S M L

राहुल गांधी को 'विदेशी' कहने वाले नेता का BSP से हुआ 'पत्ता साफ'

मायावती ने खुद मीडिया के सामने आकर जय प्रकाश को बीएसपी के नेशनल कोऑर्डिनेटर पद से हटाने का ऐलान किया. उन्होंने कहा कि जय प्रकाश का राहुल गांधी पर दिया बयान उनकी व्यक्तिगत टिप्पणी है और पार्टी इससे ताल्लुक नहीं रखती

FP Staff Updated On: Jul 17, 2018 01:08 PM IST

0
राहुल गांधी को 'विदेशी' कहने वाले नेता का BSP से हुआ 'पत्ता साफ'

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को विदेशी मूल का बताने वाले जय प्रकाश सिंह की बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) से छुट्टी हो गई है. बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी करने पर जय प्रकाश सिंह को तत्काल प्रभाव से पार्टी से निकाल बाहर किया है.

मंगलवार को मायावती खुद मीडिया के सामने आईं और उन्होंने जय प्रकाश को बीएसपी के नेशनल कोऑर्डिनेटर पद से हटाने का ऐलान किया. उन्होंने कहा कि जय प्रकाश का राहुल गांधी पर दिया बयान उनकी व्यक्तिगत टिप्पणी है और पार्टी इससे ताल्लुक नहीं रखती.

दरअसल सोमवार को लखनऊ में बीएसपी के कार्यकर्ता सम्मेलन में जय प्रकाश और वीर सिंह ने राहुल गांधी को विदेशी मूल का बताया था. उन्होंने कहा था कि राहुल गांधी की मां सोनिया गांधी विदेशी मूल की हैं, इसलिए राहुल कभी भी भारत के प्रधानमंत्री नहीं बन सकते हैं.

इसके साथ ही जय प्रकाश सिंह ने गाय को लेकर भी बयान दिया. उन्होंने कहा कि गाय अच्छी पशु हो सकती है. कम खाकर ज्यादा दूध देने वाली पशु हो सकती है लेकिन वो माता नहीं हो सकती. माता वही हो सकती है जिसने हमें जन्म दिया हो. गाय तुम्हारी माता होगी हमारी माता तो वो है जिसने हमें जन्म दिया है.

यूपी की पूर्व मुख्यमंत्री ने अपनी पार्टी के नेताओं को ताकीद करते हुए कहा कि वो विरोधी दलों के बड़े नेताओं के खिलाफ निजी टिप्पणियों से बचें. साथ ही देश या किसी राज्य में गठबंधन को लेकर भी कोई बयानबाजी न करें. वो इसका निर्णय पार्टी हाईकमान पर छोड़ दें.

Sonia Gandhi Mayawati

बेंगलुरु में एचडी कुमारस्वामी के शपथ ग्रहण समारोह के दौरान सोनिया गांधी और राहुल गांधी के साथ मायावती

देश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ उभरते मोर्चे में बहुजन समाज पार्टी की महत्वपूर्ण भूमिका है. पिछले दिनों बेंगलुरु में एच डी कुमारस्वामी के कर्नाटक के मुख्यमंत्री के रूप में ताजपोशी के दौरान मंच पर मायावती और सोनिया गांधी के बीच काफी गर्मजोशी दिखी थी. इसलिए मायावती की इस कार्रवाई को डैमैज कंट्रोल की कोशिश के तौर पर भी देखा जा रहा है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
सदियों में एक बार ही होता है कोई ‘अटल’ सा...

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi