S M L

राजस्थान विधानसभा चुनाव: सबसे अमीर उम्मीदवार की जमानत जब्त, एक उम्मीदवार को मिले सिर्फ 7 वोट

2018 के विधानसभा चुनाव में कुल 88 राजनीतिक दलों ने अपने प्रत्याशी उतारे. इनमें बीजेपी ने सभी 199 सीटों पर, कांग्रेस ने 194, बसपा ने 189 और आप ने 141 सीटों पर उम्मीदवार खड़े किए. इसके अलावा 830 निर्दलीय प्रत्याशियों ने अपना चुनावी भाग्य आजमाया

Updated On: Dec 16, 2018 08:40 PM IST

Bhasha

0
राजस्थान विधानसभा चुनाव: सबसे अमीर उम्मीदवार की जमानत जब्त, एक उम्मीदवार को मिले सिर्फ 7 वोट

राजस्थान में हाल ही में संपन्न विधानसभा चुनाव में लोकतंत्र की खूबसूरती के कई दिलचस्प नजारे देखने को मिले. जहां 278 करोड़ रुपए की घोषित आय वाली सबसे धनी उम्मीदवार और मौजूदा विधायक इस बार वोटों के मामले में कंगाल साबित हुईं. वहीं एक उम्मीदवार अपने अलावा उन छह लोगों को ढूंढ रहा है, जिन्होंने उसे वोट दिया. दरअसल उसे सबसे कम सिर्फ सात वोट ही मिले हैं.

इस विधानसभा चुनाव में सबसे अमीर प्रत्याशी जमींदारा पार्टी की कामिनी जिंदल (घोषित आय 287 करोड़ रुपए) थीं. पिछली विधानसभा में सबसे धनी विधायक रही कामिनी गंगानगर सीट पर इस बार अपनी जमानत तक नहीं बचा सकीं. केवल 4887 मतों के साथ वे छठे स्थान पर रहीं. रोचक बात यह है कि गंगानगर की चर्चित सीट पर निर्दलीय राजकुमार गौड़ विजयी रहे जो कांग्रेस के बागी हैं.

विधानसभा चुनाव में कम से कम दो प्रत्याशी ऐसे रहे जिन्हें दस या दस से भी कम वोट मिले. इनमें जयपुर में किशनपोल सीट पर निर्दलीय शमीम खान को सात और सादिक को केवल 10 वोट मिले. राज्य की 200 विधानसभा सीटों में से 199 सीटों पर सात दिसंबर को मतदान हुआ. कुल 2274 प्रत्याशी मैदान में थे जिनमें से 1822 की जमानत जब्त हो गई.

ये भी पढ़ें: मुख्यमंत्री पद की शपथ कल लेंगे कमलनाथ, राहुल सहित कई दिग्गज नेता रहेंगे मौजूद

आंकड़ों के नजरिए से देखा जाए तो 2018 के विधानसभा चुनाव में कुल 88 राजनीतिक दलों ने अपने प्रत्याशी उतारे. इनमें बीजेपी ने सभी 199 सीटों पर, कांग्रेस ने 194, बसपा ने 189 और आप ने 141 सीटों पर उम्मीदवार खड़े किए. इसके अलावा 830 निर्दलीय प्रत्याशियों ने अपना चुनावी भाग्य आजमाया.

EDS PLS TAKE NOTE OF THIS PTI PICK OF THE DAY:::::::: New Delhi: Congress Party workers display Congress President Rahul Gandhi's cutout as they celebrate the initial trends showing the party lead in the states Assembly elections, at the Congress headquarters in New Delhi, Tuesday, Dec.11, 2018. (PTI Photo/Ravi Choudhary)(PTI12_11_2018_000042B) (PTI12_11_2018_000276B)

निर्दलीय उम्मीदवारों के लिए चुनाव अच्छा रहा:

निर्दलीय उम्मीदवारों का प्रदर्शन इस बार काफी अच्छा कहा जा सकता है. क्योंकि 13 सीटों पर न केवल निर्दलीय उम्मीदवार जीते बल्कि बामनवास, करणपुर, मेड़ता,रतनगढ़, पाली, थानागाजी और सिवाना सहित दस सीटों पर वे दूसरे नंबर पर रहे. यानी कुल मिलाकर साढ़े नौ प्रतिशत मतों के साथ उन्होंने लगभग 25 सीटों पर परिणाम को सीधे सीधे प्रभावित किया. राज्य की थानागाजी सीट पर तो मुख्य मुकाबला ही दो निर्दलीय उम्मीदवारों के बीच रहा जिसमें कांति प्रसाद जीते और हेम सिंह दूसरे स्थान पर रहे.

इसी तरह बीजेपी ने इस बार दो धर्मगुरुओं को टिकट दिया था. सिरवियों के धर्मगुरू और वसुंधरा राजे सरकार में गौ पालन मंत्री रहे ओटाराम देवासी सिरोही में कांग्रेस के बागी संयम लोढ़ा से हार गए. बीजेपी ने पोकरण सीट पर विख्यात तारातरा मठ के महंत प्रतापुरी को टिकट दिया था. यहां कांग्रेस के शाले मोहम्मद जीते.

ये भी पढ़ें: 2019 के लोकसभा चुनाव में साथ आ सकती कांग्रेस और आप: सूत्र

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi