S M L

AAP छोड़ने वाले फुल्का बोले- 2012 में भ्रष्टाचार विरोधी मुहिम को राजनीतिक दल में बदलना गलत था

फुल्का ने गुरुवार को आम आदमी पार्टी छोड़ दी थी और अपना इस्तीफा केजरीवाल को सौंप दिया था

Updated On: Jan 04, 2019 05:25 PM IST

FP Staff

0
AAP छोड़ने वाले फुल्का बोले- 2012 में भ्रष्टाचार विरोधी मुहिम को राजनीतिक दल में बदलना गलत था

वरिष्ठ वकील एच.एस फुल्का ने गुरुवार को आम आदमी पार्टी छोड़ने के बाद शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की. उन्होंने कहा कि 2012 में भ्रष्टाचार विरोधी मुहिम को राजनीतिक दल में बदलना गलत था.

उन्होंने कहा, 'मैंने इस्तीफा इसलिए दिया जिससे अन्ना हजारे के आंदोलन जैसा मूवमेंट खड़ा कर सकें. अब मैं पंजाब में नशे के खिलाफ लडूंगा और एसजीपीसी (शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी) को राजनीतिक पार्टी से मुक्त कराऊंगा.'

फुल्का ने कहा कि लोग अन्ना के आंदोलन से राजनीति में गए, अब वे बाहर आ गए हैं. इसलिए मैं संगठन की शुरुआत पंजाब से करूंगा और नशे के खिलाफ लड़ूंगा. उन्होंने कहा कि वह खुद SGPC चुनाव नहीं लड़ेंगे लेकिन संगठन बनाएंगे.

अन्ना आंदोलन पर फुल्का ने कहा कि आठ साल पहले जब यह शुरू हुआ था तो इसमें तमाम समाज सेवक जुड़े और एक संगठन बन गया जो राजनीतिक पार्टी के समकक्ष खड़ा हो गया. बाद में इस संगठन को राजनीतिक पार्टी में तब्दील करने के बारे में सोचा गया जिससे ज्यादा समाज सेवा हो सके.

फुल्का ने यह भी कहा कि बीते पांच सालों में उन्होंने बहुत कुछ सीखा है और आज लग रहा है कि उनका फैसला सही था जब वह लोकसभा में केवल 19 हजार वोटों से रह गए और 1984 में विपक्ष का पद छोड़ दिया था. उन्होंने कहा कि बीते एक साल से उन्होंने एक्टिव पॉलिटिक्स से किनारा कर रखा है और वह किसी पार्टी मीटिंग में नहीं गए, बस अपने विधानसभा क्षेत्र में काम किया.

उन्होंने कहा कि एक बार फिर अन्ना आंदोलन की जरूरत है जो सच को सच और झूठ को झूठ कह सके. हालांकि आम आदमी पार्टी पर पूछे गए सवालों पर उन्होंने कहा कि 'नो कमेंट्स.'

ये भी पढ़ें: राहुल गांधी ने पत्रकार को बोला था PLIABLE, अब लोग गूगल कर पता कर रहे मतलब

ये भी पढ़ें: नाराजगी और उम्मीदों के बीच लोकसभा चुनाव में मिडिल क्लास किस करवट बैठेगा?

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi