S M L

गोपाल राय बोले- पीएम मोदी और शाह की तानाशाही के खिलाफ लोकसभा चुनाव लड़ेगी AAP

राय ने कहा कि किसानों की भलाई के नाम पर बीजेपी के द्वारा लागू की गई फसल बीमा योजना असल में किसान डाका योजना है

Updated On: Dec 28, 2018 09:27 PM IST

FP Staff

0
गोपाल राय बोले- पीएम मोदी और शाह की तानाशाही के खिलाफ लोकसभा चुनाव लड़ेगी AAP

देश में आगामी लोकसभा चुनाव के मद्देनजर आम आदमी पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक हुई. कार्यकारणी में सर्वसम्मति से तय हुआ की देश को नरेंद्र मोदी और अमित शाह की तानाशाही से बचाने के लिए आम आदमी पार्टी हरसंभव कार्य करेगी. जिन राज्यों में आम आदमी पार्टी का आधार मजबूत है उन राज्यों में पार्टी पूरी ताकत के साथ चुनाव लड़ेगी. राय ने कहा कि किसानों की भलाई के नाम पर बीजेपी के द्वारा लागू की गई फसल बीमा योजना असल में किसान डाका योजना है.

शुक्रवार को दिल्ली के संयोजक गोपाल राय ने बताया कि आज मुख्यमंत्री आवास पर हुई राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में कुछ अहम बिंदुओं पर चर्चा हुई. जो इस तरह हैं..

- लंबे समय तक अंग्रेजों के साथ लड़ाई लड़ने और लाखों कुर्बानी के बाद हमें संविधान हासिल हुआ, लेकिन आज देश में एक तानाशाह की सरकार चल रही है. राष्ट्रीय कार्यकारिणी ने तय किया है कि नरेंद्र मोदी और अमित शाह द्वारा देश में चलाई जा रही तानाशाही की सरकार से संविधान को बचाने के लिए हर संभव प्रयास करेंगे.

- जहां कहीं पर भी आम आदमी पार्टी का आधार मजबूत है, पार्टी उस राज्य में पूरी ताकत के साथ चुनाव लड़ेगी और तानाशाह की सरकार से देश के लोगों को निजात दिलाने का हर संभव प्रयास करेगी.

- बीजेपी ने फसल बीमा योजना के नाम पर किसानों के माल पर डाका मारने का काम किया. कांग्रेस ने भी किसानों के साथ धोखा किया. जहां तीन राज्यों में अभी कांग्रेस की सरकार बनी है, वहां कांग्रेस ने 10 दिन में किसानों का कर्ज माफ करने की बात कही थी, लेकिन अब कांग्रेस भी अपने वादे से पीछे हटती नजर आ रही है.

किसानों का कर्ज माफ करने की पॉलिसी में कांग्रेस ने बहुत सारे नियम लगा दिए हैं, जिसकी वजह से केवल कुछ ही किसानों को इसका लाभ मिल पा रहा है. आम आदमी पार्टी ने तय किया है कि कांग्रेस और बीजेपी दोनों से किसानों का कर्ज माफ करने की और उनकी फसलों का जो न्यूनतम मूल्य सरकार ने तय किया था वह उन्हें देने की मांग करेगी.

- आम आदमी पार्टी का कहना है कि फसल बीमा योजना के नाम पर जितना पैसा किसानों से प्रीमियम के रूप में लिया गया था उसका 83% बीमा कंपनियों की जेब में चला गया. किसानों को केवल 17% पैसा ही मिला. उसी प्रकार अभी 3 राज्यों में कांग्रेस की सरकार बनी है और कांग्रेस ने ऐलान किया था कि 10 दिन के अंदर सभी किसानों का ऋण माफ किया जाएगा, लेकिन अब कांग्रेस ने अपनी पॉलिसी में कई सारी शर्तें लगा दी हैं जिसकी वजह से किसानों को उसका फायदा नहीं मिल पा रहा है.

- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वादा किया था कि किसानों को उनकी लागत का 50% लाभ दिया जाएगा लेकिन वह केवल एक झूठ था. आज किसानों को अधिकतम 20% ही लाभ मिल पा रहा है. बीजेपी सरकार ने जो दालों की एमएसपी 6975 रुपए प्रति क्विंटल निर्धारित की थी वो किसानों को नहीं मिल रही, बल्कि 3000 प्रति क्विंटल के हिसाब से उनको अपनी दालें बेचनी पड़ रही है, यानीकि प्रति क्विंटल लगभग 4 हजार रुपए का नुकसान किसानों को उठाना पड़ रहा है.

- आज राजस्थान में हजारों किसान ट्रैक्टर में दालें भरकर पिछले 1 हफ्ते से खड़े हुए हैं और उसमें भी उनकी दालों का तौल नहीं किया जा रहा. पिछले 1 हफ्ते से किसान दिन रात सड़क पर ठंड में ठिठुर रहे हैं.

ये भी पढ़ें: The Accidental Prime Minister: फिल्म की रिलीज से पहले कई क्लाइमैक्स आने बाकी हैं

ये भी पढ़ें: केजरीवाल ने की गडकरी की तारीफ: मुकदमे से हुई शुरुआत के बाद अब रिश्तों में ‘स्नेह-प्यार’ आने के क्या मायने हैं?

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA
Firstpost Hindi