S M L

एमजीआर की समाधि के बगल में बनाई गई जयललिता की समाधि

दिन भर के संशय के बाद सोमवार देर रात हुई निधन की घोषणा

Updated On: Dec 07, 2016 09:22 AM IST

FP Staff

0
एमजीआर की समाधि के बगल में बनाई गई जयललिता की समाधि

राजकीय सम्मान के साथ जयललिता को अंतिम विदाई.

जयललिता के अंतिम संस्कार के कार्यक्रम से जुड़े एक वरिष्ठ सरकारी सेक्रेटरी ने कहा- ‘ वह हमारे लिए अयंगर नहीं थीं.’ उन्होंने कहा- ‘जयललिता किसी भी जाति-धर्म से ऊपर थीं. अधिकतर द्रविड़ियन नेताओं जिनमें पेरियार, अन्ना दुरई और एमजीआर भी शामिल हैं, इन सभी को दफनाया गया था. हमारे यहां इनकी मौत के बाद इन्हें जलाने की कोई तय परंपरा नहीं है. इस वजह से हम उन्हें चंदन की लकड़ी और गुलाब जल के साथ दफनाएंगे.’

जयललिता को दफनाया जा रहा है. इस बात का फैसला शशिकला ने लिया है. इसकी वजह के बारे में कुछ साफ नहीं है.

पूरा पढ़ें: जब 'दक्षिण' में मिले जयललिता और बीजेपी

15 साल पहले, बाबरी मस्जिद ढहाए जाने के बाद राष्ट्रीय एकता परिषद (एनआईसी) की बैठक में जयललिता ने एक भाषण दिया. इस भाषण में जयललिता ने जो कहा वह बीजेपी के साथ उनके संबंधों की नींव बना. यह अजीब संयोग है कि जयललिता की मौत का दिन भी 6 दिसंबर ही है जो बाबरी विध्वंस का था.

अम्मा की अंतिम विदाई में उमड़ा लाखों का जनसैलाब.

एमजीआर समाधि के पास मरीना बीच पर होगा अंतिम संस्कार

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने भी दिवंगत नेता जयललिता को श्रद्धांजलि दी.

1996 में जब जयललिता को भ्रष्टाचार के आरोप में गिरफ्तार किया गया, तब उनके पास से साड़ियों, गहनों, जूतियों और घड़ियों का खजाना मिलने की खबर आई थी. उनके पास से लगभग 30 किलो हीरे जड़ित सोने के गहने, 10 हजार महंगी साड़ियां, 750 जोड़ी जूतियां, 91 डिजाइनर घड़ियां और 19 महंगी गाड़ियां बरामद की गई थी.

पूरा पढ़ें: विवादों की 'महारानी' भी थीं जयललिता

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने दिवंगत नेता जयललिता को श्रद्धांजलि दी.

राहुल गांधी भी दिवंगत नेता जयललिता को श्रद्धांजलि देने पहुंचे

मरीना बीच पर दिवंगत नेता जयललिता के अंतिम संस्कार की तैयारी.

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने भी दिवंगत नेता जयललिता को श्रद्धांजलि दी. केंद्रीय मंत्री वैंकेयानायडू ने पार्थिव शरीर पर पुष्प अर्पित किए. राजाजी हॉल में आखिरी विदाई देने देशभर के बड़े नेता पहुंचे.

तस्वीरों में देखें: 'अम्मा' के अंतिम दर्शन करने उमड़ा जनसैलाब

राजाजी हॉल के बाहर दिवंगत सीएम जयललिता के समर्थकों की भारी भीड़ मौजूद है. भीड़ को कंट्रोल करने के लिए पुलिस को हल्का लाठीचार्ज भी करना पड़ा है.

प्रधानमंत्री मोदी ने चेन्नई के राजाजी हॉल में दिवंगत सीएम जयललिता को श्रद्धांजलि दी.

चेन्नई के राजाजी हॉल के बाहर दिवंगत सीएम जयललिता के अंतिम दर्शन को उमड़ी भीड़.

संस्कृत में जयललिता के नाम का मतलब होता है, ऐसा इंसान जो ‘हंसते-खेलते विजेता’ बन जाता है. अपने स्वभाव के अनुसार अपने अंतिम दिनों में भी वे अपोलो अस्पताल के बिस्तर से सभी को असमंजस में डाले हुईं थी. मरने से पहले अंतिम सांस तक उन्होंने संघर्ष किया. तमिलनाडु ही नहीं भारतीय राजनीति की परिपाटी के अनुसार भी जयललिता ने तीन नए प्रतिमान गढ़े. उन्होंने तीन स्थापित नियमों- राजनीति में पुरुषों के वर्चस्व को तोड़ा, ब्राह्मणों की बहुलता पर चोट किए और काफी हद तक तार्किक राजनीति की. उन्होंने अपने द्वारा उठाए गए हर राजनैतिक कदम में स्थापित संकीर्ण सोच की उपेक्षा की.

पूरा पढ़ें: जयललिता का निधन: वो हंसते-खेलते विजेता बन गईं

प्रधानमंत्री मोदी चेन्नई पहुंचे. जयललिता को देंगे अंतिम श्रद्धांजलि

जिस विमान से राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी चेन्नई जा रहे थे, वो रास्ते से वापस लौटा. विमान में कुछ तकनीकी खराबी आई है.

संसद की कार्यवाही आज स्थगित रहेगी. लोकसभा और राज्यसभा में दिवंगत सीएम जयललिता को श्रद्धांजलि देने के बाद संसद नहीं चलेगी.

दिवंगत सीएम जयललिता के अंतिम संस्कार की तैयारी मरीना बीच पर की जा रही है. उनके समर्थकों की भीड़ वहां पहुंच रही है.

दिवंगत सीएम जयललिता के सम्मान में उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित कर राज्यसभा की कार्यवाही पूरे दिन के लिए स्थगित की गई.

दिवंगत सीएम जयललिता के निधन पर राष्ट्रीय शोक घोषित किया गया है. राष्ट्रीय ध्वज आधे झुके हुए हैं.

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी दिवंगत सीएम जयललिता को श्रद्धांजलि देने चेन्नई जा रहे हैं.

जयललिता के जाने के बाद का रास्‍ता काफी लंबा होगा और इस अंतर को भरने के लिए युवाओं को आगे आना होगा. यह काम सामूहिक रूप से हो या किसी अन्‍य तरीके से, लेकिन एक बात तो तय है कि पार्टी को चीजें अपने हाथ में लेनी होंगी और राज्‍य को वापस पटरी पर लाकर जयललिता को सही श्रद्धांजलि देनी होगी.

विस्तार से पढें: जयललिता के बाद: एआईएडीएमके का असल इम्तिहान अब शुरू हुआ है!

कोयंबटूर में दिवंगत सीएम जयललिता के समर्थकों में शोक की लहर.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चेन्नई रवाना हुए. दिवंगत सीएम जयललिता को श्रद्धांजलि देने जा रहे हैं चेन्नई.

पूरा चेन्नई शोक में डूबा है. सड़कें सुनसान पड़ी हैं, दुकाने बंद हैं.

जयललिता अक्सर श्रीमथी से कहती थीं कि, उन्हें फिल्मी दुनिया का माहौल पसंद नहीं, यहां काम करने वाले पुरुष गंदी नीयत और गलत निगाहों से उन्हें देखते हैं. जया कहती थीं, जब मैं घर लौटती थी वो सभी अक्सर वहां बैठे मिलते थे. उन्हें देखकर मैं काफी घबरा जाती थी- हर तरह के पुरुष, लंबे, छोटे, काले, गोरे, पतले और मोटे और तेल से पुते हुए! मां मुझे उनके साथ बैठकर बात करने को कहती थी. मुझे चिढ़ होती थी. ये साफ था कि जयललिता को लगता था उनके स्वभाव के विपरीत कामों को उन्हें करने को कहा जाता था. शायद वो अपने बाकी के सहपाठियों की ही तरह आम पारिवारिक जिंदगी जीना चाहती थीं.

विस्तार से पढ़ें: जयललिता की बायोग्राफी: 200 पन्नों में नहीं समेटी जा सकतीं 'अम्मा'

जयललिता के निधन पर एक दिन का राष्ट्रीय शोक घोषित हुआ है. सारे राष्ट्रीय ध्वज आधे झुके रहेंगे.

पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवेगौड़ा भी चेन्नई में जयललिता की अंतिम यात्रा में शामिल होंगे.

पन्नीरसेल्वम की छवि जयललिता के बेहद करीबी और विश्वासपात्र के रूप में है. जयललिता जब जेल गई थीं तो पन्नीरसेल्वम को सार्वजनिक मंच से रोते हुए देखा गया था. जयललिता जबसे बीमार थीं, उनकी गैर-मौजूदगी में पनीरसेल्वम ही कामकाज संभाल रहे थे. वे कैबिनेट मीटिंग की अध्यक्षता भी कर रहे थे.

विस्तार से पढ़ें: पन्नीरसेल्वम बने सीएम: जयललिता के वफादार को मिला उत्तराधिकार

कोयंबटूर में दुकानें बंद हैं, सड़कें सुनसान पड़ी हैं. जयललिता के निधन की खबर मिलते हैं उनके समर्थकों में शोक की लहर है.

केरल की सरकार ने सारे सरकारी दफ्तरों और शिक्षण संस्थाओं में एक दिन के अवकाश की घोषणा की.

अचंभित करने वाला रहा जया का सफर

मुंबई और कलकत्ता के साथ मद्रास भी भारत में आधुनिकता का संदेश वाहक है. तमिलनाडु की विलक्षण व्यक्ति-पूजा इस आधुनिकता का विलोम है. इस राज्य में समकालीन नेताओं, फिल्मी सितारों और खिलाड़ियों के मंदिर बने हैं. दक्षिण की पुरुष-प्रधान राजनीति में जयललिता का होना भी अचंभा है. उन्होंने साधारण परिवार में जन्म लिया, कठिन परिस्थितियों का सामना किया और एक बार सत्ता की सीढ़ियों पर चढ़ीं तो चढ़ती चली गईं.

विस्तार से पढ़ें: आप में एक अचंभा थीं जयललिता जयरामन

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी भी चेन्नई जा रहे हैं. जयललिता की अंतिम यात्रा में होंगे शामिल.

प्रधानमंत्री मोदी पार्लियामेंट हाउस में बाबा साहेब अंबेडकर को श्रद्धांजलि देने के बाद चेन्नई के लिए रवाना होंगे. जयललिता को श्रद्धांजलि देने जाएंगे

6 दिसंबर 2016 को तमिलनाडु में सार्वजनिक अवकाश घोषित किया गया है.सरकार ने इस बात का एलान किया है.

जयललिता के पार्थिव शरीर को चेन्नई के राजाजी हॉल में रखा गया है. समर्थकों की भारी भीड़ अपनी नेता को श्रद्धांजलि देने आ रही है.

प्रधानमंत्री मोदी और राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी जयललिता की अंत्येष्टि में हो सकते हैं शामिल.

जयललिता के पार्थिव शरीर को अपोलो अस्पताल से उनके घर ले जाया गया.

मुख्यमंत्री पन्नीरसेल्वम के साथ 15 मंत्रियों ने भी ली शपथ

O Pannir

फिल्म जगत के महानायक अमिताभ बच्चन ने भी ट्वीट करके शोक व्यक्त किया और उन्हें 'एक मजबूत महिला' बताया.

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने भी जयललिता के निधन पर दुख व्यक्त किया

बिहार के नेता और राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने भी ट्वीट करके अम्मा के निधन पर दुख व्यक्त किया.

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने ट्वीट किया, तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता जी का निधन दुखद. ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दें. बिहार में एक दिन का राजकीय शोक घोषित.

जयललिता के निधन पर बिहार सरकार ने राजकीय शोक घोषित किया है.

तमिलनाडु में सात दिन का राजकीय शोक घोषित. पूरे राज्य में शोक की लहर के बीच विधायक दल की बैठक में ओ पन्नीरसेल्वम को मुख्यमंत्री चुन लिया गया है.

ओ पन्नीरसेल्वम ने ली मुख्यमंत्री पद की शपथ

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने भी ट्वीट करके जयललिता को श्रद्धांजलि दी.

ओ पन्नीरसेल्वम राज्य के नये मुख्यमंत्री बने. राज्यपाल विद्यासागर ने दो मिनट के मौन के बाद शपथ ग्रहण करवाई

जयललिता का शरीर अंतिम दर्शन के लिए राजा जी हॉल में रखा जाएगा.

तमिलनाडु में सात दिन का शोक घोषित.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक अन्य ट्वीट में कहा, जयललिता लोगों के साथ जुड़ी हुई नेता थीं और गरीबों, महिलाओं के लिए हमेशा कल्याणकारी कार्य में लगी रहती थीं. वे महिलाओं समेत लाखों लोगों के लिए प्रेरणास्त्रोत थीं.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जयललिता के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए ट्वीट किया है कि जयललिता का जाना भारतीय राजनीति में एक खाली सथान छोड़ जाएगा और ईश्वर तमिलनाड़ु के लोगों को इस बेहद दुखद समाचार को सहन करने की शक्ति दे.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर जयललिता के निधन पर शोक जताया और उन्हें श्रद्धांजलि दी.

तमिलनाडु में 3 दिन के राजकीय शोक की घोषणा कर दी गई है. एआईएडीएमके पार्टी के सूत्रों ने बताया है कि ओ पनीरसेल्वम को पार्टी का नया नेता चुना गया है और वह राज्य के अगले मुख्यमंत्री बनेंगे.

अपोलो अस्पताल के बाहर अफरातफरी का माहौल

एआईएडीएमके के दफ्तर का झंडा नीचे किया.

सीएम जयललिता को लेकर अपोलो अस्पताल लगातार अपडेट दे रहा है. उनकी हालत चिंताजनक बनी हुई है.

जयललिता के उत्तराधिकारी के तौर पर ओ पनीरसेल्वम का नाम सामने आ रहा है. दूसरे नाम के तौर पर पलनीसामी का नाम भी उभर रहा है.

AIADMK के विधायकों और सांसदों की अपोलो अस्पताल में बैठक चल रही है. बैठक को शशिकला और पनीरसेल्वम ने संबोधित किया है. खबर मिल रही है कि जयललिता के उत्तराधिकारी चुनने की तैयारी चल रही है.

अपोलो ग्रुप अस्पताल की एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर संगीता रेड्डी ने कहा है कि हमारी तमाम कोशिशों के बावजूद सीएम जयललिता की हालत नाजुक बनी हुई है.

जयललिता ने बताया कि वे निजी तौर पर बहुत ही शर्मीली और खुद में सीमित रहने वाली शख्स हैं, उन्हें दुनिया के सामने अपनी भावनाओं को प्रदर्शित करना पसंद नहीं है, लेकिन किस्मत ने उन्हें दो-दो हाई-प्रोफाइल करियर में धकेल दिया जिस कारण वे पब्लिक लाइम-लाइट में आ गईं, जबकि वे निजी तौर पर पर्दे के पीछे रहना पसंद करती हैं. एक रुढ़िवादी तमिल अयंगर परिवार में जन्मीं जयललिता की परवरिश बहुत ही पारंपरिक तरीके से हुई थी, उनका पालन-पोषण उनके नाना-नानी के घर हुआ था क्योंकि उनकी माँ 20 साल की उम्र में ही विधवा हो गईं थी, तब जे.जयललिता दो साल की थीं. बाद के दिनों में जे जयललिता की मां को फिल्मों में काम करने का मौका मिला और वे फिल्मों में व्यस्त हो गईं....

विस्तार से पढ़ें: जीवन में कभी बिना शर्त ‘प्रेम’ नहीं मिला: जे. जयललिता

तमिलनाडु का मुख्‍यमंत्री बनने के बाद जयललिता ने महिलाअों के अधिकारों को सुरक्षित करने के विशेष प्रयास किए. पुलिस में 30 फीसदी स्थान महिलाअों के लिए आरक्षित कर हर जिले में महिला थानों की स्थापना की. प्रशासन में हर स्तर पर महिलाअों को रोजगार उपलब्‍ध कराया गया. नतीजा यह हुआ कि महिलाअों के बीच जयललिता की लोकप्रियता आज भी बनी हुई है.

विस्तार से पढ़ें: तमिलनाडु की राजनीति में जयललिता के 25 साल

अपोलो अस्पताल के प्रवक्ता ने जानकारी दी है कि सीएम जयललिता की हालत नाजुक बनी हुई है. डॉक्टर उनकी हालत पर नजर बनाए हुए हैं.

यह सभी जानते हैं कि सूचनाओं को लोगों तक पहुंचाने के मामले में तमिलनाडु की राजनीतिक संस्कृति खासतौर से धुंधली है. इस मामले में शुरूआत के दिनों में मेडिकल बुलेटिन ने सिर्फ बुखार और डिहाईड्रेशन की जानकारी दी गई थी. जितना दिख रहा है मामला उससे बड़ा है, यह लोगों को तब पता चला जब लंदन से डॉ रिचर्ड बील ट्रीटमेंट की दिशा में अपना योगदान देने के लिए आए. इन 70 दिनों में ज्यादातर जयललिता वेंटिलेटर पर ही रहीं क्योंकि वे सांस लेने की गहरी समस्या से गुजर रही थीं. उन्हें निष्क्रिय फिजियोथेरेपी भी दी गई.

विस्तार से पढ़ें: जयललिता को दिल का दौरा: चेन्नई अफवाहों के शहर के तौर पर उभरा

AIADMK से निष्कासित नेता शशिकला पुष्पा ने जयललिता की सेहत से जुड़ी खबरों पर संदेह जताया है. उन्होंने कहा है कि जयललिता की सेहत को लेकर पारदर्शिता नहीं बरती जा रही है. इस बारे में प्रधानमंत्री मोदी को सफाई देनी चाहिए.

वैंकेया नायडू चेन्नई के लिए निकले.

गृहराज्यमंत्री किरण रिजुजू ने कहा है कि हमने फोर्स को स्टैंडबाय पर रखा है. अगर तमिलनाडु को जरूरत पड़ी तो तुरंत मदद भेजी जाएगी.

AIADMK के सारे विधायकों को ग्यारह बजे अपोलो अस्पताल पहुंचने को कहा गया है.

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने भी तमिलनाडु के राज्यपाल से बात करके कानून व्यवस्था का हाल लिया है.

ये भी पढ़ें: जयललिता: बेहतरीन अभिनेत्री से दमदार नेता

केंद्रीय मंत्री वैंकेयानायडू ने तमिलनाडु के राज्यपाल और मुख्य सचिव से बात की है. उनसे जयललिता के हेल्थ अपडेट लिए हैं

डॉक्टरों के मुताबिक जयललिता की हालत गंभीर बनी हुई है और अगले कुछ घंटे बेहद अहम हैं.

गृहमंत्रालय लगातार नजर बनाए हुए है. स्वास्थ्यमंत्रालय अपोलो अस्पताल के संपर्क में है. स्वास्थ्यमंत्री जेपी नड्डा ने कहा है कि दिल्ली एम्स के डॉक्टरों की एक टीम को चेन्नई अपोलो अस्पताल भेजा गया है. चेन्नई अपोलो अस्पताल की तरफ जाने वाली सड़कों पर ट्रैफिक को रोक दिया गया है. सड़कों को ब्लॉक करके समर्थकों की भीड़ को काबू में करने की कोशिश की जा रही है.

राज्य के डीजीपी टी के राजेंद्रन ने अपनी पुलिस टीम को अलर्ट कर दिया है. अगले आदेश तक सारे पुलिसवालों को ड्यूटी पर बने रहने को कहा गया है.

अपोलो अस्पताल के बाहर भारी भीड़ जुटी है. पुलिस ने भीड़ को काबू में करने के लिए अस्पताल के बाहर जगह-जगह बैरिकेटिंग लगाई है. समर्थक अपनी नेता का हाल जानने को बेचैन हैं.

अस्पताल की ओर से जारी ट्वीट के मुताबिक लंदन के डॉक्टर रिचर्ड बील से सलाह ली गई है और उन्होंने अस्पताल के ह्रिदय रोग और श्वास रोग विशेषज्ञों की टीम से बातचीत की है.

अस्पताल ने अपने ट्वीट में कहा है , "मुख्यमंत्री जयललिता आम जनता की नेता हैं. आईए, उनके जल्द ठीक होने की कामना करें"

जयललिता की सेहत के लिए देशभर के लोग दुआएं कर रहे हैं. करीब-करीब सारे नेताओं ने ट्वीट के जरिए उनके सेहतमंद होने की दुआएं की हैं

Sad to hear about the ill health of Tamil Nadu CM #jayalalithaa ji. Praying for her speedy recovery.

— Shahnawaz Hussain (@ShahnawazBJP) December 5, 2016

तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता की सेहत में सुधार के लिए पूरा देश दुआएं कर रहा है. रविवार को दिल का दौरा पड़ने के बाद चेन्नई शहर में उनके समर्थकों की भीड़ जुटनी शुरु हो गई है.

ये भी पढ़ें: जयललिता: बेहतरीन अभिनेत्री से दमदार नेता

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi