S M L

मौका मिला तो जरूर चुनाव लड़ूंगा : कन्हैया कुमार

फिलहाल सबसे पहले वह इस साल जुलाई तक अपनी पीएचडी पूरी करना चाहते हैं

Updated On: Jan 25, 2017 10:57 PM IST

FP Staff

0
मौका मिला तो जरूर चुनाव लड़ूंगा : कन्हैया कुमार

जेएनयू छात्रसंघ पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार से फ़र्स्टपोस्ट हिंदी पर वरिष्ठ पत्रकार अंबिकानंदन सहाय के साथ राजनीति के कई पहलुओं पर बातचीत की.

कन्हैया कुमार से जब यह पूछा गया कि क्या वह मुख्यधारा की पार्टियों के साथ आकर राजनीति करेंगे या नहीं. इसका जबाब उन्होंने देते हुए कहा कि वह मुख्यधारा की ही राजनीति कर रहे हैं.

मोदी विरोधी होने के सवाल के जबाब में जेएनयू के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष ने कहा कि वे मोदी का व्यक्तिगत रूप से विरोध नहीं करते हैं बल्कि वे मोदी की नीतियों और उसके पीछे की राजनीति का विरोध करते हैं. उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री हैं. अब उनसे अपेक्षा नहीं रखेंगे तो किससे अपेक्षा रखेंगे.

संसद से सड़क तक की राजनीति करेंगे

चुनाव लड़ने के सवाल पर कन्हैया कुमार ने कहा कि वे संसद से सड़क तक की राजनीति करेंगे. उन्होंने यह भी कहा कि फिलहाल सबसे पहले वह इस साल जुलाई तक अपनी पीएचडी पूरी करेंगे.

उन्होंने यह भी कहा कि चुनाव और राजनीति अलग-अलग नहीं हैं. चुनाव डेमोक्रेसी को बचाने का ज्यादा बड़ा प्लेटफार्म है और मौका मिलने पर जरूर चुनाव लड़ेंगे.

कन्हैया कुमार से बातचीत का पूरा वीडियो यहां देखें:

यह पूछे जाने पर कि वो किस राजनीतिक दल से अपने को करीब पाते हैं? कन्हैया कुमार का जबाब था कि वे मुद्दों के आधार पर किसी राजनीतिक दल से अपने को नजदीक या दूर पाते हैं.

किसी राजनीतिक दल का सदस्य नहीं हूं 

उन्होंने यह भी कहा कि वे किसी राजनीतिक पार्टी के सदस्य नहीं हैं. वे आल इंडिया स्टूडेंट फेडरेशन (एआईएसएफ) के सदस्य हैं जो एक जनसंगठन है. इस संगठन के सदस्य अटल बिहारी वाजपेयी और साहिर लुध्यानवी भी रह चुके हैं. इस संगठन का किसी राजनीतिक दल से संबंध नहीं है.

यूपी चुनाव और एसपी के कलह के बारे में पूछे गए सवालों के जबाब में उन्होंने कहा कि वे यूपी में किसी के लिए चुनाव प्रचार नहीं करेंगे. एसपी के झगड़े के बारे में उन्होंने कहा कि जो पुराना है उसे बदलना ही होगा या बदल ही जाना चाहिए.

फ़र्स्टपोस्ट के दर्शकों और पाठकों के लिए दिए गए संदेश में उन्होंने कहा कि किसी के कहे या सुने जाने पर किसी फैसले पर न पहुंचे. बल्कि अपने बुद्धि-विवेक का प्रयोग करके कोई फैसला लें.

आम बजट 2017 की खबरों को पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi