S M L

हाशिए पर है कांग्रेस, मोदी ने देश को दिया स्थिर और भ्रष्टाचार मुक्त शासन: जेटली

मोदी सरकार के चार साल पूरे होने के मौके पर जेटली ने फेसबुक पर लिखा कि बीते चार साल में मोदी सरकार ने ‘भ्रष्टाचार मुक्त’ प्रशासन दिया है

Bhasha Updated On: May 26, 2018 05:00 PM IST

0
हाशिए पर है कांग्रेस, मोदी ने देश को दिया स्थिर और भ्रष्टाचार मुक्त शासन: जेटली

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने हाल ही में किडनी ट्रांसप्लांट करवाया है. शुक्रवार को ही खबर आई थी कि उन्हें आईसीयू से निकालकर प्राइवेट वार्ड में शिफ्ट किया गया है. तबियत में सुधार आते ही अरूण जेटली फेसबुक पर सक्रिय हो गए हैं.

मोदी सरकार के चार साल पूरे होने के मौके पर शनिवार को उन्होंने फेसबुक पर लिखा कि बीते चार साल में मोदी सरकार ने ‘भ्रष्टाचार मुक्त’ प्रशासन दिया है और भारत आज विदेशी निवेश पर निर्भर ‘पांच उभरती अर्थव्यवस्थाओं’ की सूची से निकलकर वैश्विक मंच पर ‘आकर्षक गंतव्य’ बन गया है.  उन्होंने कहा है कि अब सरकार का ध्यान, अब तक की गई पहलों को मजबूत बनाने पर रहेगा.

'मोदी ने बनाया है ट्रांसपेरेंट सिस्टम'

जेटली ने लिखा है कि इसे पहले यूपीए सरकार के दस साल में देश में स्वतंत्रता के बाद, सबसे भ्रष्ट सरकार देखने को मिली थी. उन्होंने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी ने विधायी व संस्थागत बदलावों के जरिए पारदर्शी सिस्टम बनाया है, जिससे इस देश को भ्रष्टाचार मुक्त सरकार मिली है. यूपीए के उलट  प्रधानमंत्री (मोदी) उनकी पार्टी व देश, दोनों के स्वाभाविक नेता हैं. ’

जेटली के अनुसार देश ने अनिर्णय की स्थिति से स्पष्टता व निर्णायकता की ओर यात्रा शुरू की है. उन्होंने लिखा है कि नीतिगत मोर्चे पर अपंगता वाली सरकार की जगह फैसलों व कार्रवाई वाले प्रशासन ने ली है. भारत दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था बन गया है और वह आने वाले कई साल तक यहां बना रहेगा इसकी पूरी संभावना है. उन्होंने कहा कि देश का ‘मूड’ निराशा से उम्मीद और आकांक्षाओं से भरा हो गया है.

उन्होंने कहा कि मोदी ने ऐसी प्रणाली स्थापित की है जहां ‘विवेकाधिकारों’ को समाप्त कर दिया गया है. उन्होंने कहा, ‘विवेकाधिकारों से अधिकारों के दुरुपयोग की आशंका होती है क्योंकि उनका दुरुपयोग किया जा सकता है. ठेकों, प्राकृतिक संसाधनों, स्पेक्ट्रम आदि का आवंटन अब बाजार आधारित व्यवस्था से होता है जबकि पहले उन्हें ‘विवेकाधिकारों’ पर बांटा जा रहा था.’

उन्होंने कहा, ‘कानूनों को बदला गया है. उद्योगपति अब बार-बार साउथ ब्लॉक, नार्थ ब्लॉक या उद्योग भवन के चक्कर लगाते नजर नहीं आते. पर्यावरणीय मंजूरी के लिए फाइलों का ढेर नहीं लगता है.’

'हाशिए पर खड़ी है कांग्रेस'

कांग्रेस की आलोचना करते हुए जेटली ने कहा कि पार्टी सत्ता से दूर रहकर हताश है. उन्होंने लिखा है, ‘ भारतीय राजनीति में एक समय महत्वपूर्ण स्थिति में रही पार्टी आज हाशिए की ओर बढ़ रही है. उसकी राजनीतिक स्थिति एक मुख्य धारा वाली पार्टी जैसी नहीं बल्कि वैसी है जैसा हाशिए पर खड़ा कोई संगठन अपनाता है. हाशिए पर खड़ा संगठन कभी भी सत्ता में आने की उम्मीद नहीं कर सकता.’

जेटली ने कहा, ‘उसकी अब यह उम्मीद बची है कि वह क्षेत्रीय दलों का समर्थक बने. राज्य स्तरीय क्षेत्रीय राजनीतिक दलों ने यह माना है कि हाशिए पर खड़ी कांग्रेस एक कनिष्ठ भागीदार बेहतर हो सकती है.’

इसके अलावा उन्होंने विपक्षी एकजुटता पर भी निशाने साधे. उन्होंने कहा कि देश आगे बढ़ने की आंकाक्षा रखने वाला है. वो हताश राजनीतिक दलों के अराजक गठजोड़ को स्वीकार नहीं करेगा. ये दल अगले आम चुनावों में बीजेपी के खिलाफ मिलकर लड़ने के लिए साथ आने का वादा कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि इस साल बहस का राजनीतिक एजेंडा अब नरेंद्र मोदी बनाम ‘अराजकतावादियों का गठजोड़’ होगा.

जेटली ने फेसबुक पर लिखा है, ‘हताश राजनीतिक दलों का एक समूह साथ आने का वादा कर रहा है. उनके कुछ नेता तुनकमिजाज हैं. अन्य मौके के हिसाब से अपने विचारों को बदलते हैं. टीएमसी, डीएमके, टीडीपी, बीएसपी और जेडी(स) जैसे उनमें से कइयों के साथ सत्ता में हिस्सेदारी करने का बीजेपी को अवसर मिला. वे बार-बार अपने राजनीतिक रुख में बदलाव लाते हैं.’

जेटली ने कहा कि गतिशील लोकतंत्र के साथ आगे बढ़ने की आकांक्षा रखने वाला कभी भी अराजकतावादियों को आमंत्रित नहीं करता. एक मजबूत देश और बेहतर राजकाज की जरूरतें अराजकता को पसंद नहीं करती.

 

 

 

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
DRONACHARYA: योगेश्वर दत्त से सीखिए फितले दांव

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi