विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

अगर यूपी जीतना है तो बनारस को जीतना ही होगा

पीएम को यह एहसास है कि बनारसी मिजाज को अगर समझना है तो वह बनारस में रह कर ही समझ सकते हैं

Ravishankar Singh Ravishankar Singh Updated On: Mar 05, 2017 10:32 PM IST

0
अगर यूपी जीतना है तो बनारस को जीतना ही होगा

यूपी विधानसभा चुनाव के आखिरी चुनाव अभियान में निकले पीएम मोदी बनारस में डटे हुए हैं. 2014 के लोकसभा चुनाव में मोदी ने जितना वक्त बनारस में नहीं गुजारा था उससे कहीं ज्यादा वक्त इस बार बनारस में गुजार रहे हैं.

पीएम मोदी को यह एहसास है कि बनारसी मिजाज को अगर समझना है तो वह बनारस में रह कर ही समझ सकते हैं. लोगों का दिल अगर जीतना है तो यहां रह कर ही जीता जा सकता है. मोदी का बनारस में जोरदार चुनाव अभियान सोमवार को भी जारी रहेगा.

5 मार्च को भी पीएम मोदी ने एक बार फिर से रोड शो किया और फिर काशी विद्यापीठ में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए विपक्षी पार्टियों और उनके नेताओं पर जमकर हमला बोला.

मोदी के भाषण के प्रमुख अंश

काशी विद्यापीठ में पीएम मोदी ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा, बनारस का कायाकल्प करने की जरूरत है. मुझसे लोग कहते हैं कि आप बनारस को नहीं जानते. वो लोग बनारस के बारे में कहते हैं 'यहां भी खुदा है, वहां भी खुदा है.जहां नहीं खुदा है वहां कब खुदेगा'

पीएम मोदी ने कहा, देश का पश्चिमी हिस्सा ज्यादा विकसित है जबकि पूर्वी भारत अभी भी पिछड़ा हुआ है. मैं पूर्वी भारत, पूर्वांचल का विकास करना चाहता हूं. यहां काफी मौके है लेकिन कमी सिर्फ एक अच्छी सरकार की है.

मोदी ने आगे कहा, मेरी सरकार की मंशा 'सबका साथ सबका विकास' है लेकिन यूपी की सरकार का मानना है 'कुछ का साथ, कुछ का विकास'. ये लोग चुनाव जीतने के लिए कुछ लोगों का ही साथ ले रहे हैं.

उन्होंने कहा कि यूपी में जापानी बुखार से कई बच्चों की मौत हो चुकी है. हमारी सरकार मदद के लिए पैसे देती है लेकिन यूपी की सरकार पैसों का इस्तेमाल भी नहीं कर पा रही है.

pm modi jaunpur rally

पीएम ने कहा कि मैं पैसा देता हूं लेकिन साथ में हिसाब भी मांगता हूं लेकिन ये भला कैसे हिसाब देंगे, जो हिसाब रखते ही नहीं हैं

मोदी ने कहा, '8 नवंबर को जब मोदी ने टीवी पर आकर कहा, 'मेरे प्यारे भाईयों और बहनों'...ये बीएसपी, कांग्रेस और समाजवादी पार्टी एक हो गए. बहनजी ने कहा, मोदी जी 7-8 दिनों का मौका दे देते.'

'आखिर क्यों भाई ? ये लोग आम जनता को बरगला रहे थे. इनकम टैक्स वाले परेशान करेंगे. कारोबारियों का नुकसान होगा. लेकिन ऐसा नहीं होगा. अब ईमानदारों का वक्त आ गया है. जिन लोगों ने देश का पैसा लूटा है उनसे पैसा वापस लेना है.'

उन्होंने कहा, '2014 में जब मैं यहां चुनाव लड़ने आया तो उस वक्त मैं प्रचार नहीं कर पाया था. मैं सिर्फ नामांकन भरने आ पाया था. लेकिन आपने मुझे प्यार दिया.'

'आप 2009-2010 में जब अखबार पढ़ते थे तो रोज खबरें आती थी कि 2जी घोटाले में कितने गए. हेलिकॉप्टर घोटाले में कितने गए, कोयला घोटाला में कितने गए. अब लोग पूछते हैं कि मोदी जी कितने आए. पहले पैसे जाते थे, अब आते हैं. लेकिन ये चीजें कुछ लोगों को नजर नहीं आती हैं. इन्हें मोतियाबिंद की तरह वोटबिंद हो गया है.'

'पूर्वांचल के पास सब कुछ है सिर्फ एक कमी है, सही सरकार नहीं है. अगर सही सरकार होती तो पूर्वांचल आगे बढ़ जाता.'

मोदी ने कहा, '2022 तक हिंदुस्तान में कोई ऐसा परिवार न हो जिनके पास घर न हो. हम ऐसा काम करना चाहते है. हमने यूपी सरकार को कहा कि यहां 20 लाख लोगों को घरों की जरूरत है. मैंने राज्य सरकार से ऐसे लोगों की लिस्ट मांगी. लेकिन यह लिस्ट नहीं दे पाए. जो लिस्ट नहीं दे सकते वो घर क्या बनाएंगे.'

पीएम ने कहा, 'बनारस में सड़कों के निर्माण के लिए केंद्र सरकार काम कर रही है लेकिन राज्य सरकार की तरफ से कोई समर्थन नहीं है. जिससे काम की रफ्तार धीमी है.'

'जो लोग मिट्टी से जुड़े होते हैं उनमें फैसले करने की हिम्मत होती है. लेकिन यहां लोगों को घलुआ मिला है. किसी को दादी और नाना से मिला है तो किसी को अपने पिता से मिली है राजनीतिक विरासत. मुझे राजनीति विरासत में नहीं मिली है. इसलिए मुझमें फैसले लेने की हिम्मत है.'

सर्जिकल स्ट्राइक पर मोदी ने कहा, 'हमारे देश के जवान मौत को मुट्ठी में लेकर दुश्मन के छक्के छुड़ाने गए थे और सुबह आकर खबर दी कि ऑपरेशन कामयाब रहा. लेकिन ये लोगों को नहीं दिखता. वो मेरे सैनिकों से जवाब मांगते है.'

मोदी के रंग में रंगा बनारस 

कई रंगों को साथ लेकर चलने वाला बनारस राजनेताओं के रंग में रंग गया है. पीएम मोदी समेत देश के दो दर्जन से भी अधिक बीजेपी के मंत्री और सांसद बनारसी राजनीतिक फिजा को परखने की कवायद में लगे हैं.

यूं कहें तो पिछले तीन दिनों से मोदी के रंग में बनारस रंगा है. पीम मोदी पिछले तीन दिनों से बनारस में अड्डा जमाए हैं. 4 मार्च को पीएम मोदी ने रोड शो किया था और 5 मार्च को भी पीएम मोदी ने रोड शो किया.

5 मार्च को पीएम मोदी को रोड शो पांडेयपुर चौराहा से शुरू हो कर महात्मा गांधी विद्यापीठ चौराहा पर जा कर खत्म हुआ. पांडेयपुर चौराहे से लेकर हुकुलगंज होते हुए मोदी का रोड शो चौकाघाट पहुंचा.

काशी में रोड दोनों किनारे पर मौजूद लोग मोदी को नजदीक से देखना चाह रहे थे. मोदी भी लोगों के साथ ऐसे हाथ हिला रहे थे जैसे मानों उनका उस व्यक्ति से काफी आत्मीय संबंध है.

modi3

4 मार्च को मोदी के रोड शो पर विवाद

4 मार्च को रोड शो के लिए मोदी की पर विपक्षी पार्टियों ने हमला बोला. बहुजन समाज पार्टी सुप्रीमो मयावती ने लखनऊ में कहा कि पीएम मोदी का वाराणसी में रोड शो आचार संहिता का खुलेआम उल्लंघन है.

मायावती ने कहा कि इससे निष्पक्ष चुनाव पर असर पड़ेगा. चुनाव आयोग को इस पर जरूरी एक्शन लेना चाहिए. यह लोकतंत्र के लिए एक गंभीर खतरे की बात है. कांग्रेस के नेताओं ने भी मोदी के रोड शो को लेकर चुनाव आयोग से शिकायत की है.

विपक्षी पार्टियों के शिकायत पर ऊर्जा मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि पीएम मोदी तो काशी और मंदिर का दर्शन करने गए थे. पीयूष गोयल का कहना है कि 4 मार्च को हुआ मोदी का रोड शो, रोड शो था ही नहीं.

पीएम मोदी 6 मार्च को भी वाराणसी में रहेंगे. पीएम मोदी कई अहम कार्यक्रमों में शिरकत करेंगे. सबसे पहले पीएम मोदी गढ़वाघाट का दौरा करेंगे.

फिर दोपहर 12 बजे के पीएम मोदी भारत के पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री के निवास स्थान पर जा कर उनके श्रद्धांजलि कार्यक्रम में भाग लेंगे. फिर दोपहर एक बजे के करीब खुशीपुर में एक सभा को संबोधित करेंगे. शाम में फिर दिल्ली के लिए मोदी रवाना हो जाएंगे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi