S M L

गुजरात: पांचवी बार के कांग्रेसी विधायक ने छोड़ी पार्टी, BJP सरकार में बने मंत्री

सौराष्ट्र ने लोकसभा में चार सांसदों को भेजा है. 2017 में राज्य विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने सौराष्ट्र में 54 सीटों में से 30 सीटों पर जीत दर्ज की थीं, जो 2012 की तुलना में 14 अधिक थी

Updated On: Jul 04, 2018 11:39 AM IST

FP Staff

0
गुजरात: पांचवी बार के कांग्रेसी विधायक ने छोड़ी पार्टी, BJP सरकार में बने मंत्री

कांग्रेस के ओबीसी नेता कुंवरजी बावलिया ने मंगलवार कांग्रेस का दामन छोड़ बीजेपी का हाथ थाम लिया. अब वह गुजरात में विजय रूपाणी के नेतृत्व वाली सरकार में कैबिनेट मंत्री बन गए हैं.

बावलिया ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर 'पार्टी में जाति की राजनीति करने का आरोप' लगाते हुए इसे ही पार्टी छोड़ने की वजह बताई है. अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस के लिए इसे एक बड़ा झटका माना जा रहा है.

गुजरात बीजेपी अध्यक्ष जीतू वघानी ने बावलिया का बीजेपी में स्वागत किया. वहीं राज्यपाल ओपी कोहली ने उन्हें पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई. कुछ ही घंटों में तेजी से हुए घटनाक्रम में बावलिया ने कांग्रेस से इस्तीफा दिया और बीजेपी कार्यालय गए और पार्टी में शामिल हो गए. गांधीनगर में राजभवन में उन्होंने मंत्री के रूप में शपथ ली. कांग्रेस सूत्रों ने बताया कि राहुल गांधी को किये एक ईमेल में इस्तीफे के बारे में सूचित किया गया और बावलिया ने राज्य में पार्टी के कामकाज को लेकर नाखुशी जताई.

उन्होंने पत्रकारों से बातचीत में आरोप लगाया कि राहुल गांधी पार्टी संगठन के भीतर जातिवादी राजनीति को प्रोत्साहित कर रहे हैं. सौराष्ट्र से ओबीसी में आने वाले कोली समुदाय के लोकप्रिय नेता बावलिया पार्टी की सदस्यता और विधायक पद से इस्तीफा देने के बाद सीधे गुजरात बीजेपी के मुख्यालय पहुंचे थे. चार बार विधायक रहे बावलिया फिलहाल जसदान सीट से विधायक थे. उन्होंने पद से अपना इस्तीफा गुजरात विधानसभा के अध्यक्ष राजेन्द्र त्रिवेदी को सौंपा. कोली समुदाय के लोकप्रिय नेता बावलिया के इस्तीफे को 2019 में होने जा रहे लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है. बावलिया का कहना है कि कांग्रेस में रहते हुए वह जनता की आकांक्षाओं को पूरा करने में सक्षम नहीं थे.

उन्होंने कहा , ‘पार्टी में लगातार झगड़े के कारण मैं कांग्रेस में रहते हुए उस प्रकार काम नहीं कर पा रहा था, जैसा मैं करना चाहता था. यह (बीजेपी) सरकार एक मिशन के साथ आगे बढ़ रही है, और मैं जनता, ग्रामीण क्षेत्रों, गरीबों और किसानों की आकांक्षाओं को पूरा करने में सफल रहूंगा.’

उन्होंने कहा , ‘राहुल जी जिस प्रकार से जाति की राजनीति कर रहे हैं , मुझे एहसास हुआ कि मैं अब और कांग्रेस में काम नहीं कर सकूंगा.’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ करते हुए बावलिया ने कहा, ‘अतीत में भी तत्कालीन मुख्यमंत्री और अब प्रधानमंत्री नरेंद्र भाई मुझसे बहुत करीब से जुड़े रहे हैं. वह मुझसे कहा करते थे कि हमें आपके जैसे लोगों की जरूरत है.’

उन्होंने कहा, ‘मैं लगातार देख रहा हूं कि हमारे प्रधानमंत्री किस तरह काम कर रहे हैं. देश की अर्थव्यवस्था को उन्होंने जो दिशा दी है, मैं उसका समर्थन करता हूं.' बावलिया ने कहा, नरेंद्र भाई और अमित भाई (बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह) देश को प्रगति की राह पर ले जा रहे हैं.

बावलिया के पार्टी में शामिल होने के बाद प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष जीतू वघानी ने कहा कि इससे बीजेपी , नरेन्द्र भाई और अमित भाई का हाथ मजबूत होगा. हम ओबीसी सहित सभी समुदायों को साथ लेते हुए देश का विकास करेंगे. इस बीच प्रदेश कांग्रेस प्रमुख अमित चावडा ने बावलिया के निर्णय को ‘अवसरवादिता’ बताया. कई सालों से लगातार उन्हें निर्वाचित करने वाले कांग्रेसी मतदाताओं को उन्हें (बावलिया) को जवाब देना होगा.

इस समय सौराष्ट्र में कम से कम 20 विधानसभा क्षेत्रों में बड़ी संख्या में कोली समुदाय के लोग है. सौराष्ट्र ने लोकसभा में चार सांसदों को भेजा है. 2017 में राज्य विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने सौराष्ट्र में 54 सीटों में से 30 सीटों पर जीत दर्ज की थीं, जो 2012 की तुलना में 14 अधिक थी. बीजेपी की सीटों की संख्या 2012 में 35 से कम होकर 23 हो गई थी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi