In association with
S M L

हार्दिक, जिग्नेश और अल्पेशः गुजरात में बीजेपी को कर सकते हैं परेशान

हार्दिक और जिग्नेश ने बीजेपी के खिलाफ मोर्चा खोलने का ऐलान कर दिया है

FP Staff Updated On: Oct 15, 2017 02:57 PM IST

0
हार्दिक, जिग्नेश और अल्पेशः गुजरात में बीजेपी को कर सकते हैं परेशान

गुजरात चुनाव बीजेपी के लिए नाक का सवाल हो चुका है. एक तरफ कांग्रेस उसे घेरने में कोई कसर नहीं छोड़ रही है. दूसरी तरफ कुछ युवा नेता भी उसे परेशानी में डाल रहे हैं. ये तीन हैं हार्दिक पटेल- पाटीदार अनामत आंदोलन समिति, जिग्नेश मेवाणी- राष्ट्रीय दलित अधिकार मंच, अल्पेश ठाकुर- क्षत्रिय ठाकुर सेना.

आंकड़ों पर गौर करें तो गुजरात की जनसंख्या में ओबीसी समुदाय की दखल 51 प्रतिशत सीटों पर है. यानी 182 में कुल 110 सीटों पर इसका प्रभाव देखने को मिलता है. अगर वाकई इनका असर इतने सीटों पर दिख गया, तो विधानसभा चुनाव के परिणाम चौंकाने वाले हो सकते हैं.

बीजेपी के खिलाफ खोला मोर्चा

इसमें हार्दिक और जिग्नेश ने बीजेपी के खिलाफ मोर्चा खोलने का ऐलान कर दिया है. वहीं अल्पेश के पत्ते खोलने का अभी तक सबको इंतजार है. जहां तक हार्दिक पटेल की बात है वह पहले ही साफ कर चुके हैं कि वह किसी भी राजनीतिक दल में शामिल नहीं होंगे. अगर उनकी मांग का किसी ने समर्थन किया तो वह उसके पक्ष में जा सकते हैं.

इधर राज्य की बीजेपी सरकार ने हाल ही में उनपर लगे तिरंगा अपमान का केस वापस ले लिया है. इससे पहले हार्दिक राहुल गांधी से मुलाकात कर चुके हैं. अब देखनेवाली बात यह होगी कि ऊंट किस करवट बैठता है.

अब बात राष्ट्रीय दलित अधिकार मंच के जिग्नेश मेवाणी की. वह भी चुनाव में बीजेपी के खिलाफ जाने का एलान कर चुके हैं. उनका कहना है कि केवल बीजेपी ऐसी पार्टी है जो हिन्दु राष्ट्र की कल्पना करती है. जबकि भारत एक धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र है.

उनके मुताबिक बीजेपी आरएसएस का राजनीतिक विंग मात्र है. असली काम तो आरएसएस कर रही है. उनके मुताबिक गुजरात में दलित समुदाय की संख्या 7 प्रतिशत है, जबकि देश में वह 17 प्रतिशत हैं.

क्षत्रिय ठाकुर सेना के नेता अल्पेश ठाकुर का कहना है कि उन्हें किसी पार्टी के दुश्मनी नहीं है. ना ही उनकी लड़ाई किसी विचारधारा के साथ है. वह बस ओबीसी समुदाय की हित के लिए लड़ना चाहते हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
गणतंंत्र दिवस पर बेटियां दिखाएंगी कमाल!

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi