S M L

हिमाचल चुनाव परिणाम 2017: सुजानपुर से धूमल का हारना बीजेपी के लिए एक खतरनाक संकेत

मुख्यमंत्री पद के घोषित उम्मीदवार प्रेम कुमार धूमल और प्रदेश बीजेपी के अध्यक्ष सतपाल सत्ती के चुनाव हारने से बीजेपी में विकट स्थिति पैदा हो गई है

Updated On: Dec 18, 2017 09:17 PM IST

Matul Saxena

0
हिमाचल चुनाव परिणाम 2017: सुजानपुर से धूमल का हारना बीजेपी के लिए एक खतरनाक संकेत

हिमाचल प्रदेश विधान सभा चुनाव परिणामों में बीजेपी के कद्दावर नेता और मुख्यमंत्री पद के घोषित उम्मीदवार प्रेम कुमार धूमल और प्रदेश बीजेपी के अध्यक्ष सतपाल सत्ती के चुनाव हारने से बीजेपी में विकट स्थिति पैदा हो गई है. हैरानी की बात है कि धूमल के समर्थक नेता जो चुनाव में खड़े थे उन्हें भी हार का मुंह देखना पड़ा है.

इनको मिली हार

देहरा से रविन्द्र रवी, जोगिन्द्रनगर से गुलाबसिंह, नादौन से बलदेव शर्मा की हार ने धूमल समर्थक नेताओं को गहरा झटका दिया है. प्रदेश की लगभग सभी सीटों का चुनाव परिणाम अनाधिकृत रूप से घोषित हो चुका है. कांग्रेस के ऐसे दिग्गज चुनाव हार गए हैं जिनकी उम्मीद भी नहीं की जा सकती. नगरोटा से बाली और दरंग से कौलसिंह ठाकुर ऐसे ही कांग्रेस के दो दिग्गज नेता हैं.

कांग्रेस और वीरभद्र सिंह के लिए सबसे बड़ी संतोष की बात यह है कि वीरभद्रसिंह और उनके पुत्र विक्रमादित्य सिंह चुनाव जीत गए हैं. कांग्रेस अध्यक्ष सुक्खू का चुनाव जीतना भी कांग्रेस की उपलब्धि है. बीजेपी के लिए यह चुनाव अगर भारी जीत का संकेत है तो राज्य में बीजेपी के संगठन को आत्म -मंथन करने के लिए भी बाध्य करता है.कांग्रेस पार्टी को सशक्त विपक्ष की भूमिका निभाने का भी जनादेश इस विधानसभा चुनाव के परिणाम ने दिया है.

परिवारवाद पर स्पष्ट जनादेश नहीं

राजनीति में परिवारवाद पर हिमाचल की जनता ने कोई स्पष्ट जनादेश नहीं दिया है. मंडी से दिग्गज नेता कौल सिंह ठाकुर की बेटी चंपा ठाकुर की हार और शिमला ग्रामीण से वीरभद्र सिंह के पुत्र विक्रमादित्य सिंह की जीत ने यही संकेत दिया है.

विक्रमादित्य सिंह और वीरभद्र सिंह ने (पिता-पुत्र) ने विधानसभा में प्रवेश कर लिया है. जबकि दरंग के कद्दावर कांग्रेसी नेता कौलसिंह ठाकुर और उनकी बेटी चंपा ठाकुर मंडी से चुनाव जीतने में नाकाम रहे. उधर बृज बिहारी लाल बुटेल के बेटे आशीष बुटेल ने पालमपुर से चुनाव जीता है. बृज बिहारी लाल बुटेल कांग्रेस के कद्दावर नेता और वीरभद्र सरकार में स्पीकर थे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi