S M L

जानिए किन वजहों से टूटा BJP-PDP गठबंधन?

आखिर क्या वजह रही की बीजेपी और पीडीपी ने अपने -अपने रास्ते अलग कर लिए?

FP Staff Updated On: Jun 19, 2018 05:59 PM IST

0
जानिए किन वजहों से टूटा BJP-PDP गठबंधन?

जम्मू-कश्मीर में बीजेपी ने पीडीपी के साथ गठबंधन तोड़ लिया है. 3 साल 3 महीने के बाद महबूबा मुफ्ती की सरकार गिर गई है. ऐसे में एक बार फिर से जम्मू कश्मीर में नए राजनीतिक समीकरण के संकेत मिलने लगे हैं. सवाल उठते हैं कि क्या कोई पार्टी वहां एक फिर से गठबंधन सरकार बना सकती है या फिर एक बार फिर से वहां राज्यपाल शासन देखने को मिलेगा. आखिर क्या वजह रही की बीजेपी और पीडीपी ने अपने -अपने रास्ते अलग कर लिए?

राजनाथ और मुफ्ती की अलग-अलग राय

ईद के बाद गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने सीज़फायर खत्म करने का ऐलान किया. कश्मीर घाटी में रमज़ान के महीनों में सीज़फायर की घोषणा की गई थी. मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती चाहती थीं कि सीज़फायर की मियाद कुछ और दिनों के लिए बढ़ाई जाए. लेकिन केन्द्र सरकार कश्मीर के बिगड़ते माहौल को देखते हुए उनकी बात मानने के लिए तैयार नहीं थी.

जम्मू-कश्मीर के इतिहास में दूसरी बार सीज़फायर का ऐलान किया गया था. इससे पहले नवंबर 2000 में तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने कश्मीर में रमजान के पवित्र महीने के दौरान एकतरफा युद्धविराम की घोषणा कि थी. रमजान के बाद भी इसे पांच महीने के लिए बढ़ा दिया गया. यानी वहां पिछली बार 23 मई 2001 तक सीज़फायर लगा था. उस वक्त जुलाई 2000 में आतंकवादी संगठन हिजबुल-मुजाहिदीन ने भी एकतरफा युद्धविराम की घोषणा की थी. लेकिन दो हफ्ते के दौरान ही हिजबुल-मुजाहिदीन ने सीज़फायर को वापस ले लिया. दरअसल ये संगठन चाहता था कि पाकिस्तान को भी कश्मीर पर बातचीत के लिए शामिल किया जाए. लेकिन उस वक्त गृह सचिव कमल पांडे ने उनकी बात नहीं मानी थी.

सीजफायर को नहीं हुआ था फायदा

सीज़फायर का कोई फायदा नहीं हुआ. रमजान के दौरान आतंकी घटनाओं की संख्या दोगुनी हो गई. आतंकवादी संगठनों में ढेर सारी भर्तियों में शुरू हो गई. इसके अलावा ग्रेनेड हमलों में भी भारी तेजी आई.

ईद से ठीक पहले राइजिंग कश्मीर के संपादक शुजात बुखारी और भारतीय सेना के सैनिक औरंगजेब की हत्या कर दी गई. घाटी के हालात बिगड़ते गए और ऐसे में केन्द्र सरकार पर ये दबाव बढ़ गया कि वो सीज़फायर को तुरंत खत्म करे.

कठुआ रेप केस  के वक्त भी हुआ था मतभेद

ये पहली बार नहीं है जब बीजेपी और पीडीपी गठबंधन में मतभेद हुए हो. इसी साल कठुआ में 8 साल की बच्ची के साथ गैंगरेप और मर्डर के बाद पीडीपी ने हिंदू एकता मंच की रैली में दो बीजेपी मंत्रियों के शामिल होने के मुद्दे पर इस्तीफे की मांग की थी. बीजेपी ने दोनों मंत्रियों को कैबिनेट से इस्तीफा देने को कहा था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi