विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

पांचवें चरण में दागी और करोड़पतियों की भिड़ंत

पांचवें चरण का मतदान 27 फरवरी को होगा. इस चरण में भी दागी और करोड़पति उम्मीदवारों की भरमार है.

Kinshuk Praval Kinshuk Praval Updated On: Feb 26, 2017 07:16 PM IST

0
पांचवें चरण में दागी और करोड़पतियों की भिड़ंत

यूपी विधानसभा चुनाव में 27 फरवरी को पांचवें चरण का मतदान होगा. इस बार 11 जिलों की 51 सीटों पर वोटिंग हो रही है. पांचवें चरण में बलरामपुर, गोण्डा, फैजाबाद, अम्बेडकर नगर, बहराइच, श्रावस्ती, सिद्धार्थनगर, बस्ती, संतकबीरनगर, अमेठी और सुल्तानपुर में मतदान होगा.

polling

इस बार कुल 617 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं. एडीआर की रिपोर्ट के मुताबिक इस बार 168 उम्मीदवार करोड़पति हैं. धनबल-बाहुबल के इस रण में बीएसपी की तरफ से सबसे ज्यादा दागी और करोड़पति उम्मीदवार हैं. बीएसपी ने 43 करोड़पति उम्मीदवार मैदान में उतारे हैं. वहीं बीजेपी ने 38 करोड़पति उम्मीदवार मैदान में हैं. जबकि समाजवादी पार्टी के 32 और कांग्रेस के 14 करोड़पति उम्मीदवार उतरे हैं.

Fifth Phase2ne

पांचवें चरण के सबसे अमीर उम्मीदवारों में बीजेपी के अजय प्रताप सिंह ने 49 करोड़ की संपत्ति का हलफनामा पेश किया है. बीजेपी के ही मयंकेश्वर शरण सिंह 32 करोड़ के मालिक हैं. जबकि कांग्रेस की अमिता सिंह ने 36 करोड़ की संपत्ति की जानकारी दी हैं. खास बात ये हैं कि 365 उम्मीदवारों ने इनकम टैक्स की डिटेल नहीं दी हैं तो 156 उम्मीदवारों ने अपने पैन की डिटेल नहीं दी है.

इस बार दागियों की भरमार

एडीआर की रिपोर्ट के मुताबिक इस बार सबसे ज्यादा दागी उम्मीदवार मैदान में हैं. करोड़पति उम्मीदवारों के बाद दागी उम्मीदवारों के मामले में भी बीएसपी ने बाजी मारी है. बीएसपी की तरफ से 23 दागी उम्मीदवार हैं. जबकि बीजेपी ने 21, समाजवादी पार्टी ने 17, कांग्रेस ने 3, रालोद ने 8 दागी उम्मीदवारों को मैदान में उतारा है. वहीं निर्दलीय उम्मीदवारों पर भी आपराधिक मामले दर्ज हैं.  दिलचस्प आंकड़ा ये है कि 22 सीटों पर 3 से ज्यादा दागी उम्मीदवार मैदान में हैं. 96 उम्मीदवारों पर गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं. 9 उम्मीदवारों पर हत्या , 24 पर हत्या का प्रयास और 8 उम्मीदवारों पर महिला उत्पीड़न के मामले दर्ज हैं.जबकि 4 उम्मीदवार ऐसे भी हैं जिनके खिलाफ अपहरण का मुकदमा दर्ज है.

साल 2012 में एसपी ने जीती थीं 37 सीटें

साल 2012 के विधानसभा चुनाव में 11 जिलों की 51 सीटों पर समाजवादी पार्टी ने जीत का परचम फहराया था. समाजवादी पार्टी ने 37 सीटें जीतकर मुकाबले को एकतरफा कर दिया था. जबकि बीएसपी को 3, कांग्रेस को 5, बीजेपी को 5 और पीईसीपी को 2 सीटें मिली थीं.

Fifth Phase3n

अमेठी से अखिलेश सरकार के मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति की प्रतिष्ठा दांव पर है. गैंगरेप का आरोप लगने के बाद गायत्री प्रजापति के सामने चुनाव जीतने की बड़ी चुनौती है.

गिरफ्तारी से बचने के लिये गायत्री प्रजापति ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की है जिस पर 6 मार्च को सुनवाई होगी.

खुद मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने प्रजापति के लिये रैली कर वोट मांगे हैं. गायत्री प्रजापति अपनी रैलियों में आंसू भी बहा चुके हैं. रेप के आरोप को साजिश करार दे रहे हैं. गायत्री प्रजापति को मुलायम सिंह का करीबी माना जाता है. खनन विभाग में हुए घोटालों के आरोप में प्रजापति पर सीबीआई  का शिकंजा कसा था जिसके बाद उन्हें कैबिनेट से बर्खास्त कर दिया गया था.

Gayatri Prajapati 2

अमेठी की ही सीट से राज्यसभा सांसद संजय सिंह की पत्नी अमिता सिंह और पहली पत्नी गरिमा सिंह भी आमने-सामने हैं. महलों के भीतर अधिकार की छिड़ी जंग अब चुनाव के जरिये जनता के घरों तक पहुंच चुकी है. जनता का फैसला ये तय करेगा कि अमेठी की असली महारानी कौन है.

AmitaSingh_GarimaSingh

अंबेडकरनगर की आलापुर सीट पर एक उम्मीदवार के निधन की वजह से वोटिंग 8 मार्च को होगी. पहले पांचवें चरण में 52 सीटों पर मतदान होना था.

 

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi