S M L

'तानाशाही तरीके से सरकार चला रहे लोगों का इंदिरा गांधी पर आरोप लगाना दुर्भाग्यपूर्ण'

गहलोत ने कहा कि 1975 के बाद बदली परिस्थितियों के बावजूद आज प्रदर्शनकारी अपने लोकतांत्रिक अधिकारों के लिये आंदोलन कर रहे हैं और उनके खिलाफ देशद्रोह के मुकदमे दर्ज किए जा रहे हैं

Updated On: Jun 26, 2018 09:01 PM IST

Bhasha

0
'तानाशाही तरीके से सरकार चला रहे लोगों का इंदिरा गांधी पर आरोप लगाना दुर्भाग्यपूर्ण'

कांग्रेस के संगठन महासचिव एवं राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि जो लोग तानाशाही तरीके से देश, सरकार और एक पार्टी चला रहे हैं वे महिला शक्ति की प्रतीक पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी पर आरोप लगा रहें हैं.

गहलोत ने केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली के उस हालिया बयान पर तीखी प्रतिक्रिया जताई जिसमें उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की तुलना हिटलर से की है. गहलोत ने बीजेपी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि बीजेपी नेताओं के हाल के बयानों से स्पष्ट होता है कि मोदी सरकार तानाशाही रवैये से काम कर रही है.

उन्होंने कहा कि बीजेपी नेता लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, अरुण शौरी, शत्रुघ्न सिन्हा और घनश्याम तिवाड़ी के समय-समय पर मीडिया में आए बयानों से यह स्पष्ट होता है कि बीजेपी सरकार तानाशाह है.

गहलोत ने दावा किया कि बीजेपी और आरएसएस के नेताओं को एक झूठ को सौ बार बोलकर 'सच जैसा' साबित करने में महारत हासिल है. ऐसा ही वे पिछले 43 वर्षों से आपातकाल के मामले में कर रहे हैं.

उन्होंने कहा कि सच यह है कि इंदिरा गांधी ने आपातकाल अपनी कुर्सी बचाने के लिए नहीं अपितु इस देश को बचाने के लिए लगाया था. हर साल आपातकाल की वर्षगांठ मनाने वाले देश की जनता और खासतौर पर नई पीढ़ी को यह नहीं बताते कि उस वक्त इन्होंने देश का क्या हाल कर दिया था?

उन्होंने कहा कि एक नेता रेल की पटरियों को उखाड़ फेंकने के नारे दे रहे थे तो एक अन्य देश में घूम-घूम कर सेना और पुलिस को सरकार के खिलाफ बगावत करने, उसके आदेशों की अवहेलना करने के लिए उकसा रहे थे.

गहलोत ने कहा कि 1975 के बाद बदली परिस्थितियों के बावजूद आज प्रदर्शनकारी अपने लोकतांत्रिक अधिकारों के लिये आंदोलन कर रहे हैं और उनके खिलाफ देशद्रोह के मुकदमे दर्ज किए जा रहे हैं, किसानों को जगह जगह लाठी..गोली बरसाकर जेलों में बंद किया जा रहा है.

उन्होंने कहा कि सच वही है जो मैं बार-बार कहता हूं. ये फांसीवादी संगठन और मनोवृत्ति के लोग हैं. लोकतंत्र इनके सपनों में भी नहीं आता. बीजेपी और उसके नेता देश की जनता को यह नहीं बताते कि पाकिस्तान को तोड़कर बंगलादेश इंदिरा गांधी ने बनाया.

उन्होंने कहा कि यह वही इंदिरा गांधी थीं जिन्होंने बैंकों का राष्ट्रीयकरण किया, राजा- महाराजाओं के ‘प्रीविपर्स’ बंद किए और गरीबी हटाने के लिए बड़े-बड़े कार्यक्रम आरंभ किए लेकिन बीजेपी नेता इस बारे में नहीं बोलेंगे.

गहलोत ने कहा कि बीजेपी के तमाम नेताओं में यदि जरा सी भी नैतिकता, ईमानदारी और सच के साथ चलने की हिम्मत है तो उन्हें इंदिरा गांधी की आलोचनाओं के लिए देश से माफी मांगकर उनके दिए कार्यक्रमों पर तेजी से अमल शुरू करना चाहिए.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi