S M L

जानिए उस उम्मीदवार के बारे में जिसने सीएम कैंडिडेट धूमल को हराया

एक दौर में बीजेपी में रहे राणा धूमल के खासमखास एवं चेला हुआ करते थे, 2012 के विधानसभा चुनाव में निर्दलीय लड़ते हुए भी भारी अंतर से जीत हासिल की थी

FP Staff Updated On: Dec 18, 2017 10:09 PM IST

0
जानिए उस उम्मीदवार के बारे में जिसने सीएम कैंडिडेट धूमल को हराया

हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने राज्य के दो बार मुख्यमंत्री रहे प्रेम कुमार धूमल को चेहरा बनाकर जीत दर्ज कर ली लेकिन इसे विडंबना ही कहेंगे कि जिनके चेहरे पर राज्य फतेह कर लिए वो खुद अपने किले को बचाने में नाकाम रहे.

हमीरपुर की सुजानपुर सीट से बीजेपी के सीएम उम्मीदवार धूमल को हार का सामना करना पड़ा है. उनको हराने वाले कांग्रेस के प्रत्याशी राजेंद्र राणा हिमाचल के अलावा, इस इलाके में पहचान के मोहताज नहीं हैं. एक दौर में बीजेपी में रहे राणा धूमल के खासमखास एवं चेला हुआ करते थे.

एक समय था जब धूमल के सारे चुनाव का दारोमदार राणा के कंधों पर रहता था, लेकिन धूमल सरकार के कार्यकाल के दौरान ही शिमला में प्राइवेट होटल में पैसे के लेन-देन को लेकर धूमल और उनके परिवार पर सवाल उठे थे.

2012 में निर्दलीय जीते एवं 2014 में लोकसभा में लड़ा अनुराग के खिलाफ चुनाव

इस पर राणा ने बीजेपी से रिश्ता तोड़ लिया. साल 2012 में निर्दलीय चुनाव लड़े और जीते. वीरभद्र सिंह के नेतृत्व में कांग्रेस सरकार बनी तो राजेंद्र राणा ने बाहर से सरकार को समर्थन दिया. बाद में राणा कांग्रेस में चले गए. इसके बाद कांग्रेस ने हमीरपुर से राणा को लोकसभा चुनाव के लिए प्रत्याशी बनाया. लेकिन सांसद अनुराग ठाकुर ने उन्हें मात दी. बाद में राणा को कांग्रेस सरकार ने हिमाचल प्रदेश राज्य आपदा प्रबंधन बोर्ड का उपाध्यक्ष बनाया.

राजेंद्र राणा की सुजानपुर में काफी पकड़ है. वो यहां से गरीबों के मसीहा माने जाते हैं. गरीब लोगों की बेटियों की शादी करवाने की बात हो या फिर मुसीबत में फंसे लोगों की मदद का मुद्दा. राणा हमेशा आगे रहते हैं. वो सामाजिक संस्था चलाते हैं.

राजेंद्र राणा ने 2012 के विधानसभा चुनाव में निर्दलीय लड़ते हुए भारी अंतर से जीत हासिल की थी. उन्होंने इस सीट पर 24674 वोट हासिल किए थे, जबकि कांग्रेस की अंकिता वर्मा सिर्फ 10,508 वोट ही पा सकीं थी. माना जा रहा है इसी के चलते इस बार कांग्रेस ने राजेंद्र राणा को पार्टी में शामिल किया ताकि वो धूमल को कड़ी टक्कर दे सकें. इस बार यहां से कुल पांच प्रत्याशी मैदान में थे.

Himachal Pradesh Election Results 2017

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
FIRST TAKE: जनभावना पर फांसी की सजा जायज?

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi