S M L

राहुल की इफ्तार पार्टी में नहीं मिला प्रणब मुखर्जी को निमंत्रण

कांग्रेस द्वारा इस कार्यक्रम में निमंत्रित लोगों की सूची से पूर्व उप-राष्ट्रपति हामिद अंसारी का नाम भी गायब है

Updated On: Jun 11, 2018 03:32 PM IST

FP Staff

0
राहुल की इफ्तार पार्टी में नहीं मिला प्रणब मुखर्जी को निमंत्रण

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी आरआरएस के मुख्यालय में आयोजित कार्यक्रम में शामिल होने के बाद लगातार सुर्खियों में बने हुए हैं. खबरों के अनुसार इस घटना के बाद पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को इस हफ्ते आयोजित होनेवाली कांग्रेस की इफ्तार पार्टी में आमंत्रित नहीं किया गया है. हालांकि यह भी आश्चर्यजनक है कि कांग्रेस द्वारा इस कार्यक्रम में निमंत्रित लोगों की सूची से पूर्व उप-राष्ट्रपति हामिद अंसारी का नाम भी गायब है.

आमंत्रित लोगों में उन सभी बड़े राजनेताओं और पार्टियों के नाम शामिल हैं जिन्हें इस साल की शुरुआत में सोनिया गांधी के भव्य रात्रिभोज के लिए बुलाया गया था. उस रात्रिभोज को नरेंद्र मोदी और अमित शाह की अगुवाई वाली भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ 2019 के लोकसभा चुनाव के मद्देनजर एक विपक्षी 'महागठबंधन' बनाने की कोशिश के रूप में देखा गया था.

इफ्तार के बहाने सियासत

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल या उनकी आम आदमी पार्टी का नाम भी इस इफ्तार पार्टी के आमंत्रित लोगों की सूची में शामिल नहीं है. कांग्रेस के अल्पसंख्यक मोर्चा द्वारा आयोजित की जाने वाली यह इफ्तार पार्टी 13 जून को नई दिल्ली के ताज पैलेस होटल में होगी.

इस इफ्तार में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी मौजूद रहेंगे और मीडिया में इस इफ्तार पार्टी के राजनीतिक महत्व को लेकर काफी चर्चा हो रही है. इस इफ्तार के बहाने राहुल गांधी विपक्ष को एकजुट करने की कोशिश करेंगे ताकि 2019 के आम चुनाव के लिए एक विपक्षी गठबंधन पर व्यापक सहमति तैयार हो सके.

आमंत्रित किए गए सभी राजनीतिक दलों से कहा गया है कि यदि वे अपने बड़े नेताओं को नहीं भेज सकते हैं तो अपने प्रतिनिधियों को भेज दें क्योंकि ये निमंत्रण आखिरी समय पर भेजे गए हैं.

हालांकि मुखर्जी और अंसारी दोनों को कांग्रेस के इस कार्यक्रम में आमंत्रित नहीं किया गया है. लेकिन पूर्व राष्ट्रपति को नहीं आमंत्रित किए जाने पर निश्चित रूप से भौहें तिरछी होंगी क्योंकि यह संघ के मुख्यालय नागपुर में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के कार्यक्रम में मुखर्जी के शामिल होने के तुरंत बाद आयोजित हो रहा है.

कांग्रेस के कई नेताओं ने आरएसएस के आयोजन में पूर्व राष्ट्रपति के भाषण से पहले प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए चिंता जताई थी, हालांकि पार्टी की ओर से पहले इस पर कोई आधिकारिक बयान नहीं आया था. लेकिन बाद में कांग्रेस ने राहत की सांस ली थी और कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा था कि मुखर्जी ने दक्षिणपंथी समूह को 'सच का आईना' दिखाया है.

हालांकि यह अभी तक पूरी तरह साफ नहीं है कि 13 जून को कांग्रेस के इफ्तर पार्टी में कौन-कौन नेता शिरकत करेंगे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi