Co Sponsor
In association with
In association with
S M L

आखिर क्या हुआ था अय्यर द्वारा पाक हाई कमिश्नर को दिए गए डिनर में!

इस डिनर में शामिल हुए पत्रकार राहुल सिंह का कहना है कि पीएम मोदी ने बेवजह इस डिनर पर विवाद खड़ा किया और भारत के कई महत्वपूर्ण पदों पर रहे राजनेताओं पर गंभीर आरोप लगाए

FP Staff Updated On: Dec 14, 2017 07:43 PM IST

0
आखिर क्या हुआ था अय्यर द्वारा पाक हाई कमिश्नर को दिए गए डिनर में!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 6 दिसंबर को मणि शंकर अय्यर द्वारा बुलाए गए बहुत ही अनौपचारिक और साधारण से डिनर पर विवाद खड़ा कर दिया और इसे चुनावी मुद्दा बना दिया. यह कहना है रीटर डाइजेस्ट और इंडियन एक्सप्रेस के पूर्व संपादक राहुल सिंह का. राहुल सिंह भी इस डिनर में मौजूद थे. उऩ्होंने न्यूज18 में लिखे अपने लेख में कहा है कि पीएम मोदी ने बेवजह इस बैठक पर विवाद खड़ा किया और भारत के कई महत्वपूर्ण पदों पर रहे राजनेताओं पर गंभीर आरोप लगाए.

राहुल सिंह ने अपने लेख में कहा कि यह डिनर इसलिए बुलाया गया था क्योंकि खुर्शीद महमूद कसूरी एक शादी में शामिल होने के लिए एक निजी यात्रा पर दिल्ली आए थे. जब परवेज मुशर्रफ पाकिस्तान के राष्ट्रपति थे तब कसूरी पाकिस्तान के विदेशी मंत्री थे.

कसूरी को भारत-पाकिस्तान के संबंधों के लिए ‘शांति का दूत’ भी कहा जाता है. कसूरी ने भारत-पाकिस्तान के बीच कश्मीर समस्या का हल कैसे हो? इस पर पाकिस्तान के विदेश मंत्री रहते हुए एक किताब भी लिखी थी. तब मनमोहन सिंह भारत के प्रधानमंत्री थे.

कसूरी और अय्यर हैं पुराने दोस्त?

कसूरी और अय्यर 1960 के दशक से ही दोस्त हैं. तब दोनों कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी में स्नातक की पढ़ाई कर रहे थे.

अय्यर को कसूरी के भारत आने पर यह लगा कि भारत-पाकिस्तान के संबंधों पर एक समान विचार रखने वाले लोगों के बीच आपसी संवाद करने का यह बढ़िया मौका है. इस वजह से अय्यर ने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी, पूर्व विदेश मंत्री नटवर सिंह, पूर्व सेनाध्यक्ष दीपक कपूर और पाकिस्तान के वर्तमान हाई कमिश्नर को आमंत्रित किया था. इसके साथ-साथ 3 पत्रकारों को भी बुलाया गया था, जिसमें राहुल सिंह भी थे.

राहुल सिंह ने लिखा है कि इसमें सिर्फ भारत-पाकिस्तान संबंधों को और कैसे बेहतर बनाया जाए, सिर्फ इसी मुद्दे पर चर्चा हुई और काफी अच्छे विचारों का आदान-प्रदान किया गया. राहुल सिंह जोर देकर यह कहते हैं कि इस बैठक में एक भी बार गुजरात चुनाव को लेकर चर्चा नहीं हुई.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
AUTO EXPO 2018: MARUTI SUZUKI की नई SWIFT का इंतजार हुआ खत्म

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi