S M L

ब्लू व्हेल गेम में फंस गई है कांग्रेस, 18 दिसंबर को आखिरी एपिसोड: पीएम मोदी

मोदी ने कहा, ‘वे ब्लूटूथ, ब्लूटूथ चिल्ला रहे हैं, लेकिन दरअसल वे ब्लू व्हेल गेम में फंस गए हैं

Bhasha Updated On: Dec 12, 2017 09:59 AM IST

0
ब्लू व्हेल गेम में फंस गई है कांग्रेस, 18 दिसंबर को आखिरी एपिसोड: पीएम मोदी

गुजरात के पाटन में एक रैली को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस पर निशाना साधा. पीएम मोदी ने कहा कि विपक्षी पार्टी ‘ब्लू व्हेल चैलेंज’ के खेल में फंस गई है और 18 दिसंबर को आखिरी एपिसोड देखेगी.

प्रधानमंत्री इस नाम के उस खतरनाक गेम की ओर इशारा कर रहे थे, जिसमें खेलने वाला आखिरी स्तर पर आकर आत्महत्या जैसे खतरनाक कदम तक उठा लेता है.

गुजरात विधानसभा चुनाव के दूसरे और आखिरी चरण के मतदान से पहले उत्तर गुजरात के पाटन में जनसभा को संबोधित करते हुए मोदी ने कांग्रेस के अध्यक्ष निर्वाचित हुए राहुल गांधी पर भी निशाना साधा. उन्होंने कहा कि वह सोने की चम्मच के साथ पैदा हुए हैं और उन्होंने कभी गरीबी नहीं देखी.

मोदी ने राहुल गांधी के इन आरोपों को भी खारिज कर दिया कि वह केवल कुछ उद्योगपतियों के लिए काम करते हैं. प्रधानमंत्री ने आरोप लगाया कि राहुल गुजरात के बारे में झूठ और आधा-सच फैला रहे हैं और राज्य की बुद्धिमान जनता की समझ का अपमान कर रहे हैं.

उन्होंने कहा, ‘जब पहले दौर के मतदान में बीजेपी की जीत के संकेत मिल गए तो कांग्रेस के लोग राहुल गांधी के बचाव के तरीके खोजने में लग गए हैं. मतदान शुरू होने के एक घंटे बाद वरिष्ठ नेताओं ने ईवीएम ईवीएम ईवीएम ईवीएम चिल्लाना शुरू कर दिया.’ प्रधानमंत्री ने कहा कि एक वरिष्ठ नेता ने तो यह दावा भी किया कि ब्लूटूथ से जोड़कर ईवीएम को हैक कर लिया गया है.

मोदी ने कहा, ‘वे ब्लूटूथ, ब्लूटूथ चिल्ला रहे हैं, लेकिन दरअसल वे ब्लू व्हेल गेम में फंस गए हैं और गेम का अंतिम एपिसोड 18 दिसंबर को खेला जाएगा.’ गुजरात में मतगणना 18 दिसंबर को होनी है.

प्रधानमंत्री ने राहुल के आरोपों के संदर्भ में कहा कि राज्य के मुख्यमंत्री होने के नाते वह ‘शाला प्रवेशोत्सव’ का आयोजन करते थे जिसमें वह हर साल गांवों में जाकर शत प्रतिशत बच्चों का प्रवेश सुनिश्चित करते थे.

उन्होंने कहा, ‘क्या यह काम अंबानी के लिए था या राज्य की गरीब जनता के लिए? मैं हर साल कृषि महोत्सव आयोजित करता था जिसमें मुख्यमंत्री समेत पूरा सरकारी अमला गांवों में जाकर किसानों को आधुनिक तकनीक की जानकारी देता था. क्या यह अंबानी-अडाणी , टाटा-बिड़ला के लिए था या देश के गरीब किसानों के लिए था?’

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
सदियों में एक बार ही होता है कोई ‘अटल’ सा...

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi