S M L

चारा घोटाला: CBI कोर्ट कल करेगी लालू यादव समेत 16 दोषियों की सजा का ऐलान

रांची में सीबीआई कोर्ट ने 23 दिसंबर को लालू को केस नंबर 64ए/96 में दोषी पाया, यह मामला 1994-96 के बीच का है जब लालू बिहार के मुख्यमंत्री थे

Updated On: Jan 03, 2018 12:34 PM IST

FP Staff

0
चारा घोटाला: CBI कोर्ट कल करेगी लालू यादव समेत 16 दोषियों की सजा का ऐलान
Loading...

चारा घोटाला मामले में सीबीआई की विशेष अदालत द्वारा दोषी ठहराए गए आरजेडी अध्यक्ष और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव के सजा का ऐलान कल यानी गुरुवार को होगा. इसके पहले कोर्ट ने आज की तारीख में सजा का ऐलान करने की बात कही थी. लालू यादव सीबीआई कोर्ट पहुंच चुके थे. लेकिन बाद में खबर आई कि सजा का ऐलान अब कल होगा. कोर्ट ने वकील विंदेश्वरी प्रसाद के निधन हो जाने की वजह से सजा के ऐलान को कल के लिए टाल दिया.

इसके पहले सीबीआई कोर्ट में सजा के ऐलान से पहले भारी गहमागहमी थी. कोर्ट के बाहर लालू समर्थकों की भीड़ जुट चुकी थी.

रांची की स्पेशल सीबीआई कोर्ट ने आरजेडी नेता रघुवंश प्रसाद, तेजस्वी यादव और मनोज झा को भी समन किया है. इन तीनों को अदालत की अवमानना का दोषी माना गया है और 23 जनवरी को कोर्ट में पेश होने को कहा गया है.

इस बीच सजा के ऐलान से पहले सीबीआई कोर्ट के बाहर सुरक्षा व्यवस्था सख्त की गई. कोर्ट के बाहर रैफ के जवान तैनात किए गए. सुरक्षा में चार डीएसपी लगाए गए. 300 जवान बॉडी प्रोटेक्टर के साथ मुस्तैद हैं.  न्यायाधीश शिवपाल सिंह की कोर्ट में सजा का ऐलान होना था.

इसके पहले उनके दोनों बेटों तेजप्रताप और तेजस्वी यादव ने मंदिर जाकर पूजा अर्चना की.

23 दिसंबर को रांची में सीबीआई ने उनको इस मामले में दोषी ठहराया था. लालू के अलावा 16 अन्य लोगों को भी इस मामले में दोषी ठहराया गया था, उनकी सजा का ऐलान भी आज ही होना है.

वहीं, बिहार के एक और पूर्व मुख्यमंत्री जग्ननाथ मिश्र को बरी कर दिया था. मिश्र के अलावा बिहार के पूर्व मंत्री विद्यासागर निषाद और पीएसी के तत्कालीन अध्यक्ष ध्रुव भगत, हार्दिक चंद्र चौधरी, सरस्वती चंद्र और साधना सिंह को बरी कर दिया था.

सीबीआई की विशेष अदालत के इस फैसले के बाद दोषी ठहराए गए 16 लोगों को हिरासत में लेकर रांची के बिरसा मुंडा जेल में भेज दिया गया था.

रांची में सीबीआई कोर्ट ने 23 दिसंबर को लालू को केस नंबर 64ए/96 में दोषी पाया. यह मामला 1994-96 के बीच का है जब लालू बिहार के मुख्यमंत्री थे. उस समय फर्जी बिल के आधार पर मवेशियों के चारा के लिए 85 लाख रुपए निकाले गए. अदालत ने 950 करोड़ रुपये के चारा घोटाले से जुड़े देवघर कोषागार से 89 लाख़, 27 हजार रुपए की अवैध निकासी के मामले में लालू प्रसाद यादव एवं अन्य के खिलाफ सीबीआई ने आपराधिक षड्यंत्र, गबन, फर्जीवाड़ा, साक्ष्य छिपाने, पद के दुरुपयोग आदि से जुड़ी धाराएं लगाई थी.

इस केस के अलावा लालू चारा घोटाले के एक अलग मामले में दोषी करार दिए जा चुके हैं. 2013 में इसी कोर्ट ने उन्हें ये फैसला सुनाया था. सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें इस मामले में बेल दिया था, तब से वो जेल से बाहर थे.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi