S M L

हिमाचल प्रदेश चुनाव परिणाम 2017: मतदाता की खामोशी से बीजेपी और कांग्रेस असमंजस में

बीजेपी उम्मीद कर रही है कि हिमाचल में उसकी वापसी हो जाएगी जबकि कांग्रेस सत्ता बचाने की कोशिश में है

Updated On: Dec 17, 2017 05:34 PM IST

Matul Saxena

0
हिमाचल प्रदेश चुनाव परिणाम 2017: मतदाता की खामोशी से बीजेपी और कांग्रेस असमंजस में

40  दिनों के लंबे इंतजार के बाद सोमवार सुबह हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनावों के नतीजे आने वाले हैं. हिमाचल में 13वीं विधानसभा के लिए 9 नवंबर को मतदान हुए थे. 18 दिसंबर को सुबह 8 बजे से मतदान की गणना शुरू हो जाएगी.

मतगणना की ड्यूटी में लगे कर्मचारियों को सुबह 5 बजे ड्यूटी पर बुलाया गया है. हरेक मतदान केंद्र में 14 टेबल लगाए गए हैं. प्रदेश के सबसे बड़े जिला कांगड़ा की 15 सीटों की मतगणना उपमंडलों पर की जाएगी. कांगड़ा 2 जिला में कुल 11,83,258 मतदाता हैं जिनमे से 857901 मतदाताओं ने मतदान किया. कांगड़ा जिला में 78.6 प्रतिशत मतदान हुआ. प्रदेश  में हुए भारी मतदान के बाद दोनों प्रमुख राष्ट्रीय दल बीजेपी और कांग्रेस अपनी जीत का दावा कर रहे हैं . मतदाताओं की खामोशी ने दोनों ही पार्टियों को असमंजस में डाल रखा है.

विधानसभा की सभी 68 सीटों पर बीजेपी और कांग्रेस पार्टी ने चुनाव लड़ा है. बहुजन समाज पार्टी 42 सीटों पर, सीपीएम 14 सीटों पर एनसीपी 2, सीपीआई 3, एसपी 2 और 112 निर्दलीय हिमाचल में अपनी किस्मत आजमा रहे हैं.

यहां है सबसे कड़ा मुकाबला?

कांगड़ा जिला के धर्मशाला में कड़ा मुकाबला है. यहां सबसे अधिक 12 प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं. क्षेत्रफल के अनुसार सबसे बड़ा चुनाव क्षेत्र लाहौल स्पीति है जहां सबसे कम मतदाता हैं. प्रदेश के वर्तमान मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह सोलन जिला के अर्की से चुनाव लड़ रहे हैं. इससे पूर्व 2012 में उन्होंने शिमला (ग्रामीण) से चुनाव लड़ा था. इस बार यह सीट उन्होंने अपने पुत्र विक्रमादित्य सिंह के लिए छोड़ दी और खुद अर्की से चुनाव लड़ा.

अर्की में उनका मुकाबला बीजेपी के नए उम्मीदवार रत्तन सिंह पाल से हो रहा है. बीजेपी ने यहां पुराने प्रत्याशी गोबिंदराम शर्मा को इस बार टिकट नहीं दिया.  अर्की में 84,560 मतदाता हैं. इनमें से 63107 मतदाताओं ने मतदान में भाग लिया. यहां पुरुषों के मुकाबले महिलाओं ने ज्यादा मतदान किया है. महिलाओं की मतदान प्रतिशत 76.8 और पुरुषों की मतदान प्रतिशत 72.5 रही.

बीजेपी के भूतपूर्व मुख्यमंत्री प्रेमकुमार धुमल हमीरपुर जिला के सुजानपुर से चुनाव लड़ रहे हैं. कांग्रेस के राजेन्द्र राणा जो कभी उनके करीबी थे उनके विरुद्ध चुनाव लड़ रहे हैं. इस विधानसभा क्षेत्र में कुल 67,065 मतदाता थे. इनमें से 49,674 मतदाताओं (80. 603 प्रतिशत) ने अपने मत का प्रयोग किया.

प्रदेश में  कांग्रेस और बीजेपी के बागी उम्मीदवारों ने दोनों ही दलों की स्थिति संदेहास्पद बना दी है. विधान सभा की बहुत सी ऐसी सीटें हैं जिनके परिणाम दोनों ही दलों के लिए अहम हैं. प्रदेश के जनजातीय क्षेत्रों का अधिकृत परिणाम देर शाम तक घोषित होने की संभावना है. दोपहर तक सभी 68 सीटों के परिणाम आने की संभावना है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi