S M L

डेटा लीक: BJP का पलटवार, यूजर्स का डेटा सिंगापुर भेजती है कांग्रेस

बीजेपी के सोशल मीडिया हेड अमित मालवीय ने ट्वीट करके आरोप लगाया कि कांग्रेस अपनी ऑफिशियल ऐप इस्तेमाल करने वाले यूजर्स का डेटा सिंगापुर भेजती है.

FP Staff Updated On: Mar 26, 2018 01:29 PM IST

0
डेटा लीक: BJP का पलटवार, यूजर्स का डेटा सिंगापुर भेजती है कांग्रेस

प्रधानमंत्री पर नमो ऐप के जरिए डेटा ब्रीच का आरोप लगाने वाली कांग्रेस खुद इस मामले में फंसती नज़र आ रही है. रविवार को राहुल गांधी के मोदी पर आरोप लगाने के बाद अब बीजेपी के सोशल मीडिया हेड अमित मालवीय ने ट्वीट करके आरोप लगाया कि कांग्रेस अपनी ऑफिशियल ऐप इस्तेमाल करने वाले यूजर्स का डेटा सिंगापुर भेजती है. मालवीय ने ट्वीट किया, 'मेरा नाम राहुल गांधी है. मैं भारत की सबसे पुरानी पॉलिटिकल पार्टी का अध्यक्ष हूं. जब आप हमारी ऑफिशियल ऐप पर लॉगइन करते हैं तो मैं आपकी सारी जानकारी अपने दोस्तों को सिंगापुर भेजता हूं.'

 

बता दें कि रविवार को राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर आरोप लगाया था कि वे उनकी नमो ऐप पर लॉगइन करने वालों का डेटा अमेरिका भेजा जाता है. राहुल गांधी ने ये बात फ्रेंच रिसर्चर इलियट एल्डरसन के हवाले से कही, जिन्होंने आरोप लगाया था कि जिन लोगों नें भी नरेंद्र मोदी ऐप को डाउनलोड किया उनसे जुड़ी सूचना को बिना यूज़र की स्वीकृति के यूएस की कंपनी 'क्लीवर टैपट' को दे दिया जाता है. अमित मालवीय ने अगले ट्वीट में लिखा, 'अघोषित वेंडर्स और अज्ञात वॉलिंटियर्स को आपका डेटा देने के मामले में कांग्रेस को फुल मार्क्स.'

उन्होंने एक अन्य ट्वीट में लिखा, 'सोनिया गांधी के 'पूरी पावर, कोई जवाबदेही नहीं' से प्रेरित होकर कांग्रेस आपका पूरा डेटा ले लेगी और कैम्ब्रिज एनालिटिका जैसी संस्थाओं से शेयर करेगी. लेकिन वो इसकी कोई जिम्मेदारी नहीं लेगी. उनकी अपनी पॉलिसी तो ऐसा ही कहती है.'

बीजेपी और कांग्रेस लगातार एक-दूसरे पर कैंब्रिज एनालिटिका की सेवाओं का उपयोग करने का आरोप लगा रहे हैं. बीजेपी नें कांग्रेस पर आरोप लगाया था कि उसने गुजरात चुनावों को प्रभावित करने के लिए ब्रिटिश एनालिटिका की सेवाएं लीं. वहीं कांग्रेस ने इसको खारिज करते हुए कहा कि क्या बीजेपी ब्रिटिश एनालिटिका व भारत में इसकी पार्टनर ओवेलेनो बिज़नेस इंटेलीजेंस के खिलाफ एफआईआर दर्ज करेगी. वहीं राहुल गांधी ने इस मामले पर कहा कि मोदी सरकार इराक में मारे गए 39 हिन्दुस्तानियों के मामले से लोगों का ध्यान भटकाना चाहती है.

भारत ने कैम्ब्रिज एनालिटिका को नोटिस भेजा है और उन्हें अपने क्लाइंट व डेटा सोर्स का नाम बताने के लिए 31 मार्च तक का समय दिया है. फर्म के खिलाफ जिस तरही की जांच ब्रिटेन व अमेरिका में हो रही है उसी तरह की जांच भारत में भी हो सकती है.

क्या कांग्रेस ने डिलीट कर दी हैं अपनी ऑफिशियल ऐप?

 

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi