिया था. लेकिन वह इस साथ से ज्यादा देर तक दूर नहीं रह पाए. आरजेडी पर जब बिहार में भ्रष्टाचार के आरोप लगे तो उन्होंने फिर से एनडीए का हाथ पकड़ लिया.

नीतीश की वापसी ने 2019 आम चुनाव के लिए एनडीए की संभावनाओं को मजबूत किया है. न्यूज़18 के मुताबिक नीतीश को एनडीए में संयोजक बनाया जा सकता है. इससे पहले जॉर्ड फर्नांडिस और शरद यादव भी इस पद पर रह चुके हैं.

"नरेंद्र मोदी जी राष्ट्रीय स्तर पर नीतीश कुमार की क्षमता का इस्तेमाल करना चाहते हैं. नीतीश की छवि सभी को स्वीकार्य है और उनके संगठनात्मक कौशल अन्य राज्यों में एनडीए को मजबूत करने में मदद करें. नीतीश के करीबी नेता ने कहा कि जिस व्यक्ति को मोदी के विकल्प के रूप में माना जाता है, वह यूपीए के खिलाफ एनडीए की तरफ से राजनीतिक आयाम को निर्णायक रूप से बदलने के लिए पर्याप्त है.

सूत्र ने कहा ‘एनडीए में शामिल होने के बाद, जेडीयू को केंद्रीय मंत्रिमंडल में दो पदों की पेशकश की जाएगी- एक कैबिनेट रैंक और दूसरे राज्य मंत्री "हालांकि यह समय लगेगा और यह कैबिनेट फेरबदल में देरी कर सकता है क्योंकि पार्टी शरद यादव और अली अनवर को राज्यसभा में नए सदस्यों के साथ बदलने की कोशिश करेगी. यदि वे खुद इस्तीफा नहीं देते हैं तो हम अनुशासनात्मक समिति के रूप में जा सकते हैं क्योंकि दोनों पार्टी विरोधी गतिविधियों में लगे हुए हैं. अगर यह काम नहीं कर रहा है तो राज्यसभा से उनके निष्कासन सुनिश्चित करने के तरीकों के भी तरीके हैं.’

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi