S M L

लालू के तंज से भड़क उठे सुशील, कहा- जेल से कैसे कर रहे हैं ट्वीट

गया जिले में अपराधियों से हाथ जोड़ने की बात पर लालू के ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया गया, 'हाथ-गोड़ कुछउ जोड़, अपराधियों के चरण धोकर उनका चरणामृत भी पी लो, अरे शर्म करो’

Updated On: Sep 26, 2018 03:28 PM IST

FP Staff

0
लालू के तंज से भड़क उठे सुशील, कहा- जेल से कैसे कर रहे हैं ट्वीट

मंगलवार को बिहार के उपमुख्यमंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी ने कहा कि चारा घोटाला मामले में सजायाफ्ता आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद के ट्वीट कर राजनीतिक टिप्पणी करने पर सीबीआई को नोटिस लेना चाहिए. इसी के साथ उन्होंने कहा कि सीबीआई को जेल से बयानबाजी करने को लेकर अदालत को अवगत कराना चाहिए.

सुशील ने ट्वीट कर कहा कि चारा घोटाला के चार मामलों में सजायाफ्ता लालू प्रसाद न चुनाव लड़ सकते हैं, न सजा काटने तक बंदी रहते हुए वे बयानबाजी कर सकते हैं. उन्होंने आरोप लगाया कि लालू प्रसाद जेल नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए जिस तरह लगातार ट्वीट कर राजनीतिक टिप्पणी कर रहे हैं. उस पर सीबीआई को नोटिस लेना चाहिए और इससे कोर्ट को अवगत कराना चाहिए.

अपराधियों के चरण धोकर उनका चरणामृत भी पी लो: लालू 

लालू ने उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी के अपराधियों से पितृपक्ष के दौरान किसी वारदात को अंजाम नहीं देने के आग्रह को लेकर उन पर और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर निशाना साधा था. उन्होंने मंगलवार को ट्वीट कर कहा, 'हाथ-गोड़ कुछउ जोड़, अपराधियों के चरण धोकर उनका चरणामृत भी पी लो. अरे शर्म करो.’

इसी के साथ लालू ने उपमुख्यमंत्री और मुख्यमंत्री पर निशाना साधते हुए आरोप लगाया, 'तोहार लोगन के इकबाल खत्म बा. चोर दरवाजे से राज-काज में घुसल है ना, सो दुनो में नैतिक बल अउर आत्मविश्वास की कमी रहल.’ दरअसल सुशील ने गत 23 सितंबर को गया जिले में पितृपक्ष मेले का उद्घाटन करते हुए अपराधियों से पितृपक्ष के दौरान किसी वारदात को अंजाम नहीं देने का आग्रह किया था.

मेरा कार्यालय चलाएगा ट्विटर हैंडल: लालू

पटना शहर में मंगलवार को आयोजित एक कार्यक्रम में भाग लेने पहुंचे सुशील से जब पत्रकारों ने उनके उक्त बयान के बारे में पूछा तो वह इस पर बिना टिप्पणी किए वहां से रवाना हो गए. हालांकि कार्यक्रम के दौरान उन्होंने लालू यादव के जेल में रहते हुए बयानबाजी करने पर सीबीआई को नोटिस लेने की बात जरूर कही.

इसके बाद लालू ने अपने ट्वीट के बारे में सफाई देते हुए कहा, 'प्रिय मित्रों, जेल में रहते हुए, मेरा ट्विटर हैंडल परिवार के परामर्श से मेरे कार्यालय द्वारा संचालित किया जाएगा. मैं आगंतुकों के माध्यम से अपने मन की बात बोलूंगा. संविधान को संरक्षित करने और कमजोर समूहों के अधिकारों की रक्षा करने के लिए लड़ाई जारी रहेगी.’

(इनपुट भाषा से)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi