S M L

देश भर में MP, MLA के खिलाफ लगभग 4,000 आपराधिक केस लंबित

चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ मंगलवार को एक जनहित याचिका पर वर्तमान और पूर्व सांसदों-विधायकों के खिलाफ आपराधिक मामलों से संबंधित मुद्दों पर विचार करेगी

Updated On: Dec 04, 2018 12:15 PM IST

Bhasha

0
देश भर में MP, MLA के खिलाफ लगभग 4,000 आपराधिक केस लंबित

सुप्रीम कोर्ट को संसद और विधानसभाओं के वर्तमान और कुछ पूर्व सदस्यों के खिलाफ 3 दशकों से भी अधिक समय से 4,122 आपराधिक मामले लंबित होने की आज यानी मंगलवार को जानकारी दी गई.

चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ एक जनहित याचिका (पीआईएल) पर वर्तमान और पूर्व सांसदों और विधायकों के खिलाफ आपराधिक मामलों से संबंधित मुद्दों पर मंगलवार को विचार करेगी.

अदालत ने राज्यों और विभिन्न हाईकोर्ट से वर्तमान और पूर्व विधायकों के खिलाफ लंबित आपराधिक मामलों की विस्तृत जानकारी मांगी थी ताकि ऐसे मामलों में जल्द सुनवाई के लिए पर्याप्त संख्या में विशेष अदालतों का गठन किया जा सके.

वरिष्ठ वकील विजय हंसारिया और वकील स्नेहा कालिता इस मामले में न्यायमित्र की भूमिका में हैं. उन्होंने राज्यों और हाईकोर्ट से प्राप्त डेटा सुप्रीम कोर्ट में पेश किया. यह डेटा बताता है कि 264 मामलों में हाईकोर्ट ने सुनवाई पर रोक लगा दी. यही नहीं, वर्ष 1991 से लंबित कई मामलों में तो आरोप तक तय नहीं किए गए हैं.

वकील और बीजेपी नेता अश्चिनी उपाध्याय की उस याचिका पर अदालत सुनवाई करेगी जिसमें आपराधिक मामलों में दोषी सिद्ध नेताओं पर आजीवन प्रतिबंध लगाने की मांग की गई है.

इसके अलावा अदालत निर्वाचित प्रतिनिधियों से जुड़े इस तरह के मामलों में तेज सुनवाई के लिए विशेष अदालतें गठित करने पर भी विचार करेगी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi