live
S M L

अर्थ आवर के दौरान दिल्ली ने बचाई 290 मेगावॉट बिजली

दुनिया भर में शनिवार शाम 8.30 बजे से 9.30 बजे तक अर्थ ऑवर का आयोजन किया गया था

Updated On: Mar 26, 2017 06:57 PM IST

IANS

0
अर्थ आवर के दौरान दिल्ली ने बचाई 290 मेगावॉट बिजली

दिल्ली ने अर्थ आवर के दौरान बत्तियां बुझा कर और बिजली के उपकरण बंद कर लगभग 290 मेगावॉट बिजली बचाई है. राजधानी में बिजली वितरण करने वाली कंपनियों ने ये जानकारी दी है.

क्या है अर्थ आवर का मकसद

वर्ल्ड अर्थ आवर पहल का मकसद ऊर्जा बचाना है. दुनिया भर में इसे शनिवार शाम 8.30 बजे से 9.30 बजे तक आयोजित किया गया.

बीएसईएस के एक प्रवक्ता ने कहा, 'बिजली की यह बचत पिछले साल की तुलना में अधिक है, जब दिल्ली ने 230 मेगावॉट बिजली बचाई थी.'

प्रवक्ता ने कहा कि कंपनी की दोनों शाखाएं- बीएसईएस राजधानी पावर लिमिटेड (बीआरपीएल) और बीएसईएस यमुना पावर लिमिटेड (बीवाईपीएल) ने लगभग 113 मेगावॉट और 95 मेगावाट बिजली बचाई, जो कुल मिलाकर 208 मेगावाट होती है. बीएसईएस की ये दोनों कंपनियां दिल्ली के बड़े हिस्से को बिजली सप्लाई करती हैं.

पिछले साल राजधानी में 270 मेगावॉट बिजली बची 

बीआरपीएल और बीवाईपीएल ने अर्थ आवर के दौरान अपने 400 से अधिक कार्यालयों में भी गैर-जरूरी सभी बत्तियां बुझा दी थीं.

दिल्ली में बीएसईएस के 40 लाख उपभोक्ता हैं, और पिछले साल राजधानी में इसने अर्थ आवर के दौरान लगभग 207 मेगावॉट बिजली बचाई थी.

राजधानी में बिजली वितरण से जुड़ी दूसरी कंपनी, टाटा पावर दिल्ली डिस्ट्रीब्यूशन लिमिटेड ने अर्थ आवर 2017 के दौरान 82 मेगावाट बिजली की बचत की.

कंपनी ने एक बयान जारी कर कहा कि, पिछले साल कंपनी ने अर्थ आवर के दौरान लगभग 55 मेगावॉट बिजली बचाई थी.

टाटा पॉवर उत्तरी और उत्तर-पश्चिम दिल्ली में बिजली वितरण की जिम्मेदारी संभालती है. कंपनी ने कहा कि ऊर्जा संरक्षण के प्रति जागरूकता लाने के लिए अपने वितरण इलाके में उपभोक्ताओं और रेजीडेंट वेलफेयर एसोसिएशंस के साथ मिलकर अर्थ ऑवर के दौरान कई जगह मोमबत्ती जुलूस भी निकाले गए.

अर्थ ऑवर वर्ल्ड वाइड फंड फॉर नेचर (डब्ल्यूडब्ल्यूएफ) द्वारा शुरू किया गया एक सालाना अंतर्राष्ट्रीय आयोजन है, जिसके तहत दुनिया भर में घरों और कारोबार में एक घंटे के लिए गैर-जरूरी बत्तियां और बिजली के उपकरण बंद किए जाते हैं.

डब्ल्यूडब्ल्यूएफ की यह पहल जलवायु परिवर्तन पर कार्रवाई की जरूरत पर जागरूकता पैदा करने के लिए है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi