S M L

घृणा की राजनीति देश के लिए सबसे बड़ा खतरा: फारूक अब्दुल्ला

अब्दुल्ला ने राज्य में पंचायत चुनाव से पहले लोगों को ‘सांप्रदायिक ध्रुवीकरण’ के खिलाफ आगाह किया

Updated On: Dec 04, 2017 01:57 PM IST

Bhasha

0
घृणा की राजनीति देश के लिए सबसे बड़ा खतरा: फारूक अब्दुल्ला

जम्मू कश्मीर में विपक्षी पार्टी नेशनल कॉन्फ्रेंस के प्रमुख फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि ‘घृणा की राजनीति’ देश की एकता के लिए सबसे बड़ा खतरा है. उन्होंने इसे बढ़ावा देने वालों को जम्मू कश्मीर से दूर रहने के लिए कहा.

अब्दुल्ला ने राज्य में पंचायत चुनाव से पहले लोगों को ‘सांप्रदायिक ध्रुवीकरण’ के खिलाफ आगाह किया.

उन्होंने पार्टी के नेताओं की एनसी मुख्यालय में हुई बैठक में कहा, ‘किसी धर्म को कोई खतरा नहीं है. अगर कोई खतरा है तो वो है ‘घृणा की राजनीति’ से, जो कि सांप्रदायिक तत्वों की ढाल का काम करता है.’

पाक अधिकृत कश्मीर पर दिए बयान से मचा था बवाल 

हाल ही में नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला ने पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) पर अपनी बेबाक राय रखी. उन्होंने कहा था कि  'कब तक बेगुनाहों का खून बहता रहेगा और हम ये कहते रहेंगे कि वो हमारा हिस्सा है.

वो इनके बाप का हिस्सा नहीं है. 70 साल हो गए हैं. वो पाकिस्तान है, ये हिन्दुस्तान है और 70 साल से ये उसको हासिल नहीं कर सके. आज कहते हैं कि ये हमारा हिस्सा है.'

अब्दुल्ला ने कहा था कि कश्मीर हर तरफ से घिरा हुआ है. इसके एक तरफ हिंदुस्तान, दूसरी तरफ पाकिस्तान और तीसरी तरफ चीन है.

उन्होंने कहा था कि अगर जम्मू कश्मीर और पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर को मिलाकर एक अलग राष्ट्र बना भी लिया जाता है तो वह ज्यादा देर तक आजाद नहीं रहेगा, उसे पाकिस्तान और चीन अपना हिस्सा या गुलाम बना लेंगे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi