S M L

जेटली बोले- राहुल में समझदारी की कमी, उनके रहते कांग्रेस का भगवान मालिक

जेटली ने लिखा, 'राहुल ने बार-बार ये दर्शाया है कि वे तथ्यों से अनजान हैं. लागत बताने का मतलब होता है कि विमान में मौजूद हथियारों की भी जानकारी देना.'

Updated On: Jul 21, 2018 04:49 PM IST

FP Staff

0
जेटली बोले- राहुल में समझदारी की कमी, उनके रहते कांग्रेस का भगवान मालिक

लोकसभा में शुक्रवार को मोदी सरकार के खिलाफ लाए गए अविश्वास प्रस्ताव को लेकर केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने कांग्रेस और राहुल गांधी पर निशाना साधा है. शुक्रवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने केंद्र पर संविधान बदलने से लेकर जीएसटी पर आरोप लगाए थे. अरुण जेटली ने फेसबुक पर ब्लॉग लिखकर इन सभी आरोपों पर जवाब दिया है.

जेटली ने लिखा, 'अगर कोई प्रतिभागी (राहुल गांधी) जो एक राष्ट्रीय राजनीतिक दल का अध्यक्ष भी है (जो प्रधानमंत्री बनने की आकांक्षा रखता है), तो उसका बोला हुआ हर एक शब्द मूल्यवान होना चाहिए. उनके तथ्यों में विश्वसनीयता और सत्यता होनी चाहिए. बहस महत्वहीन नहीं होनी चाहिए.' राहुल का घेराव करते हुए जेटली ने आगे कहा कि जो प्रधानमंत्री बनना चाहते हैं वे कभी अज्ञानता, झूठ और कलाबाजी को मिश्रित नहीं करते हैं.

जितना ज्यादा 'दल-दल' होगा, उतना खिलेगा कमल- शाहजहांपुर में PM मोदी ने विपक्ष पर किए ये प्रहार

अरुण जेटली ने लिखा, 'अफसोस की बात है कि कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष ने एक महान अवसर खो दिया है. अगर 2019 के लिए यह उनकी अबतक की सबसे अच्छी बहस थी, तो भगवान उनकी पार्टी (कांग्रेस) की मदद करे.' जेटली ने कहा कि उनकी समझ की कमी न केवल बुनियादी मुद्दों तक ही सीमित है, बल्कि प्रोटोकॉल की जानकारी भी सीमित है.

जेटली ने आगे लिखा, 'उन्होंने कहा कि किसी को भी कभी भी सरकार के मुखिया या राज्य के मुखिया के साथ हुई बातचीत को गलत नहीं ठहराना चाहिए. अगर कोई ऐसा कहता है, तो गंभीर लोग आपसे बात करने या आपकी उपस्थिति में बोलने के लिए अनिच्छुक होंगे.'

PM मोदी का राहुल पर तंज, कहा- 'अविश्वास प्रस्ताव का कारण नहीं बता पाए तो गले पड़ गए'

केंद्रीय मंत्री ने ब्लॉग में लिखा, 'सदन में राफेल का मुद्दा उठाने के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रो से मुलाकात का भी जिक्र किया. इसको राहुल गांधी ने राष्ट्रपति मैक्रों के साथ बातचीत करके अपनी विश्वसनीयता कम की है. दुनिया भर में एक भारतीय राजनेता की छवि को गंभीर रूप से नुकसान पहुंचाया है.'

जेटली ने लिखा, 'ये नहीं भूलना चाहिए कि यूपीए सरकार के मंत्री ने गोपनीयता समझौते पर साइन किए. राहुल गांधी अब डॉक्टर मनमोहन सिंह को शर्मिंदा करना चाहते हैं, जो इस बातचीत के गवाह हैं.'

जेटली ने लिखा, 'राहुल ने बार-बार ये दर्शाया है कि वे तथ्यों से अनजान हैं. लागत बताने का मतलब होता है कि विमान में मौजूद हथियारों की भी जानकारी देना.'

उन्होंने जीएसटी का जिक्र करते हुए कहा कि क्या वह इस तथ्य से अनजान हैं कि यूपीए ने जीएसटी संशोधन का प्रस्ताव दिया था? जीएसटी के दायरे में पेट्रोलियम उत्पादों को शामिल नहीं किया गया? यह केवल एनडीए सरकार है जो जीएसटी परिषद द्वारा सहमत होने के बाद जीएसटी लेकर आई.

(साभार: न्यूज़18)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi