S M L

एनआईए करेगी आतंकी सैफुल्ला के एनकाउंटर की जांच: राजनाथ सिंह

आतंकी सैफुल्ला के आईएसआईएस से संबंध होने की बात की जा रही थी

Bhasha Updated On: Mar 09, 2017 03:18 PM IST

0
एनआईए करेगी आतंकी सैफुल्ला के एनकाउंटर की जांच: राजनाथ सिंह

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि लखनऊ एनकाउंटर में मारे गए आतंकवादी सैफुल्ला और उससे जुड़े मध्यप्रदेश के ट्रेन में बम ब्लास्ट मामले की जांच एनआईए करेगी.

लोकसभा में इस मामले पर जवाब देते हुए राजनाथ सिंह ने मृत आतंकी सैफुल्ला के पिता मोहम्मद सरताज के अपने बेटे के शव न लेने और उसके पीछे दिए तर्क की तारीफ की है. सरताज ने कहा था कि एक देशद्रोही के शव को वो नहीं लेंगे. राजनाथ सिंह ने इस पर कहा है कि जो अपने देश का नहीं हुआ, वह हमारा कैसे होगा.

गृहमंत्री ने कहा, ‘‘ मोहम्मद सरताज पर सरकार और पूरे सदन को नाज है. ’’ इस पर सदन के सदस्यों ने मेज थपथपा का इसका स्वागत किया.

आतंकी सैफुल्ला मंगलवार को मध्यप्रदेश के शाजापुर जिले में भोपाल-उज्जैन ट्रेन में हुए विस्फोट मामले में संदिग्ध था.

गृह मंत्री ने कहा कि यह घटनाक्रम राज्य पुलिस और केंद्रीय एजेंसियों के बीच तामलेल का बेहतरीन उदाहरण है. उन्होंने कहा, ‘‘ इस पूरे प्रकरण की जांच एनआईए से करायी जायेगी. ’’ राजनाथ सिंह ने इस मामले में मध्यप्रदेश और उत्तर प्रदेश में दोनों राज्यों में दर्ज मामलों का भी जिक्र किया.

उन्होंने बताया कि भोपाल-उज्जैन ट्रेन में हुए विस्फोट में 10 रेलयात्रियों को चोटें आई और रेलवे सम्पत्ति को भी नुकसान पहुंचा. घायलों को तत्काल अस्पताल पहुंचाया गया. वर्तमान में सभी घायलों की स्थिति खतरे से बाहर है.

गृहमंत्री ने बताया कि संदिग्धों से की गई पूछताछ और दूसरी जानकारियों के आधार पर उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा लखनऊ, इटावा, कानपुर और औरैया में विभिन्न स्थानों पर कार्रवाई की गई.

उन्होंने बताया कि लखनऊ के काकोरी थाने के हाजी कॉलोनी स्थित एक मकान में कानपुर निवासी मोहम्मद सैफुल्ला उर्फ अली के किराये पर रहने की सूचना प्राप्त हुई. एटीएस उत्तरप्रदेश द्वारा उस मकान की घेराबंदी की गई और संदिग्ध सैफुल्ला को गिरफ्तार करने के प्रयास किये गए. लेकिन उसने आत्मसमर्पण करने से इंकार किया और एटीएस पर गोलीबारी की.

राजनाथ सिंह ने बताया कि आखिरकार करीब 12 घंटे की कोशिश के बाद एटीएस टीम ने सैफुल्ला के कमरे में प्रवेश किया औक आमने सामने की मुठभेड़ में इस संदिग्ध आतंकी को मार गिराया.

उन्होंने बताया कि मृतक के कमरे से आठ पिस्तौल, 630 कारतूस बरामद हुई. इसके अलावा 1.5 लाख रूपये, लगभग 45 ग्राम सोना, तीन मोबाइल फोन, चार सिमकार्ड, दो वाकीटॉकी सेट और कुछ विदेशी करेंसी भी मिली.

राजनाथ सिंह ने बताया कि एटीएस उत्तरप्रदेश द्वारा दो अन्य अभियुक्तों को संदिग्ध आतंकवादियों को हथियारों की आपूर्ति करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है. इस प्रकार से अब तक कुल छह गिरफ्तारियां इस पूरे घटनाक्रम में हुई हैं.

मध्यप्रदेश ट्रेन विस्फोट का जिक्र करते हुए राजनाथ सिंह ने कहा कि घटनास्थल की शुरुआती जांच से संकेत मिला है कि अपराधियों ने आईईडी ब्लास्ट किया था.

गृहमंत्री ने कहा कि इस मामले की जांच में सेंट्रल इंवेस्टिगेशन एजेंसियां तालमेल कर रही हैं. इस बारे में और जानकारी इकट्ठी की जा रही है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi