S M L

विश्वसनीयता के मामले में BJP-कांग्रेस दोनों ही सरकारों का रिकॉर्ड अच्छा नहीं: मायावती

मायावती ने एक बयान में कहा, वैसे भी विश्वसनीयता के मामले में कांग्रेस व बीजेपी दोनों ही सरकारों का रिकॉर्ड ऐसा अच्छा नहीं रहा है कि जनता इन पर आसानी से विश्वास कर ले

Updated On: Jan 29, 2019 04:46 PM IST

Bhasha

0
विश्वसनीयता के मामले में BJP-कांग्रेस दोनों ही सरकारों का रिकॉर्ड अच्छा नहीं: मायावती

बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने मंगलवार को कहा कि विश्वसनीयता के मामले में कांग्रेस और बीजेपी दोनों ही सरकारों का रिकॉर्ड अच्छा नहीं है. मायावती ने एक बयान में कहा, 'वैसे भी विश्वसनीयता के मामले में कांग्रेस व बीजेपी दोनों ही सरकारों का रिकॉर्ड ऐसा अच्छा नहीं रहा है कि जनता इन पर आसानी से विश्वास कर ले. खासकर चुनावी वायदे व घोषणा-पत्र पर तो लोगों को बिल्कुल भी भरोसा नहीं रहा है. इस संबंध में कुछ फैसले अगर लागू भी हुए तो वे केवल दिखावटी ही साबित हुए हैं, जो जग-जाहिर है.'

उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी की ओर से लोकसभा चुनाव से ठीक पहले इस लुभावनी घोषणा से पूरा देश आशंकित है कि 'सत्ता में आए तो देश में गरीबी व भूखमरी का अंत करने के लिए न्यूनतम आय की गारंटी सुनिश्चित करेंगे.'

यह भी पढ़ें- Minimum income guarantee पर राहुल पर मायावती का तंज, 'फिर किया झूठा वादा'

मायावती ने कहा कि इस घोषणा से पूरा देश चकित व आशंकित है कि कहीं यह भी उनके साथ वैसा ही छलावा व क्रूर मजाक तो नहीं है जो पूर्व की इनकी सरकारों ने किया है.

उन्होंने कहा कि 'गरीबी हटाओ’ का बहुचर्चित नारा और वर्तमान में केंद्र की बीजेपी सरकार का विदेश से कालाधन वापस लाकर देश के हर गरीब को 15 से 20 लाख रुपए देकर उनके 'अच्छे दिन’ लाने का लोक-लुभावन वायदा पूरी तरह से छलावा व वादाखिलाफी ही साबित हुआ है.

मायावती ने कहा कि कांग्रेस पार्टी के प्रमुख को ऐसी कोई भी घोषणा व ऐसा कोई भी वायदा देश की जनता से करने के पहले जनहित, जनकल्याण व गरीबी उन्मूलन की उन योजनाओं को कांग्रेस शासित राज्यों में से खासकर राजस्थान, पंजाब, मध्य प्रदेश व छत्तीसगढ़ में सही से लागू करके दिखाना चाहिए था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi