S M L

हिमाचल चुनाव 2017: कांगड़ा में बीजेपी के गढ़ शाहपुर की सीट पर होंगी कांग्रेस की नजरें

कांगड़ा जिले में हिमाचल की सबसे ज्यादा विधानसभा सीटें हैं. यही जिला तय करता है कि राज्य में किसकी सरकार बनेगी

FP Staff Updated On: Nov 08, 2017 11:14 PM IST

0
हिमाचल चुनाव 2017: कांगड़ा में बीजेपी के गढ़ शाहपुर की सीट पर होंगी कांग्रेस की नजरें

हिमाचल प्रदेश के चुनावों में बीजेपी पिछली बार से बेहतर प्रदर्शन करने की उम्मीद कर रही है. पिछले चुनावों में कांग्रेस को 68 सीटों में से 36 सीटें मिली थीं. वहीं बीजेपी को 27 सीटें, बाकी की 5 सीटें निर्दलीय उम्मीदवारों के हाथ लगी थीं. इस बार बीजेपी इन आंकड़ों को उलटना चाहेगी. देखा जाए तो बीजेपी उन्हीं विधानसभा क्षेत्रों में मजबूत है, जिन्हें जनरल कैटेगरी में रखा गया है. कांगड़ा जिले की शाहपुर विधानसभा सीट ऐसी ही है. शाहपुर में 2007 से बीजेपी ने कुर्सी पर कब्जा कर रखा है. बीजेपी की 51 साल की नेता सरवीन चौधरी यहां से 2007 से विधायक बनी हुई हैं. इसके पहले भी वो 1998 में हुए विधानसभा चुनावों में जीत हासिल कर चुकी हैं और पार्टी ने इस बार भी उनपर ही भरोसा जताया है.

सरवीन 2012 के चुनावों में 254887 वोटों से जीती थीं. उन्होंने कांग्रेस के उम्मीदवार विजय सिंह को लगभग 3000 वोटों से हराया था. इसके पहले 2007 में विधायक ने बीएसपी के उम्मीदवार ओंकार सिंह को लगभग 8000 वोटों के अंतर से हराया था. इस बार भी वो हैट्रिक लगाने की उम्मीद करेंगी.

एससी-एसटी के लिए रिजर्व सीटों पर जीत हासिल करने वाली कांग्रेस इस बार शाहपुर मामले में जनरल कैटेगरी के समीकरण को तोड़ना चाहेगी. कांग्रेस ने यहां से 48 साल के केवल सिंह को उतारा है. बीएसपी ने 64 साल के बनारसी दास डोगरा में अपना विश्वास जताया है, वहीं इस सीट से तीन निर्दलीय उम्मीदवार- देश राज (60), रमेश कुमार (30) और विजय सिंह (77) हैं. इनमें से किसी भी उम्मीदवार पर कोई आपराधिक केस नहीं है.

सरवीन चौधरी के प्रचार मैदान में पीएम मोदी भी जनसभा को संबोधित कर चुके हैं. सरवीन फिर इस बार कुर्सी पर कब्जा जमाना चाहेंगी.

कांगड़ा जिले में हिमाचल की सबसे ज्यादा विधानसभा सीटें हैं. यही जिला तय करता है कि राज्य में किसकी सरकार बनेगी, पिछली बार यहां की 15 सीटों में से कांग्रेस को 10 सीटें मिली थीं, बीजेपी को 3 और निर्दलीय उम्मीदवारों के हाथों 2 सीटें लगी थीं. शाहपुर भी उन तीन सीटों में से एक था. बीजेपी शाहपुर को लगातार तीसरी बार जीतने के साथ ही पिछली बार के शर्मनाक आंकड़ों को बदलना चाहेगी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
कोई तो जूनून चाहिए जिंदगी के वास्ते

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi