Co Sponsor
In association with
In association with
S M L

मिलिए उस युवा से जिसने पहली बार गुजरात में विकास को पागल बताया था

20 साल के इंजीनियरिंग के छात्र सागर सवलिया ने जब पहली बार अपने फेसबुक पोस्ट में विकास को पागल बताया था, तो उन्होंने भी नहीं सोचा होगा कि उनकी ये लाइन कांग्रेस का गुजरात में मुख्य चुनावी जुमला बन जाएगी

FP Staff Updated On: Dec 15, 2017 01:17 PM IST

0
मिलिए उस युवा से जिसने पहली बार गुजरात में विकास को पागल बताया था

गुजरात चुनावों की वोटिंग खत्म हो चुकी है. एग्जिट पोल भी बीजेपी की जीत की घोषणा कर चुके हैं असल नतीजे भी 18 दिसंबर को आ जाएंगे. लेकिन इस पूरे वक्त में एक चीज जो सबकी जुबान पर रहा, वो है पागल विकास. कांग्रेस ने गुजरात में बीजेपी के विकास को पागल बताने में कोई कसर नहीं छोड़ी. कांग्रेस का कहना था- 'विकास गांडो थयो छे' यानी विकास पागल हो गया है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि सबसे पहले विकास को पागल किसने बताया था?

गुजरात के 20 साल के इंजीनियरिंग के छात्र सागर सवलिया ने जब पहली बार अपने फेसबुक पोस्ट में विकास को पागल बताया था, तो उन्होंने भी नहीं सोचा होगा कि उनकी ये लाइन कांग्रेस का गुजरात में मुख्य चुनावी जुमला बन जाएगी.

पिछले साल अगस्त में सागर ने गुजरात रोडवेज बस की एक तस्वीर अपने फेसबुक वॉल पर शेयर की थी. इस बस की हालत ऐसी थी कि पिछले दोनों पहिए ही बस से अलग हो गए थे. सागर ने इस फोटो के साथ लिखा था- राज्य की ट्रांसपोर्ट बसें तो हमारी हैं, लेकिन चढ़ने के बाद सुरक्षा की सारी जिम्मेदारी आपकी है. दूर रहिए, विकास गांडो थयो छे (विकास पागल हो गया है).

Vikas-Gando-Thayo-Chhe

सवलिया का ये पोस्ट बतौर मीम वायरल हो गया. और यहीं से इसे कांग्रेस ने उठा लिया. नवरात्रि पर इसी थीम पर एक गरबा डांस वीडियो भी बन गया. और कांग्रेस की आईटी सेल बीजेपी के आईटी सेल की नाक में दम कर दिया.

14 दिसंबर को गुजरात चुनाव के दूसरे चरण की वोटिंग में सागर ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया. और इस बार उन्होंने अपनी लाइन में थोड़ा बदलाव किया है.

न्यूज18 ने जब सवलिया से जानना चाहा कि क्या उन्हें लगता है कि इन महीनों में विकास मुद्दों के केंद्र में आया है? तो उनका जवाब था- बिल्कुल नहीं. बल्कि इन चार महीनों में विकास और पागल हो गया है.

सवलिया का कहना था, 'कांग्रेस पिछले 22 सालों से विपक्ष में है तो विकास के बारे में बात करने की जिम्मेदारी उनकी नहीं हैं. लेकिन बीजेपी का क्या? क्या मोदी के पास पिछले दो दशकों का कुछ भी दिखाने लायक नहीं है? उन्होंने पूरे चुनाव प्रचार के दौरान एक बार भी विकास का नाम नहीं लिया है. और तो और उन्होंने तो एक बार भी गुजरात मॉडल तक का नाम नहीं लिया. आज बस मैं ही नहीं, गुजरात की पूरी पब्लिक कह रही है कि विकास पागल हो गया है.'

अपने वोट देने के अधिकार पर उन्होंने कहा कि 'मुझे अपने वोट की ताकत का इस्तेमाल करके बहुत अच्छा लग रहा है. मैंने विकास के झूठे दावे और तानाशाही सरकार के खिलाफ वोट दिया है. मैंने बीजेपी के खिलाफ वोट दिया है. पाटीदार आंदोलन के दौरान पुलिस हमारी कॉलोनी में आई थी और हंगामा मचाया था. बस मैं ही नहीं सभी लोग इस पर गुस्से में हैं.'

गुजरात कांग्रेस के प्रवक्ता मनीष दोषी ने संवलिया को ब्रिलिंयंट यंग मैन बताते हुए कहा कि उनके फेसबुक पोस्ट ने युवाओं को कनेक्ट किया, उनकी बात कही, इसलिए इसकी इतनी चर्चा हुई. हमने भी इसे हाथों-हाथ लिया लेकिन राहुल जी ने हमें ऐसा करने से मना किया, इसलिए हमने इसे छोड़ दिया.

(साभार: न्यूज 18 के लिए उदय सिंह राणा की  रिपोर्ट)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
AUTO EXPO 2018: MARUTI SUZUKI की नई SWIFT का इंतजार हुआ खत्म

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi