S M L

यूपी: चाय पार्टी और डिनर डिप्लोमेसी के बाद जानिए क्या है राज्यसभा में जीत का अंकगणित

अखिलेश ने विधायकों को डिनर पर बुलाया था, इस दौरान शिवपाल यादव भी मौजूद थे, पार्टी ने तय किया कि उनके विधायक राज्यसभा चुनाव में एसपी और बीएसपी उम्मदीवार को वोट करेंगे

Abhishek Tiwari Abhishek Tiwari Updated On: Mar 23, 2018 01:06 PM IST

0
यूपी: चाय पार्टी और डिनर डिप्लोमेसी के बाद जानिए क्या है राज्यसभा में जीत का अंकगणित

उत्तर प्रदेश में राज्यसभा चुनाव को देखते हुए पार्टियां अपनी रणनीति बनाने में लगी हुई हैं. राज्य के 10 राज्यसभा सीट के लिए बीजेपी ने 9 उम्मीदवार उतारे हैं जबकि एसपी और बीएसपी के एक-एक उम्मीदवार हैं. बीजेपी के 9 उम्मीदवारों के मैदान में होने से बीएसपी के लिए मुकाबला कठिन हो गया है. इन्हीं सब को ध्यान में रखकर बुधवार को एसपी ने अपने सभी विधायकों और सहयोगियों को डिनर पर बुलाया था. इस डिनर पर सबसे ज्यादा ध्यान किसी का था तो वो थी मायावती. इस डिनर के बाद मायावती को अपने राज्यसभा उम्मीदवार की जीत की आशा जरूर थोड़ी ज्यादा हो गई होगी.

समाजवादी पार्टी मुखिया अखिलेश यादव ने विधायकों को लखनऊ के एक लग्जरी होटल में डिनर के लिए बुलाया था. इस डिनर में नाराज चल रहे चाचा शिवपाल भी पहुंचे थे. यहां पर तय हुआ कि पार्टी के विधायक राज्यसभा के एसपी और बीएसपी उम्मीदवार को वोट करेंगे.

डिनर में अखिलेश के साथ चाचा शिवपाल भी थे मौजूद

अखिलेश से नाराज चल रहे चाचा शिवपाल पिछले एक साल में सार्वजनिक तौर पर पहली बार एक साथ आए थे. फूलपुर और गोरखपुर सीट जीतने के बाद शिवपाल ने अखिलेश के नेतृत्व की तारिफ की थी.

इस डिनर में सिर्फ एक विधायक उपस्थित नहीं हुए और वो थे बीजेपी का दामन थाम चुके नरेश अग्रवाल के बेटे नितिन अग्रवाल. नितिन को बीजेपी नेताओं के साथ मीटिंग करते देखा गया था.

उत्तर प्रदेश के 10 राज्यसभा सीटों पर फैसला शुक्रवार को

शुक्रवार को होने वाले राज्यसभा चुनाव के लिए मायावती को एसपी के समर्थन की हर हाल में जरुरत होगी. बीजेपी के पास कुल 311 विधायक हैं और उनके 8 उम्मीदवारों की जीत तय है. उत्तर प्रदेश में एक राज्यसभा उम्मीदवार के लिए 37 विधायकों के वोट की जरुरत होती है.

समाजवादी पार्टी के 47 विधायक हैं और उनके एकमात्र उम्मीदवार के जीत के लिए यह काफी है. अपने उम्मीदवार को जीताने के बाद भी एसपी के पास 10 विधायक बचे रहेंगे.

मायावती को जीत की उम्मीद

मायावती के पास कुल 19 एमएलए हैं और उनको जीत के लिए 18 विधायकों की जरुरत पड़ेगी. यदि एसपी के सभी 10 विधायकों ने बीएसपी के उम्मीदवार के पक्ष में वोट दे दिया तब भी वो जादुई आंकड़े से 8 कदम पीछे रह जाएंगी. हालांकि कांग्रेस ने अपने 7 विधायकों के वोट का वादा बीएसपी से किया है. इसके अलावा अजीत सिंह ने भी बीएसपी को सपोर्ट करने की बात कही है. साथ ही साथ मायावती को एक वोट निशाद पार्टी से मिलना तय है.

मायावती को इस डिनर के बाद उम्मीद जगी है कि उनके पार्टी के उम्मीदवार राज्यसभा पहुंच जाएंगे.

बीजेपी ने उत्तर प्रदेश से 9 उम्मीदवारों को मैदान में उतारा है. 8 उम्मीदवारों की जीत के बाद बीजेपी के पास 28 अतिरिक्त विधायक है. ऐसे में बीजेपी ने सोचा होगा कि 9 और विधायकों को अपने पाले में कर सारे उम्मीदवारों की जीत सुनिश्चित कर ली जाएगी. लेकिन उपचुनावों में बीजेपी को मिली हार और राज्य में बने नए राजनीतिक समीकरण के बाद यह थोड़ा मुश्किल लग रहा है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi