S M L

हिमाचल: बिना खेमेबाजी वाला मंत्रिमंडल, ये हो सकते हैं अहम चेहरे

जो संगठन और राजनीति में अनुभवी नेता चुनावों में जीत कर विधानसभा में पहुंचे हैं, उनमे से अधिकांश को मंत्रिमंडल में स्थान मिलना लगभग तय है

Updated On: Dec 26, 2017 11:52 AM IST

Matul Saxena

0
हिमाचल: बिना खेमेबाजी वाला मंत्रिमंडल, ये हो सकते हैं अहम चेहरे

अगले 27 दिसंबर को हिमाचल के नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के शपथ-ग्रहण समारोह में शामिल मंत्रिमंडल के सदस्य बिना किसी गुट अथवा खेमेबाजी के शामिल होंगे. दरअसल जयराम ठाकुर को भारतीय जनता पार्टी के सभी वरिष्ठ नेताओं शांता कुमार, प्रेमकुमार धूमल और जगतप्रकाश नड्डा का पूरा समर्थन प्राप्त है. इसके अतिरिक्त प्रदेश में जो नेता गुटबंदी का जहर फैला कर अपनी राजनीति को कायम रखते थे, उन्हें प्रदेश की जनता ने चुनावी राजनीति से दूर कर दिया है.

जो संगठन और राजनीति में अनुभवी नेता चुनावों में जीत कर विधानसभा में पहुंचे हैं, उनमे से अधिकांश को मंत्रिमंडल में स्थान मिलना लगभग तय है. चुनावों में जीते हुए प्रदेश के अनुभवी नेताओं में, जिन्हें जनता ने जीत कर विधान सभा तक पहुंचाया है, उनमें कांगड़ा के सुलाह विधानसभा क्षेत्र से विपिन परमार, ज्वालामुखी से रमेश धवाला, शाहपुर से सरवीण चौधरी, धर्मशाला से किशन कपूर, शिमला से सुरेश भारद्वाज, नरेंद्र बरागटा, नाहन से राजीव बिंदल और मंडी से महिंद्र सिंह और पंडित सुखराम के पुत्र अनिल शर्मा आदि हैं. इन सबको जगह मिल सकती है.

मंत्रिमंडल की संख्या कुल सीटों का 15 प्रतिशत होनी चाहिए. इसमें स्पीकर, डिप्टी-स्पीकर, संसदीय सचिव के पद शामिल नहीं हैं. नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री ने युवाओं और महिलाओं को भी उचित प्रतिनिधित्व देने की घोषणा की है. इस सारे चयन में कोई भी नेता ऐसा नहीं है, जिससे नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री को खेमेबाजी का अंदेशा हो.

बुजुर्ग नेता शान्ताकुमार ने जयराम ठाकुर का नाम घोषित होने से पूर्व ही खुला समर्थन दिया था. नड्डा और ठाकुर की दोस्ती जग जाहिर है, इसलिये भारतीय जनता पार्टी का नया मंत्रिमंडल हिमाचल के लोगों की इच्छा और मिले जनमत के अनुरूप ही होगा.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi