S M L

गोडसे मंदिर विवाद: सिंधिया ने क्यों नहीं रोका निर्माण- बीजेपी

ग्वालियर में गोडसे का मंदिर बनाए जाने पर भड़की कांग्रेस सूबे में सत्तारूढ़ बीजेपी के खिलाफ जगह-जगह विरोध प्रदर्शन कर रही है

Updated On: Nov 17, 2017 07:32 PM IST

Bhasha

0
गोडसे मंदिर विवाद: सिंधिया ने क्यों नहीं रोका निर्माण- बीजेपी

महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे का मध्यप्रदेश के ग्वालियर में मंदिर बनाए जाने को लेकर सत्तारूढ़ बीजेपी ने वरिष्ठ कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के खिलाफ शुक्रवार को तंज कसा और कहा कि उन्होंने काम को क्यों नहीं रुकवाया.

बीजेपी की प्रदेश इकाई के अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान ने संवाददाताओं से कहा, ‘मैंने सुना है कि ग्वालियर में गोडसे का मंदिर बना है. ग्वालियर में कांग्रेस के वह कद्दावर नेता (सिंधिया) जिन्हें महाराजा कहलाने में खुशी होती है, उनमें क्या इतनी भी क्षमता नहीं है कि वह इस तरीके के काम (गोडसे मंदिर का निर्माण) को रोक सकें.’

उन्होंने पूर्व सिंधिया रियासत के उत्तराधिकारी पर कटाक्ष करते हुए कहा, 'वह (सिंधिया) ग्वालियर के महाराजा हैं. उन्होंने अपने प्रभाव का इस्तेमाल गोडसे मंदिर का निर्माण रुकवाने में क्यों नहीं किया.’

चौहान ने कांग्रेस के इस आरोप को बिल्कुल निराधार बताया कि गोडसे का मंदिर बनाने वाले लोगों का बीजेपी समर्थन कर रही है.

प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि जो लोग गोडसे का मंदिर बना रहे हैं, वे 'निराले' लोग हैं. कांग्रेस के पास निराधार आरोप लगाने के अलावा कुछ भी नहीं बचा है.

उन्होंने कहा, 'हम इस पक्ष में नहीं हैं कि प्रदेश में गोडसे का मंदिर बनना चाहिए. परंपराओं का पालन होना चाहिए. मैं समझता हूं कि इस संबंध में आपको (मीडिया को) भी सवाल नहीं करने चाहिए.'

हिंदू महासभा ने किया है मंदिर का निर्माण

प्रशासन से इजाजत न मिलने के बावजूद हिंदू महासभा के कार्यकर्ताओं ने ग्वालियर के दौलतगंज क्षेत्र में अपने कार्यालय में गोडसे का मंदिर बनाया है, जहां महात्मा गांधी के हत्यारे की आवक्ष प्रतिमा स्थापित की गई है.

गोडसे का मंदिर बनाए जाने पर भड़की कांग्रेस सूबे में सत्तारूढ़ बीजेपी के खिलाफ जगह-जगह विरोध प्रदर्शन कर रही है. वरिष्ठ कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने इस मामले में 15 नवंबर को ट्वीट कर कहा था, 'गांधीजी के नाम का सहारा लेकर उपवास का ढोंग करने वाले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की नाक के नीचे बापू के हत्यारे का मंदिर स्थापित किया जा रहा है. इस शर्मनाक कृत्य की जितनी निंदा की जाए, वह कम है.'

विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने भी कहा था कि ‘इस विवाद से राष्ट्रपिता महात्मा गांधी निरादर हुआ है. इससे पहले मुरैना में महात्मा गांधी की प्रतिमा को आग लगायी गयी थी और अब महासभा ने बापू के हत्यारे का मंदिर ग्वालियर में बनाया है. हमारी मांग है कि इन लोगों के खिलाफ देशद्रोह का मामला दायर किया जाए.’

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi